पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोराेना संक्रमण:63 दिन बाद रिकवरी रेट 96.20% पहुंचा, 21 केस नए मिले, एक्टिव केस 453

राेहतक10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अब तक जिले में 25,633 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। - Dainik Bhaskar
अब तक जिले में 25,633 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं।
  • दो और मौत में पुष्टि-वायरस ने ली थी जान

कोरोना की दूसरी लहर में अब तेजी से केस घटने शुरू हुए हैं। 5 जून को पिछले 6 दिन में सर्वाधिक 178 कोरोना मरीज रिकवर हुए और 63 दिन बाद रिकवरी रेट 96.20 फीसदी पर दर्ज किया गया। जबकि कोविड पॉजिटिविटी रेट 5.78% पर दर्ज किया गया।

शनिवार को 21 नए केस मिल हैं। वहीं दो मौत में विभाग ने कोरोना से जान जाने की पुष्टि की है। अब सक्रिय केस घटकर 453 पर आ गए हैं। इनमें 318 मरीज होम आइसोलेशन में और 135 मरीज पीजीआई, सिविल अस्पताल व निजी अस्पताल में उपचाराधीन हैं। अब तक जिले में 25,633 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। इनमें 520 मरीजों की मौत हो चुकी है।

जिले में काेरोना के आंकड़े

  • 25,633 जिले में अब तक पाॅजिटिव मिले हैं
  • 24,660 कुल रिकवर हो घर लौट चुके हैं
  • 520 मौतें अभी तक हो चुकी हैं जिले में
  • 453 सक्रिय मरीज हैं जिले में
  • 4,43,273 लोगों की अब तक सैंपलिंग हो चुकी है जिसमें से 4,17,192 की रिपोर्ट निगेटिव आई है
  • 5.78% पॉजिटिविटी {प्रोटोकाॅल से शनिवार को श्मशान घाट पर कुल 1 शव का अंतिम संस्कार किया। ये रोहतक का था

ब्लैक फंगस; 48 घंटे में 2 की मौत, 8 की हुई सर्जरी

पीजीअाई के वार्ड 11 में दाखिल ब्लैक फंगस के मरीज।
पीजीअाई के वार्ड 11 में दाखिल ब्लैक फंगस के मरीज।

पीजीआई के मनोराेग विभाग में शुक्रवार शाम तक ब्लैक फंगस की सर्जरी करा चुके 40 मरीज एडमिट रहे। इन मरीजों के अनुसार इन्हें रोजाना एक से दो इंजेक्शन ही मिल पा रहे हैं। जबकि रोजाना जरूरत 6 से 12 इंजेक्शन तक है। पीजीआई में वार्ड-8, 11 और मनोरोग विभाग सहित मेडिसिन व अन्य वार्डों में ब्लैक फंगस के 168 मरीज उपचाराधीन हैं। वहीं एक मरीज को लेकर आरोप भी सामने आए हैं।

पानीपत के शहर में रहने वाले देवेंद्र ने बताया कि 64 वर्षीय बुजुर्ग पिता रोहतास को ब्लैक फंगस हो गया था। पहले उन्हें खानपुर मेडिकल कॉलेज ले गए, यहां पर 3 दिन रहे। वहां ब्रेन में फंगस का पता चला। रेफर होकर पीजीआई में पहुंचे।

आरोप है कि यहां 3 दिन दाखिल रहने के बाद भी डॉक्टरों ने सर्जरी नहीं की। 4 जून को मरीज को परिजन डिस्चार्ज करा ले गए और पानीपत में सर्जरी कराई। इधर, पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कोविड-19 अस्पताल के 566 काेविड बेड पर अब महज 90 कोरोना के मरीज भर्ती हैं, जिनमें 23 मरीज वेंटिलेटर पर हैं।

खबरें और भी हैं...