• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • After Waiting For Two And A Half Hours, The Residents Of Gandhi Camp Returned Disappointed, The CM Said I Will Study All The Matter First, Then I Will Meet

ज्ञापन सौंपने की सिफारिश:ढाई घंटे इंतजार करने के बाद निराश लौटे गांधी कैंप निवासी, सीएम बोले-पहले सारा मैटर स्टडी करूंगा, फिर होगी मुलाकात

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम से मिलने का इंतजार करते हुए गांधी कैंप निवासी। - Dainik Bhaskar
सीएम से मिलने का इंतजार करते हुए गांधी कैंप निवासी।
  • रेलवे एलीवेटेड ट्रैक से प्रभावित गांधी कैंप के दुकानदारों को पावर हाउस चौक पर बन रहे शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में दुकानें देने का मामला

अपने हक के लिए साढ़े 3 साल से सरकारी और नेताओं के कार्यालयों का चक्कर काट रहे रेलवे एलीवेटेड ट्रैक से प्रभावित गांधी कैंप के दुकानदारों को फिर निराश लौटना पड़ा। वरिष्ठ भाजपा नेता स्व. मंगलसेन की पुण्यतिथि पर गुरुवार को एमडीयू के राधाकृष्णन सभागार आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने आए सीएम मनोहर लाल से मिलने के लिए फरियादी दुकानदार सुबह साढ़े 10 बजे ही कार्यक्रम स्थल पहुंच गए। उनको मेयर मनमोहन गोयल की ओर से सीएम से मिलाने का आश्वासन दिया गया था।

गुरुवार सुबह भी मेयर ने दुकानदारों से बात की। राधाकृष्णन सभागार के मुख्य द्वार पर सीएम से मिलने की प्रतीक्षा कर रहे गांधी कैंप के दुकानदारों से भी सभागार में जाने से पहले मेयर ने सीएम से मिलाने का आश्वासन दिया। लेकिन मौके पर तैनात पुलिस अधिकारियों ने दुकानदारों को सीएम से मिलने नहीं दिया। एक दिन पहले बुधवार को गांधी कैंप के दुकानदारों ने मेयर मनमोहन गोयल से मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिलकर ज्ञापन सौंपने की सिफारिश की थी।

इस पर मनमोहन गोयल ने सीएम के पीए से बात की। इसके बाद गांधी कैंप के दुकानदारों को एमडीयू के राधाकृष्णन सभागार में बुलाया गया था। फिर भी उनको मायूस लौटना पड़ा। 2 दिन बाद बुलाई बैठक, करेंगे सामूहिक फैसला सीएम से मिलने गए गांधी कैंप निवासी जोनी मलिक, हरिओम नागपाल, अंकुर सपड़ा, पवन खुराना और पवन सलूजा ने बताया कि रेलवे एलीवेटेड ट्रैक से प्रभावित दुकानदारों की दो दिन बाद बैठक बुलाई है। इसमें पूरे प्रकरण पर विचार-विमर्श कर सामूहिक फैसला लिया जाएगा। दुकानदारों ने कहा कि रोजगार छिने जाने के बाद से उनका परिवार के लिए दोनों टाइम की रोटी जुटाना भी मुश्किल हो गया। रेलवे एलीवेटेड ट्रैक प्रोजेक्ट पूरा होने से पहले ही पूर्व मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर ने सभी प्रभावित दुकानदारों व मकान मालिकों के पुनर्वास का भरोसा दिलाया था। जो साढ़े तीन साल बाद भी अधूरा है। इससे पीड़ितों के बीच आक्रोश बढ़ रहा है। ऐसे हालात में लोग किसी भी समय आंदोलन के लिए विवश होंगे।

रेलवे एलीवेटेड ट्रैक से प्रभावित गांधी कैंप के दुकानदारों के मामले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि वे सबसे पहले सारा मैटर स्टडी करेंगे। इसके दुकानदारों से मुलाकात करेंगे। -मनमोहन गोयल, मेयर नगर निगम।

खबरें और भी हैं...