पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जन्मदिन:डोगराई फतह के महानायक को जीवन शतक पर सम्मान देने पहुंची बटालियन

रोहतक10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पाकिस्तान के डोगराई शहर पर फतह पाने वाले कैप्टन प्रताप सिंह के 100 साल का होने पर सम्मान करते जाट बटालियन के अफसर व अन्य।
  • 1965 युद्ध में पाक के डोगराई शहर पर कब्जा करने वाली 3 जाट बटालियन के सूबेदार मेजर प्रताप सिंह हुए सौ वर्ष के

पाकिस्तान के डोगराई शहर पर विजय करने के महानायक कैप्टन प्रताप सिंह ने जीवन के 100 साल पूरे कर लिए हैं। इस मौके पर अपने महानायक का जन्मदिन मनाने 3 जाट बटालियन की टीम उनके पास पहुंची। सेक्टर-4 स्थित हरियाणा पूर्व सैनिक संघ भवन में बटालियन के पूर्व कमान अधिकारी रहे मेजर जनरल श्योराज सिंह अहलावत की अगुवाई में बटालियन के उप कमान अधिकारी मेजर युवराज के साथ जेसीओ सूबेदार कुलदीप सिंह व 17 जवानों ने कैप्टन प्रताप सिंह को सैल्यूट किया।

उनके सेवा काल के फोटो का संग्रह भी भेंट किया। वहीं मेजर जनरल एसएस अहलावत और हरियाणा पूर्व सैनिक संघ के प्रधान कर्नल टेकचंद दहिया समारोह स्थल तक ले गए। पूर्व सैनिकों की तरफ से पगड़ी, शाॅल, डोगा व स्मृति चिन्ह भेंटकर अभिनंदन किया।

इस दौरान हरियाणा पूर्व सैनिक संघ के प्रधान कर्नल टीसी दहिया, कैप्टन लक्ष्मी नारायण, कैप्टन बनवारी लाल, कैप्टन जगबीर मलिक ने भी समारोह को संबोधित किया। इसके अलावा कैप्टन परसा राम, शौर्य चक्र विजेता कैप्टन राजवीर सिंह, नायक नरेश व सतगामा प्रधान प्रकाश सिंह बधवार सहित कई ग्रामीण भी उपस्थित रहे।

कैप्टन प्रताप सिंह की जुबानी, डोगराई फतह की कहानी

5 सितंबर 1965 काे पाक ने भारत पर आक्रमण किया था। पाक सैनिक भारतीय सीमा में अंदर तक घुस आए। तत्कालीन प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री ने सेना को हमले का मुंह तोड़ जवाब देने का आदेश दिया। तब 3 जाट बटालियन अमृतसर के पास खासा सेक्टर में तैनात थी। आदेश मिलते ही यूनिट ने कर्नल डीई हाएड और सूबेदार मेजर प्रताप सिंह के नेतृत्व में पाक पर धावा बोल दिया। 6 सितंबर की शाम पाक के शहर डोगराई पर कब्जा कर लिया। फिर आदेश मिले की वहां से वापसी कर पाक क्षेत्र में ही दूसरा मोर्चा संभालें।

यूनिट ने ऐसा ही किया। 21 सितंबर फिर डोगराई पर कब्जा करने का आदेश मिला। लेकिन तब तक पाक की 3 बलोच, 1 पंजाब, 1 बलाेच व 16 पंजाब के नाम से बटालियन मोर्चाबंदी कर चुकी थी। इतनी बड़ी सेना से 3 जाट बटालियन अकेले भिड़ी। पाक के 372 सैनिकों को मौत के घाट उतारा। 106 सैनिकों को युद्ध बंदी बनाया। पर डोगराई पर फिर से तिरंगा फहरा दिया। युद्ध के बाद प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री खुद 3 जाट बटालियन पहुंचे थे और जवानों को डोगराई फतह की बधाई दी थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें