कॉमनवेल्थ में अमित का गोल्डन पंच:गांव ने साथ बैठकर देखा मैच, पिता बोले- बेटे ने दिखाया दुनिया में क्यों है नंबर-1 बॉक्सर

रोहतक4 महीने पहले

हरियाणा के रोहतक के बॉक्सर अमित पंघाल ने रविवार को कॉमनवेल्थ मुकाबले में देश को एक और गोल्ड दिला दिया। गांव मायना स्थित उनके घर में मैच देखने के लिए बड़ा LED लगाया गया था। परिवार वालों के साथ आस पड़ोस के बुजुर्गों और महिलाओं ने भी अमित पंघाल के मैच का आनंद लिया। मैच के दौरान माहौल में कई बार जहां माहौल सन्नाटे वाला रहा तो कई बार तालियां भी जमकर गुंजी। घर में मौजूद हर व्यक्ति सांस रोक कर अमित का मैच देख रहा था।

अमित का मैच देखने के लिए मायना गांव के घर में जुटे बुजुर्ग, महिलाएं व अन्य।
अमित का मैच देखने के लिए मायना गांव के घर में जुटे बुजुर्ग, महिलाएं व अन्य।

अमित पंघाल ने गोल्ड जीता तो धमाल मच गया। महिलाएं तालियां बजा कर नाचने लगी तो बुजुर्ग भी गांव के बेटे को शुभाशीष और उनके पिता व अन्य परिजनों को बधाई देने लगे। अमित के पिता विजेंद्र सिंह ने कहा कि बेटे ने दिखा दिया है कि वो दुनिया का नंबर-1 बॉक्सर है। फिलहाल जीत के बाद से अमित के घर में खुशी का माहौल है। महिलाएं नाच रही हैं और युवा मिठाई बांटने में लगे हैं।

इंग्लैंड से गोल्ड लेकर लौटने वाले बेटे अमित पंघाल का स्वागत कैसे करना है, परिवार इस पर भी चर्चा करने लगा है। परिवार चाहता है कि अब अमित कुछ समय उनके बीच में ही रहे। कॉमनवेल्थ और अन्य मैचों की तैयारियों के चलते पंघाल काफी समय समय से परिजनों के लिए समय नहीं निकाल पाए हैं। कई महीने से घर से बाहर हैं।

अमित के गोल्ड जीतने के बाद घर में मिठाई खिलाते हुए।
अमित के गोल्ड जीतने के बाद घर में मिठाई खिलाते हुए।

बड़ा भाई भी आया छुट्‌टी पर

अमित पंघाल का बड़ा भाई अजय भी बॉक्सिंग खेलता है। अजय ने राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में अपने पंच का दम दिखाया और सेना में भर्ती हो गए। वह 10 दिन की छुट्‌टी पर घर आए हैं। अजय ने परिवार के साथ ही बैठकर अमित का मैच देखा। भाई की जीत पर जमकर खुशी मनाई। उन्होंने ही अपने छोटे भाई अमित को बॉक्सिंग खेलने के लिए प्रेरित किया था। अजय ने कहा कि भाई ने दिल खुश कर दिया। इंग्लैंड से लौटने पर गले लगाकर बधाई दूंगा। अमित का स्वागत कैसे हो इसको लेकर परिवार चर्चा कर फैसला लेगा।

सेमीफाइनल मुकाबला जीतने पर खुशी मनाते हुए अमित पंघाल के माता-पिता व अन्य
सेमीफाइनल मुकाबला जीतने पर खुशी मनाते हुए अमित पंघाल के माता-पिता व अन्य

पिता ने गांव में ही बना दिया था अखाड़ा:3 साल की उम्र में बांधा लंगोट; गोल्ड जीतकर भावुक हुए नवीन कुमार, जन गण मन भी गाया

पिता बोले- बेटे की तैयारी दमदार थी

अमित पंघाल ने सेमीफाइनल मुकाबला जीतने के बाद अपने पिता विजेंद्र सिंह से बात की। इस दौरान जब पिता ने अमित से फाइनल मुकाबले के बारे में पूछा तो उनका कहना था कि यह मुकाबला भी वह एकतरफा जीत लेगा। अब गोल्ड जीतने के बाद पिता विजेंद्र ने कहा कि बेटे ने जमकर तैयारी की थी। इसके लिए परिजनों से भी दूर रहे। भरोसा था कि बेटा गोल्ड लेकर आएगा। पंघाल ने देश का मान रखा है।

जीत के साथ ही अमित के घर पर भी लहराया तिरंगा।
जीत के साथ ही अमित के घर पर भी लहराया तिरंगा।

लगातार जीत से बढ़ा हौसला

अमित पंघाल कॉमनवेल्थ गेम में लगातार मुकाबले जीत रहे हैं। जिससे हौसला बढ़ा हुआ है। घर से जाने से पहले उन्होंने अपने परिवार से गोल्ड मेडल जीतने की बात कही थी। उसी सपने को पूरा करने के लिए अमित पंघाल आज रिंग में उतरे तो परिवार ही नहीं बल्कि पूरे देश-दुनिया के लोगों की नजरें उन पर थी। अमित के पिछले मैचों को देखते हुए आरंभ से ही माना जा रहा था कि अमित का गोल्ड पक्का है, लेकिन मैच में कुछ पल ऐसे रहे, जबकि मौजूद लोग अपना सांस रोके रहे।

अमित की जीत के बाद पिता विजेंद्र सिंह व भाई अजय पत्रकारों से बात करते हुए।
अमित की जीत के बाद पिता विजेंद्र सिंह व भाई अजय पत्रकारों से बात करते हुए।

कॉमनवेल्थ में हरियाणा का जलवा:पहलवानों ने लगाई मेडलों की झड़ी; रवि, विनेश और नवीन को गोल्ड, पूजा व संदीप को ब्रॉन्ज,सरकार करेगी सम्मानित

ये मेडल जीत चुके अमित

अमित पंचाल ने बॉक्सिंग में बड़ों-बड़ों को धूल चटाकर अपनी अलग ही पहचान बनाई है। अमित पंघाल ने वर्ल्ड चैम्पियनशिप में सिल्वर मेडल, 2018 में हुए एशियन गेम में गोल्ड मेडल, कॉमनवेल्थ गेम 2018 में सिल्वर मेडल जीता था। एशियन चैंपियनशिप 2017 में ब्रॉन्ज मेडल, 2019 में गोल्ड मेडल और 2021 में सिल्वर मेडल जीता है।