पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तैयारियां शुरू:12वीं की परीक्षा परिणाम का पैटर्न तय करेगी सीबीएसई की 12 सदस्यीय कमेटी

राेहतक17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • परिणाम परीक्षा के लिए 2 हफ्ते में मूल्यांकन मापदंड तय करने में जुटा बोर्ड

सीबीएसई की 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने के बाद बोर्ड ने परीक्षार्थियों के परिणाम जारी करने की तैयारियां शुरू कर दी है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 12वीं के मूल्यांकन के लिए क्राइटेरिया बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। इसमें 10 से 15 दिन का समय लग सकता है।

शिक्षाविदों के अनुसार बोर्ड जो भी पॉलिसी तैयार करेगा वह बच्चों के लिए कारगर साबित होगी। यह पॉलिसी थ्योरी व प्रैक्टिकल दोनों पर आधारित होगी। वहीं, सीबीएसई ने 12वीं के परिणाम का मानदंड तैयार करने के लिए 12 सदस्यीय उच्च अधिकार समिति का गठन किया है।

सीबीएसई के अधिकारियों की मानें तो परिणाम समयबद्ध तरीके से अच्छी तरह से परिभाषित वस्तुनिष्ठ मानदंडों के अनुसार तैयार किए जाएंगे। जो विद्यार्थी ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया से प्राप्त नंबरों से संतुष्ट नहीं होंगे, उनको कोरोना वायरस की स्थिति के सामान्य होने के बाद ऑफलाइन या ऑनलाइन परीक्षा में बैठने का विकल्प दिया जाएगा।

सीबीएसई में मूल्यांकन क्राइटेरिया तय करने के लिए जिस 12 सदस्यीय कमेटी का गठन किया है, वह 10 दिनों में बोर्ड को अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। कमेटी की पहली बैठक जल्द होगी। परिस्थितियों के अनुसार बारहवीं का रिजल्ट जुलाई के अंत तक आने की संभावना है।

3 साल की परफॉर्मेंस पर एसेसमेंट पॉलिसी और इंटरनल एग्जाम के आधार पर जारी हो सकते हैं परिणाम

कमेटी के लिए चुने शिक्षा मंत्रालय से लेकर यूजीसी व स्कूल प्रतिनिधि

सीबीएसई ने 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थियों के मूल्यांकन का मानदंड तैयार करने के गठित उच्च अधिकार समिति में शिक्षा मंत्रालय से लेकर राज्यों, यूजीसी और स्कूलों का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया है। इसके तहत 12 सदस्यीय समिति में शिक्षा मंत्रालय में स्कूली शिक्षा के संयुक्त सचिव विपिन कुमार, शिक्षा निदेशक दिल्ली उदित प्रकाश, केंद्रीय विद्यालय संगठन की आयुक्त निधि पांडेय, नवोदय विद्यालय के आयुक्त विनायक गर्ग, चंडीगढ़ शिक्षा विभाग के निदेशक रूबिनदरजीत सिंह बरार, दो स्कूलों के प्रतिनिधि, एनसीईआरटी के प्रतिनिधि के साथ ही शिक्षा मंत्रालय व सीबीएसई के अधिकारियों को शामिल किया है।

अब 30 जून को जारी किया जाएगा 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम

सीबीएसई के अनुसार दसवीं-बारहवीं का रिजल्ट अलग-अलग जारी किया जाएगा। रिजल्ट तैयार करने में प्राथमिकता बारहवीं कक्षा को ही दी जाएगी। बोर्ड ने दसवीं के लिए तो पहले से ही टाइमलाइन तय की हुई है। पहले दसवीं का रिजल्ट 20 जून को जारी करना तय किया था, लेकिन बाद में बोर्ड ने इस तिथि को बढ़ाकर 30 जून कर दिया।

इसकी उम्मीद सबसे ज्यादा- 3 साल के परफॉर्मेंस आधार पर तय होंगे अंक

सूत्रों का कहना है कि स्कूल में स्टूडेंट्स की पुरानी परफॉर्मेंस के आधार पर ही सीबीएसई (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड) असेसमेंट पॉलिसी तैयार करेगा। कक्षा 10वीं की असेसमेंट पॉलिसी को देखते हुए यह 12वीं के लिए यह पॉलिसी तीन साल की परफॉर्मेंस के आधार पर तय हो सकती है।

इनमें कक्षा 10वीं के बोर्ड रिजल्ट के अलावा पीरियॉडिक टेस्ट, यूनिट टेस्ट, हाफ ईयर, मिड टर्म, फाइनल एग्जाम की परफॉर्मेंस देखी जा सकती है। हालांकि, सीबीएसई का कहना है कि अभी हम यह नहीं कह सकती है कि कौन सी परफॉर्मेंस देखी जाएगी और कितने मार्क्स दिए जाएंगे।

10वीं कक्षा के मुकाबले साबित हो सकती है चुनौती

सीबीएसई के 12वीं के एग्जाम कैंसिल होने के बाद विद्यार्थियों को सीबीएसई की असेसमेंट पॉलिसी का इंतजार है। मगर इस पॉलिसी को आने में करीब 10 दिन लग सकते हैं। हालांकि, सीबीएसई के लिए कक्षा 10वीं के मुकाबले 12वीं के विद्यार्थियों के लिए यह पॉलिसी बनाना एक बड़ी चुनौती हो सकती है क्योंकि ये विद्यार्थी स्कूल सिस्टम को छोड़कर हायर एजुकेशन सिस्टम में प्रवेश कर रहे हैं और इस असेसमेंट पॉलिसी से उनका आगे का रास्ता तय होगा।

जानें... कैसे तय होंगे स्टूडेंट को मिलने वाले अंक

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड इस साल बारहवीं कक्षा के छात्रों को बिना परीक्षा के ही पास करेगा। बारहवीं कक्षा के छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन प्रक्रिया के जरिए पास किया जाएगा। हालांकि, अभी बोर्ड की तरफ से इस बात की जानकारी नहीं दी गई है कि बारहवीं कक्षा के छात्रों को पास करने का आंतरिक पैमाना या मानदंड क्या होगा। सीबीएसई के अनुसार दो हफ्ते के भीतर मूल्यांकन मानदंड जारी कर दिए जाएंगे।

प्रयास यही रहेगा स्टूडेंट्स के लिए कारगर पॉलिसी बने

सीबीएसई बोर्ड 12वीं के लिए मूल्यांकन के लिए क्राइटेरिया बनाने की तैयारी शुरू कर दी है जिसमें 10-15 दिन का समय लग सकता है। बोर्ड का प्रयास है कि जो भी पॉलिसी तैयार हो वह बच्चों के लिए कारगर साबित हो। यह पॉलिसी थ्योरी व प्रैक्टिकल दोनों के लिए होगी। सीबीएसई ने 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थियों के मूल्यांकन का मानदंड तैयार करने के लिए 12 सदस्यीय उच्च अधिकार समिति गठित की है। मूल्यांकन मानदंड कैसा होगा, यह कमेटी तय करेगी। -एचके सिंह, डिस्ट्रिक्ट को-ऑर्डिनेटर सीबीएसई।

खबरें और भी हैं...