हाजिरी में गड़बड़ी / पार्षद करेंगे सफाई कर्मियों की हाजिरी में गड़बड़ी की जांच, कर्मियों ने नारेबाजी की

Councilors will investigate the disturbances in the attendance of sanitation workers, workers shouted slogans
X
Councilors will investigate the disturbances in the attendance of sanitation workers, workers shouted slogans

  • मेयर व 10 पार्षदों ने निगम कमिश्नर से मिलकर हाजिरी व राशन वितरण में गड़बड़ी का मुद्दा उठाया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:03 AM IST

रोहतक. मेयर मनमोहन गोयल की अगुवाई में शुक्रवार को पार्षदों ने अंबेडकर चौक स्थित नगर निगम कार्यालय में जाकर कमिश्नर प्रदीप गोदारा से मुलाकात की। पार्षदाें ने सफाई कर्मियों की हाजिरी में गड़बड़ी और कोरोना से प्रभाविताें काे बांटे गए राशन की जांच करने की मांग की। उन्हाेंने कहा कि सफाई कर्मचारियों की लिस्ट व तैनाती की जगह की लिस्ट सार्वजनिक करते हुए पार्षदों को सौंपी जाए ताकि मॉनिटरिंग हो सके। वहीं, जिन 26 हजार लोगों को राशन बांटा गया है उनकी लिस्ट भी सार्वजनिक की जाए। वहीं, सफाई कर्मचारियों ने निगम ऑफिस में नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग बेवजह उन्हें बदनाम कर रहे हैं। वे हर जांच के लिए तैयार हैं। इस मामले की जांच के लिए कमेटी गठित करने पर सहमति बनी। इसमें दो पार्षदों को भी शामिल किया जाएगा। निगम में कुल 741 सफाई कर्मचारी हैं, जिनमें से 487 अनुबंध पर हैं। 

इस अवसर पर उपस्थित पार्षद कृष्ण सहरावत, पार्षद तिलकराज, पार्षद धर्मेंद्र गुलिया पप्पन, पार्षद सोनू पावरिया, पार्षद जयभगवान ठेकेदार, पार्षद अनिल कुमार, पार्षद मंजूरानी के प्रतिनिधि विजेंद्र हुड्‌डा, पार्षद कंचन खुराना के प्रतिनिधि अशोक खुराना, पार्षद दीपिका नारा के प्रतिनिधि देवेंद्र ठेकेदार, पार्षद पूनम किलोई के प्रतिनिधि सूरजमल किलोई ने मेयर की मौजूदगी में पहले नगर निगम कमिश्नर प्रदीप गोदारा से इस प्रकरण पर बात की। कमिश्नर ने उनको बताया कि सफाई कर्मियों के वेतन मामले की पहले जांच चल रही है। इस पर जांच कमेटी में दो पार्षदों को शामिल करने को कहा गया। इसके लिए मेयर मनमोहन गोयल को दो पार्षदों का नाम देने को कहा गया। बैठक में नगर पालिका कर्मचारी संघ के प्रधान संजय बिड़लान संघ के पदाधिकारियों के साथ मौजूद रहे। इसी दौरान सफाई कर्मचारियों ने निगम कार्यालय परिसर में नारेबाजी की। संजय बिड़लान ने कहा कि मैं खुद चाहता हूं कि सफाई कर्मचारियाें के पूरे प्रकरण की जांच करवाई जाए। 

ज्ञापन में मांगी है सफाई कर्मचारियाें व राशन लेने वालाें की डिटेल : खुराना : पार्षद प्रतिनिधि अशोक खुराना ने बताया कि मीटिंग में सबसे पहले मेयर मनमोहन गोयल को ज्ञापन सौंपा गया है। इस पर बैठक में उपस्थित पार्षदों के हस्ताक्षर भी हैं। ज्ञापन में कहा गया है कि 200 कर्मचारी विभिन्न स्तर के अधिकारियों के निजी आवासों अथवा उनकी सेवा में लगे हैं। नगर निगम अधिकारियों की मिलीभगत से सफाई कर्मचारियों की फर्जी हाजिरी लगती है। सभी सफाई कर्मचारियों का नाम, पता, मोबाइल नंबर व नियुक्ति के स्थान की जानकारी पार्षदों को उपलब्ध कराई जाए। दूसरे जरूरतमंदों की मदद के लिए प्रशासन ने खाद्य सामग्री का वितरण गैर सरकारी संस्था द्वारा कराया है। इसमें धांधली की शिकायत है। लिहाजा राहत सामग्री का स्रोत व वितरण का ब्याेरा सार्वजनिक किया जाए। 

आरोप की करवाई जा रही जांच

^सफाई कर्मचारियों के मामले में आरोपाें की जांच चल रही है। बैठक में पार्षदों के सामने नगर पालिका कर्मचारी संघ के प्रधान संजय बिड़लान काे बुला लिया गया था। संजय बिड़लान ने अपना पक्ष रखा। इससे बात क्लीयर हो गई। सफाई कर्मचारियों की हाजिरी लगवाई जा रही है।
-प्रदीप गोदारा, कमिश्नर, नगर निगम।


^नगर निगम कमिश्नर प्रदीप गोदारा ने बैठक में आरोपाें की जांच के लिए कमेटी बनाने की बात की है। इसमें मुझसे दो पार्षदों के नाम मांगे गए हैं। सभी पार्षदों से बात करके दो पार्षदों का नाम दिया जाएगा। बैठक में पार्षदों की ओर से मुझे कोई ज्ञापन नहीं दिया गया है।- मनमोहन गोयल, मेयर, नगर निगम।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना