• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • DC Commissioner Was Not In The Meeting, The MP Canceled The Meeting And Said – Action Is Needed On The Previous Agendas

मीटिंग में मनमुटाव:बैठक में नहीं थे डीसी-कमिश्नर, सांसद ने मीटिंग कैंसिल कर कहा- पिछले एजेंडों पर एक्शन चाहिए

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में अधिकारियों की अनुपस्थिति पर ऐतराज जताते सांसद डॉ. अरविंद शर्मा। - Dainik Bhaskar
बैठक में अधिकारियों की अनुपस्थिति पर ऐतराज जताते सांसद डॉ. अरविंद शर्मा।
  • जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक अधिकारियों की अनुपस्थिति पर सांसद उखड़े
  • सांसद बोले- अम्रुत योजना का भट्‌ठा बैठा है, डीसी होते तो ठेकेदार पर एफआईआर कराते

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की शनिवार को हुई बैठक कैंसिल हो गई। वजह रही मीटिंग में डीसी कैप्टन मनोज कुमार, नगर निगम कमिश्नर नरहरि सिंह बांगड़, डीएफएससी समेत कई बड़े अधिकारियों की अनुपस्थिति। मीटिंग कैंसिल होने का फरमान सुनाया समिति के अध्यक्ष व सांसद डॉ. अरविंद शर्मा ने। दरअसल मीटिंग में जब सांसद डॉ. अरविंद कुमार शर्मा पहुंचे तो वहां डीसी कैप्टन मनोज कुमार, नगर निगम कमिश्नर नरहरि सिंह बांगड़, डीएफएससी समेत कई अधिकारी गैर हाजिर थे। डीसी की जगह एडीसी डॉ. महेंद्रपाल पहुंचे थे। डाॅ. अरविंद शर्मा अधिकारियों की अनुपस्थिति से खफा हो गए। उन्होंने इस पर मीटिंग कैंसिल होने की घोषणा करते हुए अधिकारियों की गैर हाजिरी का स्पष्टीकरण मांग लिया।

एडीसी महेंद्र पाल ने कैप्टन मनोज कुमार की तबीयत खराब होने का हवाला देकर समझाने की कोशिश की। लेकिन सांसद नहीं मानें। कहा कि जब उनकी तबीयत ठीक होगी तब मीटिंग कर लेंगे। इसके बाद उन्होंने शहर में अम्रुत योजना को लेकर बड़ी बात कही। सांसद ने कहा कि अम्रुत योजना का भट्‌ठा बैठा हुआ है। हर जगह हालात बिल्कुल खराब हैं। आज बैठक में डीसी होते तो मेरा मन था ठेकेदार पर एफआईआर दर्ज कराएंगे। इसके बाद उन्होंने अधिकारियों काे निर्देश जारी करते हुए कहा कि अगली बार जब भी बैठक होगी, हर अधिकारी अपने विभाग से जुड़ी समस्या पर लिए गए एक्शन की जानकारी देंगे। हालांकि सांसद में बाद में लोगों से उनकी समस्याएं सुनीं।

45 मिनट देरी से पहुंचे थे सांसद, बड़े अधिकारी फिर भी मिले नदारद

दरअसल बैठक विकास भवन में स्थित डीआरडीए के हॉल में शनिवार की दोपहर 12 बजे होनी थी। सांसद डॉ. अरविंद शर्मा, सीनियर डिप्टी मेयर राजकमल सहगल, एडीसी महेंद्र पाल दोपहर 12:44 बजे मीटिंग हॉल में पहुंचेे। मंच पर नजरें घुमाने के बाद सांसद ने कहा कि बड़े अधिकारियों के बिना मीटिंग बेमतलब है। तभी मीटिंग संचालक प्रोजेक्ट ऑफिसर दर्शन राठी ने कार्रवाई शुरू करने की अनुमति मांगते हुए कहा कि गत बैठक में 1 से 10 एजेंडे तक पर विचार-विमर्श हुआ था। उसके आगे से शुरुआत करें। इस पर सांसद ने कहा कि आगे तो तब चलेंगे, जब पिछले काम हो जाएं। इसके लिए पहले चर्चा हो चुके बिंदुओं पर अधिकारी बताएं कि क्या काम किए गए हैं। मीटिंग का मतलब रिजल्ट निकले। ये मीटिंग कैंसिल है।

भास्कर पैरलल- जिस अम्रुत योजना पर सांसद ने सवाल उठाए हैं उनकी हकीकत इससे भी बड़ी
दावा- पानी के 95 व सीवर के 50% कार्य हो चुके पूरे

अम्रुत योजना के तहत रोहतक शहर और नगर निगम की सीमा में शामिल बाेहर, बलियाणा, खेड़ीसाध, पहरावर, कन्हेली, सुनारिया खुर्द, सुनारिया कलां और कुताना बस्ती में पानी व सीवर सिस्टम पर लगभग 250 करोड़ खर्च होने थे। इसमें नई पाइप लाइन बिछाने, 6 जलशोधन संयंत्र, 3 सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट आदि पर काम किया जाना है। नगर निगम के अधिकारियों का दावा है कि पानी से जुड़े सारे प्रोजेक्ट का 95 प्रतिशत कार्य हो चुका है। पानी के 11 हजार कनेक्शन किए जा चुके हैं। जबकि सीवरेज का 50 फीसदी काम अभी तक बाकी है।

हकीकत- आधे इलाकों में लाइन नहीं, जहां बिछी वहां लेवल तक खराब

अम्रुत योजना के तहत पीने की पानी की बिछाई गई पाइप लाइनें, घरों में कनेक्शन, जल शोधन संयंत्र अभी तक चालू नहीं हैं। जनता को इसका कोई फायदा नहीं मिल रहा है। सबसे ज्यादा सीवर प्रोजेक्ट की स्थिति खराब है। बिना लेवल के ही सीवर लाइन मोहल्लों, कॉलोनियों व निगम में शामिल गांवों में बिछा दी गई। मेन पाइप से कनेक्शन नहीं किया गया। सीवर ओवरफ्लो हो रहे हैं। मामूली बरसात में ही जलभराव की स्थिति बन जाती है। पाइप लाइन बिछाने के लिए उखाड़ी गई गलियों व सड़कों की मरम्मत अभी तक नहीं कराई गई। उस पर चलना मुश्किल हो रहा है।

खबरें और भी हैं...