पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Every Day A Person Is Being Victim Of Cyber Thugs In The District, New Methods Have Been Cheated From 245 In 8 Months

जमापूंजी पर बढ़ा खतरा:जिले में रोज एक व्यक्ति हो रहा साइबर ठगों का शिकार, नए तरीके अपना 8 माह में 245 से ठगी

रोहतक12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • साइबर ठगों के जाल को नहीं तोड़ पा रही पुलिस

आज के दौर में लोग ऑनलाइन शॉपिंग को बढ़ावा दे रहे है। ऐसे में साइबर ठगों ने अपने पैर पसार लिए है। ठगों ने भी ऑनलाइन शॉपिंग, बैंक ट्रांजेक्शन से लेकर सोशल मीडिया तक पर अड्डा जमा लिया है। विशेष तौर पर फेस्टिवल सीजन में लोगों को सबसे ज्यादा ऑनलाइन ठगी का शिकार बनाया जाता है। उपभोक्ता ऑनलाइन बिल पेमेंट करने पर, किसी ई-कॉमर्स साइट से गैजेट खरीदने पर, एटीएम से कैश निकालने पर ठगी का शिकार हो रहे हैं।

पुलिस सूत्रों के अनुसार इस वर्ष में 8 महीने में साइबर ठगी की करीब 245 वारदातों को शातिर अंजाम दे चुके है। हैरत की बात यह है कि साइबर ठगी के अधिकतर मामले आज तक अनसुलझे हैं। पुलिस के पास इन आरोपियों को पकड़ने के लिए अभी तक कोई पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। पिछले पांच महीने से पुलिस साइबर ठगी की वारदातों का कोई खुलासा नहीं कर पाई। साइबर ठग आए दिन नए - नए तरीको से वारदातों को अंजाम दे रहे है। वहीं रोजाना साइबर ठगों के बदलते तरीकों से लोग भी उनके झांसे में आने से नहीं बच पा रहे हैं। हालांकि थोड़ी सी सावधानी अपना अपनी जमापूंजी बचा सकते हैं।

इस तरह की वारदातों को दे चुके हैं अंजाम

  • तीन महीने पहले एक वकील की सोशल मीडिया की आईडी हैक कर जज के रीडर को भी रिक्वेस्ट भेजी व उनसे 35 हजार रुपए की मांग की। रीडर ने गूगल पे के जरिए हैकर को 25 हजार रुपए भेज दिए थे। इस संबंध में केस दर्ज है।
  • तीन महीने पहले ही पुराना हाउसिंह बोर्ड की महिला ने अपना फ्रीज बेचने के लिए सोशल मीडिया पर डाला था। शातिर ने अपने आपको फौजी बता फ्रीज खरीदने के नाम पर 10 हजार रुपए ठग लिए थे।
  • एक महीने पहले कलानौर के वार्ड नंबर छह की महिला के दो सिम कार्ड पर 25 लाख रुपए की लाटरी निकलने का झांसा देकर शातिरों ने 25 लाख रुपए ठग लिए।
  • एक महीने पहले सांपला थाना में कुक के पास शातिरों ने बैंक में वेतन डालने के नाम पर एक लिंक भेजा। लिंक को ओपन करते ही दो बार में कुक के खाते से 80 हजार रुपए ठगों ने निकाल लिए थे।

सोशल मीडिया पर भी सक्रिय हुए साइबर ठग
सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर, चैटिंग साइट्स, ऑनलाइन कंज्यूमर कंप्लेंट, चैरिटी और क्राउड फंडिंग वेबसाइट्स, फेसबुक मैसेंजर पर भी ऑनलाइन ठगों की एक नई फौज खड़ी हो गई है। ये लोग इन साइट्स पर मौजूद लोगों की पर्सनल जानकारी का फायदा उठाते हैं। कुछ ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स ऐसी हैं, जिन पर ईमेल के जरिए लॉगइन करना होता है।

ई-शॉपिंग या बिल पेमेंट
ई-शॉपिंग या बिल पेमेंट के दौरान अगर सही वेबसाइट या पेमेंट चैनल नहीं चुनते हैं तो ठग कार्ड संबंधी जानकारी चुरा सकते हैं। ग्राहक का डेटा की स्ट्रोक लॉगिंग के जरिए कॉपी किया जा सकता है।

पब्लिक टर्मिनल और वाई-फाई
पब्लिक एरिया में लैपटॉप यूज करते हैं या पब्लिक वाई-फाई के जरिए मोबाइल ट्रांजेक्शन करने से बचना चाहिए। अनसेफ सर्फिंग के कारण ठग डाटा चोरी कर सकते है।

झूठे कॉल्स और ईमेल्स
फोन कॉल करके कस्टमर का सीवीवी नंबर या ओटीपी जुटाना और फिर पैसे निकाल लेने की घटनाएं पिछले कुछ वक्त में बढ़ गई हैं।

सिम स्वाइप फ्रॉड
आरोपी ग्राहक का एक नकली आईडी प्रूफ लेकर मोबाइल ऑपरेटर के पास जाता है और आपके नाम का डुप्लीकेट सिम कार्ड हासिल कर लेता है। ऑपरेटर ग्राहक का ओरिजनल सिम डी-एक्टिवेट कर देता है। आरोपी ग्राहक के नंबर के जरिए वन टाइम पासवर्ड बनाता है और ऑनलाइन ट्रांजेक्शन कर लेता है।

मोबाइल फोन एप्स
कई ऐसी एप हैं जो ग्राहक के फोन पर मौजूद डेटा तक पहुंच मांगते हैं। ऐसी एप को डाउनलोड करने से बचना चाहिए।

वेबसाइट की छानबीन के बाद ही करें खरीदारी
किसी भी वेबसाइट पर खरीदारी करने से पहले उसकी छानबीन करनी चाहिए। सबसे पहले उसका डोमेन नेम जरूर चेक करना चाहिए। देखें कि यूआरएल में एचटीटीपीएस हो न कि खाली एचटीटीपी। इसके बाद साइट की स्पेलिंग देखनी चाहिए ताकि डोमेन के नाम का पता चल सके। जिस कंपनी से सामान खरीद रहे हैं, उसकी प्रोडक्ट इश्योरेंस सर्विस लेनी चाहिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें