किसान आंदाेलन:किसानों ने घर और वाहनों पर काले झंडे लगा जताया विरोध, धरनों पर मनाया काला दिवस

रोहतक9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसान अांदाेलन के 100 दिन पूरे हाेने पर काले झंडे व बिल्ले लगाकर विरोध जताते किसान। - Dainik Bhaskar
किसान अांदाेलन के 100 दिन पूरे हाेने पर काले झंडे व बिल्ले लगाकर विरोध जताते किसान।
  • अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर 8 मार्च को महिलाएं संभालेंगी आंदोलन की कमान

भारतीय किसान यूनियन अंबावता के प्रदेश अध्यक्ष अनिल नांदल उर्फ बल्लू ने गांव में घर, वाहनों व टोल प्लाजा पर चल रहे धरनों पर काले झंडे लगाकर विरोध दर्ज करवाते हुए काला दिवस मनाया। नांदल सुबह केएमपी-केजीपी एक्सप्रेस-वे पर पहुंचे और 11 से 4 बजे तक जाम के दौरान किसानों का हौंसला बढ़ाते हुए कहा कि जब तक कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया जाता और एमएसपी पर कानून नहीं बन जाता, तब तक किसान आंदोलन जारी रखेंगे।

वे दोपहर बाद मकड़ौली टोल प्लाजा पर चल रहे अनिश्चितकालीन धरने पर पहुंचे और वहां काले झंडे लगवाए। भाकियू नेता अनिल नांदल ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर यह जाम लगाया गया है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन पिछले 100 दिन से लगातार शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है और सरकार किसानों की धैर्य की परीक्षा ले रही है।

इसके साथ-साथ उन्होंने बताया कि वह कोलकाता का दौरा करके लौटे हैं, जहां पर किसान आंदोलन की गूंज पहुंच चुकी है और भाजपा की वहां किरकिरी हो रही है। 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सभी धरनों पर खुद महिलाएं कमान संभालेंगी, क्योंकि महिला शक्ति ही इस आंदोलन की ताकत है। यह ताकत जिस भी आंदोलन को मिल जाती है वह आंदोलन सफल होना तय है। इस मौके पर राजकुमार उर्फ राजू मकड़ौली ने भी धरने को संबोधित किया।

कृषि कानून और बिजली बिल के खिलाफ आंदोलन करेंगे तेज

ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के नेताओं तथा कार्यकर्ता शनिवार को केएमपी एक्सप्रेस-वे पर चक्का जाम में भाग लिया और धरने में शामिल हुए। संगठन के प्रदेश सचिव जयकरण मांडौठी ने प्रदर्शनकारियों को कहा कि जब तक काले कानून रद्द नहीं किए जाते, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। तीन किसान विरोधी काले कानून और बिजली बिल 2020 के खिलाफ व न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी दर्जा दिलाने के लिए आंदोलन को और भी तेज किया जाएगा। चक्का जाम धरना स्थल पर महावीर सिंह, बलजीत, दिलीप सिंह, धीरे, रणसिंह, भारत, गोविंद, रणबीर सिंह, दिलबाग सिंह दलाल, रामकिशन तथा अन्यों ने भाग लिया।

सिर पर सिलेंडर लेकर बढ़ती महंगाई के खिलाफ सड़क पर उतरे कम्युनिस्ट

तहसीलदार को प्रधानमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस और रेलवे के किरायों में की बढ़ोतरी और शहर में बढ़ती गुंडागर्दी के खिलाफ शनिवार को डीसी कार्यालय पर प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा। कार्यकर्ताओं ने खाली गैस सिलेंडर के साथ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। माकपा कार्यकर्ताओं ने केंद्र की मोदी सरकार की दमन एवं तानाशाहीपूर्ण रवैया के खिलाफ एवं किसान आंदोलन के 100 दिन पूरे होने के प्रति एकजुटता प्रकट करते हुए काली पट्टियां भी बांधी हुई थी।

प्रदर्शन के बाद तहसीलदार गुलाब सिंह को ज्ञापन सौंपा गया। विरोध प्रदर्शन से पहले मानसरोवर पार्क में माकपा कार्यकर्ता एकत्रित हुए और सभा का आयोजन किया। सभा की अध्यक्षता माकपा जिला सचिव मंडल सदस्य जगमति सांगवान और बलवान सिंह ने की और संचालन प्रकाश सिंह ने किया। कार्यकर्ताओं को सीपीआईएम जिला सचिव कामरेड विनोद और राज्य कमेटी सदस्य सतबीर सिंह ने कहा कि मोदी सरकार आने के बाद से पेट्रोल और डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। पार्टी नेताओं ने सुनारिया चौक स्थित मिठाई की दुकान के संचालक से फिरौती मांगने वाले गिरोह की जल्द गिरफ्तार करने की मांग की।

इस अवसर पर कमलेश लाहली, अनीता, सत्यनारायण, रामभगत, सतवीर, दयानंद, कृष्णदत, सतबीर पाक्समा, ओम प्रकाश, रणबीर, एडवोकेट अतर सिंह हुड्डा, रामसेवक, धर्मबीर हुड्डा, संजीव सिंह, छात्र नेता प्रवीण, सुरेंद्र, अर्जुन, रीना व संजय भी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...