रोहतक का दुल्हन गोलीकांड:मुख्य आरोपी साहिल UP-हरियाणा बॉर्डर से गिरफ्तार; सोमवार को पुलिस अधिकारी प्रेसवार्ता करके करेंगे अहम खुलासे

रोहतक8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के रोहतक जिले में हुए दुल्हन गोलीकांड के मुख्य आरोपी साहिल को पुलिस ने उत्तर प्रदेश- हरियाणा बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी हरियाणा-यूपी की सीमा पर गांव पलड़ी जिला सोनीपत से दिखाई है। सोमवार को पुलिस अधिकारी प्रेसवार्ता करके अहम खुलासे करेंगे। मामले में शनिवार को पुलिस ने दो नाबालिगों को गिरफ्तार किया था। दोनों नाबालिग वरमाला से लेकर विदाई तक की अपडेट मुख्य आरोपी साहिल को देने में शामिल रहे। मुख्य आरोपी के साथ वारदात में शामिल रहे अन्य बदमाशों की धरपकड़ में पुलिस की चार टीमें दूसरे राज्यों में गई हुई हैं।

बता दें कि वारदात को तीन दिन से ज्यादा का समय बीत गया है और पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर में पीड़िता तनिष्का जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है। आरोपी साहिल और तनिष्का दोनों ही सांपला के रहने वाले हैं। साहिल की गिरफ्तारी होने से सांपलावासियों ने राहत की सांस ली है, क्योंकि उनमें साहिल का भय था। ग्रामीणों का कहना है कि साहिल आपराधिक प्रवृत्ति का शख्स है।

इससे पहले रविवार सुबह सांपलावासियों ने एक पंचायत की थी, जिसमें इलाके के 250 से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया था। सांपला थाना प्रभारी इंस्पेक्टर राजेंद्र बूरा भी इस पंचायत में पहुंचे थे। उन्होंने साहिल की गिरफ्तारी के लिए शाम तक का समय मांगा था। इस बीच खबर आ गई कि साहिल को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसे पुलिस टीम यूपी से पकड़कर रोहतक ला रही है।

रोहतक पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर में उपचाराधीन घायल दुल्हन तनिष्का।
रोहतक पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर में उपचाराधीन घायल दुल्हन तनिष्का।

पुलिस अफसर बनने का था तनिष्का का सपना

पीजीआई ट्रॉमा सेंटर में अपनी जिंदगी की लड़ाई लड़ रही तनिष्का स्कूल समय से ही पुलिस अफसर बनने का सपना देख रही थी। वह अकसर घर पर पुलिस की बड़ी अधिकारी बनने की बात कहती थी। मगर परिजनों के मुताबिक उक्त आरोपी साहिल पिछले काफी समय से तनिष्का को परेशान कर रहा था।

तनिष्का का इलाज कर रहे पीजीआईएमएस के डॉक्टरों का कहना है कि गोली लगने से उसकी गर्दन में छह से सात सेंटीमीटर का बड़ा छेद हो गया है। गर्दन में लगी गोली ने उसकी छाती को काफी नुकसान पहुंचाया है। एक गोली उसकी सांस और खाने की नली के पास फंसी हुई है। दूसरी गोली बाईं साइड की पसली में फंसी हुई है।

जबकि एक गोली बाईं साइड के पेट के निचले हिस्से में खून की नली में दबी हुई है। यह गोली सीटी स्कैन में ट्रेस हो चुकी है, लेकिन अभी स्थिति ऐसी नहीं है कि इन्हें निकाला जा सके। गोली लगने के कारण बाई साइड डायफ्रेम में तीन छेद हो चुके हैं। लीवर का हिस्सा और पेट में खून की तिल्ली भी डैमेज हो चुकी है। बड़ी आंत और खाने की थैली से भी गोली आरपार निकली हुई है। दाईं साइड का जबड़ा भी टूट चुका है।