पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का प्रकोप:हेल्थ टीम छह गांवों में पहुंची; 111 कोरोना संक्रमित मिले, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

रोहतकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इधर, हवन-यज्ञ के दौरान ग्रामीणों को महामारी से सावधानी बरतने को जागरूक करते आर्य प्रतिनिधि। - Dainik Bhaskar
इधर, हवन-यज्ञ के दौरान ग्रामीणों को महामारी से सावधानी बरतने को जागरूक करते आर्य प्रतिनिधि।
  • गांवों में हर दूसरे तीसरे घर में बुखार व खांसी के मरीज होने का पता चलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम अलर्ट

गांवों में हर दूसरे तीसरे घर में बुखार व खांसी के मरीज होने का पता चलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुक्रवार को 6 गांवों में डाॅक्टराें की टीम भेजकर रेंडम तरीके से ग्रामीणों की स्क्रीनिंग करवाई। टीम ने संदेह के आधार पर ग्रामीणों का कोरोना टेस्ट कराने के लिए सैंपल लेकर रैपिड एंटीजन किट व आरटी पीसीआर से जांच कराई।

देर शाम तक मिली टेस्ट रिपोर्ट में पिलाना गांव में 14, कटेसरा में 12, गुढ़ान में 29, आंवल में 16, लाहली में 23, मदीना में 8 टिटाैली गांव में 9 ग्रामीण काेराेना संक्रमित मिले हैं। वहीं, सुखद बात यह रही कि 24 घंटे में घिलाैड़ और टिटाैली गांव में काेई मौत नहीं हुई। बीडीपीओ राजपाल चहल ने बताया कि ग्रामीण अभी टेस्ट करवाने से हिचकिचा रहे हैं। इसके लिए जगह-जगह लगी बैठकों में जाकर शुक्रवार को एसएचओ सदर के साथ जाकर समझाया है। बड़ी चौपाल में बैठक कर काउंसलिंग भी की गई। अब शनिवार को घिलौड़ कलां के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में डॉक्टरों की टीम बैठ जांच करेगी।

सिविल सर्जन डॉ. अनिल बिरला ने बताया कि सभी सीएचसी व पीएचसी स्तर पर स्टाफ को गांवों में ग्रामीणों की स्क्रीनिंग के आधार पर कोविड टेस्ट कराने के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना मरीजों के लिए सीएचसी स्तर पर 10-10 बेड रिजर्व करने को कहा है। सीएचसी स्तर पर कोविड मरीज की मांग के अनुसार ऑक्सीजन मिलेगी। वहीं, टिटौली गांव में शुक्रवार को नौ ग्रामीण कोरोना संक्रमित मिले और 24 घंटे में कोई मौत न होने का दावा किया गया है।

कोरोना पॉजिटिव ग्रामीणों को होम आइसोलेट किया

कोरोना पॉजिटिव मिले ग्रामीणों को कोरोना लक्षणों के अनुसार दवा उपलब्ध कराकर होम आइसोलेट कर दिया है। आर्य समाज के प्रतिनिधियों ने जिला प्रशासन को टिटौली गांव में कोरोना केयर सेंटर के लिए ऑक्सीजन जनरेटर व 20 बेड देने का प्रस्ताव रखा है। सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रधान स्वामी आर्यवेश ने कहा कि स्वामी इंद्रवेश विद्यापीठ टिटौली की ओर से गांव के लोगों को इस संकट के दौर से निकालने व उन्हें ऑक्सीजन उपलब्ध करवाने के लिए इस कार्य की अपील प्रशासन से की है। उन्होंने कहा कि इसके लिए डॉक्टरों की टीम प्रशासन व जिला स्वास्थ्य विभाग व्यवस्था करें व उसको निरन्तर संचालित करने की जिम्मेदारी लें, ताकि आसपास के गांव के लोगों को भी उसका लाभ मिल सके।

खबरें और भी हैं...