• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • If The Traders Themselves Are In Favor Of Locking The Lockdown, Then The Meeting Should Be Decided By Calling The Meeting.

लॉकडाउन जरूरी:व्यापारी खुद ही लॉकडाउन लगाने पक्ष में हैं तो बैठक बुलाकर फैसला लेना चाहिए

राेहतक6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शौरी क्लाथ मार्केट में लॉकडाउन की मांग को लेकर बैठक करते व्यापारी। - Dainik Bhaskar
शौरी क्लाथ मार्केट में लॉकडाउन की मांग को लेकर बैठक करते व्यापारी।
  • बाजारों में भीड़ व काेराेना केस की रफ्तार राेकने के लिए उठी मांग

बाजाराें में बढ़ती भीड़ और काेराेना के केसाें की जानलेवा रफ्तार को देखते हुए अब व्यापारी खुद ही लॉकडाउन की मांग उठाने लगे हैं। एक दिन में हो रही 50 मौतें और 300 से ऊपर जा रहे संक्रमित केसों के रोजाना के आंकड़ों को देखते हुए अब लॉकडाउन लगाना जरूरी हो गया है। ऐसे में व्यापारिक संगठनों की ओर से मांग उठाई जा रही है।

साथ ही विधायक भारत भूषण बतरा ने डीसी कैप्टन मनोज कुमार से बैठक में कहा कि जब व्यापारी लॉकडाउन स्वयं लगाने के पक्ष में हैं तो उनकी बैठक बुलाकर लाॅकडाउन का फैसला ले लिया जाना चाहिए। व्यापारियों ने बताया कि आज हर नागरिक डरा-सहमा हुआ है। जनता लाइन में खड़ी है।

कोरोना की दूसरी लहर ने ऐसे हालात बना दिए हैं। पहले तो टेस्ट की लाइन लगी है, फिर रिपोर्ट की और अगर रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो हॉस्पिटल के बाहर लाइन लगी है। मरीज को प्राइवेट हास्पिटल तक में कहीं बेड नहीं मिल रहा है। अगर किसी को बेड़ मिल भी गया तो ऑक्सीजन के लिए लाइन है। तबीयत ज्यादा बिगड़ी तो वेंटिलेटर के लिए लाइन है। गुलशन ईशपुनयानी ने कहा कि ऑक्सीजन की किल्लत से हालात डरावने है। सरकार हरियाणा में बेड, ऑक्सीजन, दवाईयों की घोर किल्लत और कालाबाजारी पर अंकुश लगाए।

लॉकडाउन मजबूरी तो वीकेंड कर्फ्यू जरूरी : गुलशन

शौरी क्लाथ मार्किट के प्रधान गुलशन ईशपुनयानी की अध्यक्षता में एक आवश्यक बैठक उनके कार्यालय में की गई। इसमें कोरोना से सुरक्षा के चलते वर्किंग बाॅडी के सदस्यों को कम संख्या में बुलाकर बैठक की गई। इसमें सभी सदस्यों ने अपने विचार रखे और इस बात पर जोर दिया कि कोरोना महामारी संक्रमण को रोकने के लिए सरकार को तुरंत वीकेंड कर्फ्यू लगाने की जरूरत है। सही मायने में तो देश में लाॅकडाऊन की नौबत आ चुकी है।

गुलशन ने कहा कि बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रदेश की जनता को अगर बचाना है तो सरकार को वीकेंड कर्फ्यू पर विचार करना चाहिए। हरियाणा में भी सरकार को सर्वदलीय बैठक बुलाई जानी चाहिए और लॉकडाउन पर विचार करना चाहिए। इस मौके पर ईश्वर आहुजा, नरोतम, सुनील मलिक, ईश्वर मित्तल, हरीश अरोड़ा, यशपाल अरोड़ा, कमल परुथी, असीम सिन्ध्वानी, सतीश गर्ग, जवाहर परुथी, मुकुंद लाल, रविन्द्र बंसल, पंकज मिगलानी, प्रशांत खुराना, मुरारीलाल व राजू गोयल आदि उपस्थित रहे।

सोशल मीडिया पर दिनभर चली चर्चा

बाजारों में व्यापारियों की ओर से बनाए गए सोशल मीडिया ग्रुप में भी यही चर्चा पूरी तरह से बनी रही। किला रोड, रेलवे रोड और शौरी मार्केट के व्यापारी स्वयं भी इस लॉकडाउन को लेकर काफी एक्टिव नजर आए। ग्रुप में कई व्यापारियों ने इस बारे में चार दिन से लेकर एक महीने तक शोरूम बंद करने तक का फैसला भी लिया।

खबरें और भी हैं...