• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Accident Happened In Mandi Kalanwali Of Sirsa, Electrocuted While Drying Wet Towels On Iron Wire After Taking Bath

करवा चौथ पर उजड़ा सुहाग:सिरसा की मंडी कालांवाली में हुआ हादसा, नहाकर गीले तौलिए को लोहे की तार पर सुखाते वक्त लगा करंट

रोहतक3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक जगजीत सिंह का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
मृतक जगजीत सिंह का फाइल फोटो।

हरियाणा के सिरसा जिले में रविवार सुबह बड़ा दुःखदायक हादसा हो गया। करवाचौथ की सुबह महिला का सुहाग उजड़ गया। मंडी कालांवाली में रविवार सुबह नहाकर निकले युवक ने जैसे ही लोहे की तार पर गीला तौलिया सूखने के लिए डाला तो उसे करंट लग गया और युवक की मौके पर ही मौत हो गई। युवक को सरकरी अस्पताल भी ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद परिजन शव को घर ले गए और घंटों तक गोबर में भी दबाए रखा। धारणा है कि करंट लगे युवक को अगर 6 घंटों तक गोबर में दबाए रखें तो उसके प्राण लौट सकते हैं, मगर ऐसा नहीं हुआ। हादसे के बाद से मृतक की पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है। वह बार बार बेहोश हो रही है।

5 साल का बेटा, कुछ समय पहले बड़े भाई की भी हुई मौत

जानकारी के मुताबिक, देसू रोड पर निजी लैब में काम करने वाला 32 वर्षीय जगजीत सिंह सुबह अपने घर में बाथरूम से नहा कर निकला। उसने गीला तौलिया आंगन में बंधे तार पर सूखने के लिए डाला। इस दौरान उसे करंट का झटका लगा। संभवत लोहे की तार बिजली की तारों से छू गई थी, जिस कारण उसे करंट लग गया। उसका करीब 5 साल का बेटा है। कुछ समय पहले उसके बड़े भाई की मौत हुई थी। वहीं करवा चौथ व्रत के दिन अचानक आई मुसीबत से परिजन परेशान नजर आए। आसपड़ोस के लोग भी दुआ कर रहे हैं कि युवक बच जाए। वहीं कुछ लोग इस घटना को अंधविश्वास मान रहे हैं।

4 से अधिक घंटों तक गोबर की खाद में दबाया शव

करंट लगने के बाद युवक को चिकित्सक के पास ले जाया गया, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक के परिजन यह मानने को तैयार नहीं थे। किसी ने उन्हें कह दिया कि गोबर में दबाने से करंट का असर खत्म हो सकता है। इसके बाद उन्होंने पास में ही स्थित किसान के मकान में रखे गोबर में युवक के शरीर को दबा दिया। करीब 3 घंटे बीतने के बाद जैसे-जैसे लोगों को इस घटना की जानकारी मिलती रही, लोग भी मौके पर पहुंचने लगे। 4 घंटे से भी ज्यादा बीतने के बाद कुछ लोगों ने इस प्रक्रिया को अंधविश्वास कहते हुए शव को बाहर निकलाने की बात कही।

खबरें और भी हैं...