• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • In The Preparation Of Opening A New Cowshed, The Corporation Is Preparing A Proposal Of 15 Acres Of Land For A New Thor In Sunaria.

बेसहारा गोवंश पकड़ने के दावे सड़कों पर हो रहे फेल:पहरावर गोशाला में क्षमता से अधिक गोवंश बता नई गोशाला खोलने की तैयारी में निगम, सुनारिया में नई ठोर के लिए 15 एकड़ जमीन का तैयार कर रहे प्रपोजल

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के चौराहों, मोहल्लों व सेक्टर्स में हैं बेसहारा गोवंश के झुंड

शहर की सड़काें से गाेवंश हटाने में नाकाम हो चुके नगर निगम ने अब नया पैंतरा निकाला है। पहरावर स्थित गोशाला में क्षमता से अधिक गोवंश बताकर नगर निगम अब नई गोशाला खोलने की तैयारी में है। साफ तौर पर एक नया ठेका देने की तैयारी चल रही है। इसके लिए भू-शाखा को सभी 22 वार्डों में निगम की खाली जमीन का ब्यौरा तैयार करने को कहा गया है। फिलहाल सुनारिया गांव में निगम की करीब 15 एकड़ खाली जमीन तलाशी गई है। जहां एक नई गोशाला के लिए प्रपोजल बनाया जाएगा। फिलहाल पहरावर में करीब 8 एकड़ जमीन पर 4 हजार पशु बांधने का निगम दावा करता है।

शहर की सड़कों, चाैक-चौराहों, मोहल्लों व सेक्टर्स में बेसहारा गोवंश झुंड में जमा हो रहे हैं। नगर निगम कमिश्नर नरहरि सिंह बांगड़ का हर दिन सड़क से गोवंश पकड़ने का दावा फेल साबित हो रहा है। मात्र निगम के कंट्रोल रूम में मोहल्लों व कॉलोनियों से आने वाली शिकायतों पर ही कर्मचारियों की टीम कार्रवाई कर रही है। हालांकि गत 9 अगस्त से लगातार 34 दिन तक चलाए गए अभियान में 335 बेसहारा गौवंशों को पकड़कर गोशाला छोड़ा गया था। लेकिन 11 सितंबर के बाद से अभियान सुस्त पड़ा पड़ गया है।

पहले रात में फिर सुबह 4 बजे से चलाया अभियान, अब ठप

अगस्त माह में 9 तारीख से निगम ने सड़कों से गोवंश पकड़ने का अभियान चलाया। इसके लिए सफाई शाखा के 11 कर्मचारियों की टीम बनाई गई। शुरूआती 15 दिन तक टीम ने रात को करीब 9 बजे सड़कों से गोवंश पकड़कर पहरावर स्थित निगम की गोशाला में छोड़ना शुरू किया। इसके बाद सुबह 4 बजे से दोपहर 12 बजे तक सड़क से गोवंश पकड़े गए। लेकिन अब सड़क से गोवंश पकड़ने का कार्य बंद है।

नियमित पकड़वाए जा रहे गाेवंश

बेसहारा गोवंश से दोपहिया वाहन चालकों को आने जाने में सर्वाधिक दिक्कत होती है। रात के अंधेरे में गोवंश दिखाई नहीं देते और लोग टकराकर चोटिल हो जाते हैं। दूसरी ओर नगर निगम कमिश्नर डॉ. नरहरि सिंह बांगड़ ने दावा किया कि शहर में गोवंशों को पकड़ने के लिए टीम लगी हुई है। नियमित गोवंश पकड़ने का कार्य किया जा रहा है। जबकि इन दावे को सड़कों पर खुले घूमते गोवंश ठेंगा दिखा रहे हैं।

निगम का ऐसा चला अभियान
माह पकड़े गए गोवंश

  • जनवरी 9
  • फरवरी 42
  • मार्च --
  • अप्रैल 5
  • मई --
  • जून 43
  • जुलाई --
  • 8 अगस्त तक 21
खबरें और भी हैं...