• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Investigation, Investigation And Then A High Level Investigation, The Councilor Did Not Get The Full Report, Sent It To The Government For High Level Investigation

भ्रष्टाचार जांच की संपूर्ण रिपोर्ट दब रही!:जांच, जांच और फिर एक उच्च स्तरीय जांच, पार्षद को नहीं मिली पूरी रिपोर्ट, हाई लेवल जांच के लिए सरकार को भेज दी

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हर दिन टरकाने वाली एक नई कहानी के साथ नगर निगम की टैक्स ब्रांच में हुए भ्रष्टाचार की जांच रिपोर्ट अंजाम तक पहंुचने से पहले ही दम तोड़ती नजर आ रही है। जबकि पार्षद, डिप्टी मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, मेयर और नगर निगम कमिश्नर डॉ. नरहरि सिंह बांगड़ तक दोषियों को सजा दिलाने तक चुप नहीं बैठने का दावा करते रहे हैं। फिर भी 500 पेज से अधिक की जांच रिपोर्ट 15 दिन बाद भी शिकायत करने वाले पार्षद को उपलब्ध नहीं हो पाई।

ऐसे में जांच... जांच...और फिर एक उच्च स्तरीय जांच करवाने के नाटक की पटकथा क्यों लिखी जा रही है। वह भी तब, जब मुख्य नगर योजनाकार द्वारा की गई जांच की संपूर्ण रिपोर्ट निगम कमिश्नर को सौंपी जा चुकी है और उसे मेयर व पार्षदों को उपलब्ध कराना आसान है। फिर भी जिम्मेदार रिपोर्ट दबाए बैठे हैं।

इधर गुरुवार को भी शिकायती पार्षद सुनील कुमार सोनी अंबेडकर चौक स्थित नगर निगम कार्यालय में इंतजार के बाद निराश घर लौट गए। वहीं जांच रिपोर्ट में दोषी पाए गए टैक्स ब्रांच के अधिकारियों व कर्मचारियों के नाम का हवाला देते हुए उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाते हुए विभागीय कार्रवाई की सिफारिश की गई थी। पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। वहीं सीनियर डिप्टी मेयर राजकमल सहगल ने भी मेयर के साथ पार्षदों की हुई बैठक में कहा था कि मेयर गृहमंत्री अनिल विज से मिलने का समय तय करेंगे। भ्रष्टाचार मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग के लिए गृहमंत्री से मिलने जाएंगे। लेकिन अभी तक मामला नगर निगम कमिश्नर कार्यालय तक ही घूम रहा है।

जांच पर सवाल, फिर रिपोर्ट किस काम की : बांगड़

जब पार्षद टैक्स ब्रांच में हुई जांच रिपोर्ट पर ही सवाल उठा रहे हैं तो संपूर्ण जांच रिपोर्ट उनके किस काम की है। जबकि उच्च स्तरीय जांच की सिफारिश के साथ उन्होंने सरकार के पास मामला भेज दिया है।-डॉ. नरहरि सिंह बांगड़, कमिश्नर नगर निगम।

खबरें और भी हैं...