पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना मरीजों के लिए राहत की कवायद:घर पर ऑक्सीजन थैरेपी लेने वाले मरीजों की सूची होगी तैयार

रोहतकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रेडक्रास सचिव देवेंद्र चहल करेंगे सूची तैयार, थैरेपी के लिए मेडिकल ऑक्सीजन प्राप्त करने में हो रही परेशानी

घर पर मेडिकल ऑक्सीजन थैरेपी लेने वाले कोरोना मरीजों को भी मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए अब कवायद शुरू कर दी गई है। मेडिकल ऑक्सीजन प्राप्त करने में हो रही परेशानी के मद्देनजर डीसी कैप्टन मनोज कुमार ने जिला रेडक्राॅस सोसायटी के सचिव देवेंद्र चहल को ऐसे मरीजों की सूची तैयार करने के निर्देश हैं।

जिले में कोविड-19 के सामुदायिक संक्रमण से बड़ी संख्या में मरीज क्रॉनिक ऑक्सीजन थैरेपी पर हैं। यह देखने में आया कि घर आधारित थैरेपी के लिए मेडिकल ऑक्सीजन प्राप्त करने में उन्हें परेशानी हो रही है। अभी तक लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिलने के कारण वे लघु सचिवालय में डीसी कार्यालय के चक्कर काटते हैं। चूंकि पहले अफवाह चली थी कि बिना डीसी की पर्ची के कोई भी ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिलेगा, जबकि ऐसा नहीं है।

निजी अस्पताल में बेड की कीमत तय

जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष व डीसी कैप्टन मनोज कुमार ने जिले में तुरंत प्रभाव से जनहित में अस्पताल में दाखिल होने वाले मरीजों के लिए शर्तों के साथ दरें निर्धारित करने के आदेश जारी किए हैं। कोविड-19 महामारी से लोगों के स्वास्थ्य को लगातार खतरा है। ऐसे में उन्हें अस्पतालों में भर्ती होना पड़ रहा है, जिससे मरीजों पर वित्तीय बोझ बढ़ रहा है।

दो श्रेणियों में बांटे गए हैं अस्पताल

जिले में निजी अस्पताल व मेडिकल कॉलेज कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए निर्धारित दर से अधिक फीस नहीं वसूल पाएंगे। अस्पताल में कोविड-19 के इलाज के लिए अस्पताल की दरें प्रति मरीज प्रतिदिन के हिसाब से तय की गई है। इसमें अस्पतालाें को दो श्रेणी में बांटा है।

पहले नॉन एनएबीएच मान्यता प्राप्त अस्पताल में आइसोलेशन बेड के लिए 8 हजार रुपए, आईसीयू बिना वेंटिलेटर के लिए 13 हजार रुपए व वेंटिलेटर सहित आईसीयू में 15 हजार रुपए प्रति बेड के रेट तय किए गए हैं। दूसरी क्षेणी में जेसीआई व एनएबीएच मान्यता प्राप्त (एंट्री लेवल एनएबीएच सहित) अस्पताल में आइसोलेशन बेड के लिए 10 हजार रुपए, आईसीयू बिना वेंटिलेटर के लिए 15 हजार रुपए व वेंटिलेटर सहित आईसीयू में 18 हजार रुपए प्रति बेड प्रति मरीज के हिसाब से तय किए गए हैं।

ऑक्सीजन सिलेंडर रिफिल निगरानी के लिए समिति गठित

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से जारी को लेकर अब जिला में ऑक्सीजन सिलेंडरों को रिफिल करने केे कार्य की निगरानी के लिए तुरंत प्रभाव से एडीसी महेंद्रपाल की अध्यक्षता में चार सदस्यीय समिति गठित करने के आदेश जारी किए हैं। इस समिति में सिविल सर्जन या उनका प्रतिनिधि, डीएसपी गोरखपाल राणा सदस्य व जिला ड्रग नियंत्रक राकेश दहिया सदस्य सचिव होंगे। यह समिति विभाग के आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित करेगी। प्रतिदिन रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

खबरें और भी हैं...