ऑडिट में खुलासा:शहर के कई निजी अस्पतालों ने कोविड से हुई डेथ छिपाईं

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पीजीआई में कोरोना जांच के लिए सैंपल लेते स्वास्थ्य कर्मी। - Dainik Bhaskar
पीजीआई में कोरोना जांच के लिए सैंपल लेते स्वास्थ्य कर्मी।
  • सिविल सर्जन की नोडल टीम ने अस्पतालों में खंगाला रिकार्ड
  • कोरोना मृतकों के परिजनों को मुआवजे की घोषणा के बाद सामने आने लगे थे केस

कोरोना की दूसरी लहर में निजी अस्पतालों ने कोविड से हुई मौतों को छिपाया। सरकार ने जब कोरोना मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिए जाने की घोषणा की तो निजी अस्पतालों ने कोविड डेथ का आंकड़ा बताना शुरू कर दिया। अचानक कोविड डेथ रिपोर्ट्स आने से हरकत में आई सिविल सर्जन की नोडल टीम ने अस्पतालों में डेथ ऑडिट करना शुरू किया। टीम ने दिल्ली रोड स्थित 4 निजी अस्पतालों में लापरवाही के केस पाए हैं।

टीम की ओर से ऑडिट का काम लगातार जारी है। ऐसे में अभी कई और अस्पतालों की संलिप्तता मिलने का अंदेशा है। फिलहाल कोविड 19 के नोडल अधिकारी की ओर से अस्पतालों को शोकॉज नोटिस थमाए जा रहे हैं। कोरोना के इलाज के लिए अधिकृत किए अस्पतालों में टीम जाकर ऑडिट रिपोर्ट तैयार कर रही है। जल्द ही और भी अस्पतालों के नाम सामने आ सकते हैं। ऐसे में नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। टीम का कहना है कि जिले में कोरोना से हुई 566 मौत का ब्योरा सरकार को भेजा जा चुका है।

जुलाई में शुरू हुआ था मौतों का एडजस्टमेंट

आरेाप है कि सरकार की ओर से मुआवजे की घोषणा के बाद कोरोना मृतकों के परिजन जिन्होंने अस्पतालों से सेटिंग कर शव ले गए थे। वो परिजन भी सामने आकर कोविड से मरीज की मौत दर्शाने के लिए अस्पताल प्रबंधन से मनुहार करने लगे। इसके बाद अस्पताल संचालकों ने सिविल सर्जन कार्यालय को डेथ रिपोर्ट भेजनी शुरू की। तब हरकत में आई नोडल टीम ने अस्पताल में जाकर रिकॉर्ड खंगाला तो एक के बाद एक डेथ के 12 से ज्यादा केस सामने आए। जून में हुई मौतों का एडजस्टमेंट जुलाई में शुरू हुआ था। हालांकि अब डेथ एडजस्टमेंट का सिलसिला थमा हुआ है।

इधर जिले में कोरोना के दो पॉजिटिव केस मिले, अब एक्टिव मरीज 4 हुए

जिले में शुक्रवार को कोरोना के दो नए केस मिलने के साथ ही चार सक्रिय केस हो गए हैं। चारों मरीज होम आइसोलेशन में हैं। उत्तम विहार निवासी रेलवे कर्मचारी और शहर निवासी नौकरीपेशा व्यक्ति को कोरोना संक्रमित पाया गया है। जिले में अब कोरोना की पॉजिटिविटी दर कम होकर 5.31 फीसदी और रिकवरी दर 97.74 फीसदी हो गई है। सिविल सर्जन कार्यालय की टीम ने पूरे दिन में 719 लोगों के सैंपल लैब भेजे।

इनमें से केवल 2 सैंपल पॉजिटिव पाए गए। 300 रिपोर्ट पेंडिंग हैं। जिले में अब तक कोविड-19 के 4,86,656 सैंपल लिए जा चुके हैं। इनमें से 25,866 सैंपल पॉजिटिव पाए गए और इनमें से इलाज के बाद 25,296 व्यक्ति स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि अगर किसी को कोरोना से संबंधित कोई लक्षण नजर आए आए तो तुरंत जांच कराए। इसी तरह से कोरोना को पूरी तरह हराया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...