सुविधा:रुड़की स्टेडियम के रिंग के लिए आ सकेंगे मैट, चेक मिला

रोहतकएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बीडीपीओ खिलाड़ियों को 25 हजार रुपए का चेक देते हुए। - Dainik Bhaskar
बीडीपीओ खिलाड़ियों को 25 हजार रुपए का चेक देते हुए।
  • 4 माह पहले खिलाड़ियों ने बीडीपीओ को समस्याओं के संबंध में ज्ञापन दिया था, अब बॉक्सर रिंग का मैट व सामान खरीद सकेंगे

देश को 9 इंटरनेशनल और यूथ वर्ल्ड चैंपियन महिला बॉक्सर देने वाले जिले के गांव रुड़की के शहीद बैतून सिंह स्टेडियम को बीडीपीओ ने 25 हजार रुपए दिए हैं। यह चेक बीडीपीओ ने अपने कार्यालय में खिलाड़ियों को बुलाकर सौंपा है। अब इस राशि से स्टेडियम की समस्याओं को सुधारा जा सकेगा। दैनिक भास्कर ने 27 जुलाई के अंक में स्टेडियम की दिक्कतों को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसके बाद बीडीपीओ अब स्टेडियम की समस्याओं को संज्ञान में लिया है।

42 मुक्केबाज बेटियों को फटे मैट पर प्रैक्टिस करनी पड़ रही : करीब 4 महीने पहले खिलाड़ियों ने बीडीपीओ को स्टेडियम की समस्याओं के संबंध में ज्ञापन दिया था। इसमें बताया गया कि स्टेडियम में रुड़की और आसपास के गांवों से आने वाली 42 मुक्केबाज बेटियों को फटे मैट पर प्रैक्टिस करनी पड़ रही है। स्टेडियम में बेटियों के लिए न तो शौचालय हैं और न ही उनके लिए चेंजिंग रूम, जबकि जिले में सबसे ज्यादा उपलब्धियां इसी स्टेडियम की हैं। यहां सुविधा न के बराबर हैं।

मुक्केबाजों के लिए पैर की ग्रिप बनाने के लिए बने रिंग का मैट पांच माह से अधिक समय से फटा है। यहां बॉक्सिंग का सारा सामान खिलाड़ी व कोच खुद लेकर आते हैं। इस स्टेडियम में छह साल से बिना फीस लिए कोच विजय हुड्डा बेटियों को प्रैक्टिस कराकर देश को मेडल दिलाने में अहम भूमिका अदा कर रहे हैं। सरकार की ओर से स्टेडियम में सुविधाएं नहीं बढ़ाने पर ग्रामीणों और महिला खिलाड़ियों में मायूसी है।

खबरें और भी हैं...