पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समीक्षा बैठक:विधायक- पोर्टल पर बेड की सही जानकारी दें, सांसद- हेल्पलाइन नंबर उठाएं अधिकारी

रोहतकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विधायक बत्रा। - Dainik Bhaskar
विधायक बत्रा।
  • इलाज के नाम पर ज्यादा वसूलने वालों पर नजर रखने के निर्देश
  • सांसद, विधायक, मेयर ने अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक

कोरोना की ऑनलाइन समीक्षा बैठक में विधायक भारत भूषण बत्रा ने कहा कि निजी अस्पतालों में बेड, वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की क्या स्थिति है। इस सब पर भी प्रतिदिन जानकारी सार्वजनिक होनी चाहिए। पीजीआई रोहतक मैं भी बेड और वेंटिलेटर ऑक्सीजन की क्या स्थिति है इसकी जानकारी जनप्रतिनिधियों को होनी चाहिए।

वैसे तो पोर्टल पर रोजाना खाली बेड दिखाता है जब अधिकारियों को फोन करो तो वे एक भी बेड तो दिलवा नहीं पाते हैं। यह स्थिति ठीक नहीं है। आपदा के इस समय में पारदर्शिता बहुत जरूरी है। साथ ही क्षेत्रीय प्रतिनिधि पार्षदों को भी प्रशासन अपने साथ जोड़े। शुक्रवार शाम को सांसद डॉ. अरविंद शर्मा, विधायक भारत भूषण बतरा, मेयर मनमोहन गोयल, डीसी कैप्टन मनोज कुमार, सीएमओ डॉ. अनिल बिरला सहित कई अधिकारियों ने हिस्सा लिया और कोरोना महामारी को रोकने के लिए अपने-अपने सुझाव दिए।

वहीं सांसद डाॅ. अरविंद शर्मा ने कहा कि लोगों की मदद के लिए जो भी हेल्प लाइन नंबर जारी किए गए हैं, उनकाे अनदेखा न किया जाए और हेल्पलाइन नंबर पर अधिकारी हर संभव मदद करें। महामारी का समय है, प्रत्येक अधिकारी व कर्मचारी का फर्ज बनता है कि सहयोग करें। सांसद ने लोगों से अपील की गांव में बढ़ रहे कोरोना के मामले को देखते हुए सरकार की हिदायतों की पालना करें। ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए जल्द ही रोहतक में ऑक्सीजन का बड़ा प्लांट लगाया जाएगा, ताकि भविष्य में इस तरह की कमी न रहें। साथ ही सांसद ने बताया कि निजी लैब पर भी प्रशासन की नजर है, अगर इस संबंध में शिकायत मिली तो तुरंत कारवाई होगी।

सीटी स्कैन और डायग्नोस्टिक के रेट तुरंत तय करें

विधायक बत्रा ने पार्षदों के माध्यम से हर वार्ड में युद्ध स्तर पर सेनिटाइजेशन का कार्य करने का सुझाव भी दिया। अब तक सीटी स्कैन और डायग्नोस्टिक्स के जो रेट चल रहे हैं, वह ज्यादा है। आम आदमी को राहत मिले, इसके लिए प्रशासन तुरंत नई रेट लिस्ट जारी करें। मेयर मनमोहन गोयल ने कहा कि गांव पर भी ध्यान देने की जरूरत है। फोन सुनने के लिए जिला प्रशासन ने दो अधिकारियों की तैनाती कर दी है।

वैक्सीनेशन पर मांगा स्पष्टीकरण

वैक्सीनेशन पर भी प्रशासन से स्पष्टीकरण मांगते हुए बत्रा ने कहा कि ऐसी बहुत सी शिकायत आ रही है कि जिन्हें कोवैक्सीन लगी उन्हें दूसरी डोज के लिए को वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो रही है। ऐसा ही कोवैक्सीन के मामले में भी सुनने को मिल रहा है! प्रशासन सुनिश्चित करें कि इस महामारी से लड़ने के लिए एकमात्र उपाय वैक्सीन का लाभ ज्यादा से ज्यादा शहरवासियों को मिले।

खबरें और भी हैं...