मार्केट कमेटी का चपरासी रिश्वत लेते दबोचा:ऑक्शन रिकॉर्डर ने गेहूं कमीशन के बदले में मांगे 9 हजार, खुद की जगह भेजा

रोहतक8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विजिलेंस ब्यूरो की टीम की गिरफ्त में रिश्वत लेने का आरोपी। - Dainik Bhaskar
विजिलेंस ब्यूरो की टीम की गिरफ्त में रिश्वत लेने का आरोपी।

हरियाणा विजिलेंस ब्यूरो ने रोहतक जिले की महम अनाज मंडी में मार्केट कमेटी के चपरासी को आढ़ती से 9 हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। रिश्वत आढ़ती को उसके गेहूं का कमीशन दिलाने के एवज में ली जा रही थी। रिश्वत ऑक्शन रिकॉर्डर ने मांगी थी और उसने आढ़ती से पैसे लेने के लिए चपरासी को भेजा था।

निंदाना गांव के देवेंद्र ने विजिलेंस ब्यूरो को दी शिकायत में बताया कि उसका आढ़त का काम है। उसने महम अनाज मंडी में 6500 क्विंटल गेहूं खरीदा और उसे मार्केट कमेटी के माध्यम से गोदाम में जमा करवाया। इस गेहूं खरीद के लिए सरकार की ओर से कमीशन के रूप में 46 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से कमीशन और लेबर संबंधित भुगतान किया जाना है।

देवेंद्र के अनुसार, जब उसने अपने कमीशन के लिए मार्केट कमेटी के अधिकारियों से संपर्क किया तो ऑक्शन रिकार्डर ने गेहूं के प्रत्येक कट्‌टे पर 70 पैसे के हिसाब से कुल 9 हजार रुपये मांगे। यह रकम न देने की सूरत में उसका कमीशन नहीं देने की धमकी दी।

ढाबे पर दबोचा रिश्वत लेते

देवेंद्र के अनुसार, ऑक्शन रिकॉर्डर ने मंडी के अन्य आढ़तियों से भी रिश्वत मांगी। इसके बाद उसने स्टेट विजिलेंस ब्यूरो में शिकायत दी। शिकायत मिलने के बाद विजिलेंस ब्यूरो ने टीम बनाई। टीम ने आढ़ती देवेंद्र के साथ मिलकर ऑक्शन रिकार्डर को पैसे लेते दबोचने की रणनीति तैयार की। पूरी प्लानिंग के बाद विजिलेंस ब्यूरो ने आढ़ती देवेंद्र को रकम देकर ऑक्शन रिकार्डर के पास भेज दिया। जब देवेंद्र रकम देने पहुंचा तो ऑक्शन रिकार्डर ने खुद आने की जगह मार्केट कमेटी के चपरासी को पैसे लेने ढाबे पर भेज दिया। देवेंद्र ने जैसे ही चपरासी को रकम पकड़ाई, विजिलेंस टीम में उसे काबू कर लिया।

खबरें और भी हैं...