पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांवों में संक्रमण की रफ्तार तेज:राेहतक: 8 दिन में 1176 केस गांवों में मिले; बुखार, खांसी की घर पर ले रहे दवा, टिटौली में 3 और मौतें

रोहतक/ राजधानी हरियाणाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • टिटौली में 70, बलंभा में 30, कलानौर व काहनौर में 20 केस मिले
  • सीएम बोले- गांवों में विशेष स्क्रीनिंग कैंप लगाए जाएंगे

कोरोना की दूसरी लहर में पिछले आठ दिनों में 2955 कोरोना संक्रमित केस मिल चुके हैं। इनमें से शहरी क्षेत्र से 1793 और ग्रामीण क्षेत्र में 1176 लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। इसमें टिटौली गांव में 70, खरकड़ा, बलंभा व खेड़ी महम गांव में 30, चिड़ी गांव में 24, कलानौर व काहनौर में 20 से ज्यादा केस मिल चुके हैं। इधर, सीएम ने कहा कि गांवों में विशेष स्क्रीनिंग कैंप लगाएंगे।

टिटौली गांव में गुरुवार को तीन और ग्रामीणों की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना से मौत होने की पुष्टि नहीं की गई है। स्वामी दीक्षेंद्र आर्य ने बताया कि तीनों मरीजों को बुखार की शिकायत थी। गांव में अब मरने वालों की संख्या 35 पर पहुंच गई है। जिले के सीएचसी व पीएचसी स्तर पर नियुक्त चिकित्सकों की ओर से गांवों में तकरीबन हर तीसरे-चौथे घर में बुखार, खांसी, जुकाम के मरीज होने का दावा किया है।

डॉक्टरों का कहना है कि ग्रामीण में युवाओं से लेकर बुजुर्गों का मानना है कि वे देसी उपचार से ठीक हो जाएंगे। इससे तबीयत बिगड़ जाती है। सीएम मनोहर लाल ने गुरुवार को कहा कि ग्रामीण इलाकों में वायरस का प्रसार हो रहा है, इसलिए हर गांव में स्वास्थ्य जांच कैंप लगाए जाएंगे, ताकि संक्रमण जल्द पकड़ में आ सके। उन्होंने टेस्टिंग बढ़ाने क बात कही है। इन कैंपों के माध्यम से डीसी यह सुनिश्चित करें कि हरियाणा के लगभग 60 लाख परिवारों के हर सदस्य को ट्रैक किया जा सके। इसमें जनप्रतिनिधियों की भागीदारी की जाए।

सुबह और शाम को गांव टिटौली की गलियों में घुमाई जाती है ट्रॉली, ग्रामीण आयुर्वेदिक औषधियों की डालते हैं आहुति

निरोग रहने की कामना : गांव टिटौली की गलियों में स्वामी इंद्रवेश आश्रम व आर्य समाज केंद्र की ओर से हर रोज सुबह 6 से 10 बजे और शाम को 5 से 8 बजे तक ट्रॉली को घुमाया जाता है। ग्रामीण इस यज्ञ में गिलोय, तुलसी, चिरायता, कपूर, लोबान, जावित्री, जायफल, नीम समेत कई प्रकार की आयुर्वेदिक औषधियों से आहुति डालते हैं। गुरुवार को हवन में ग्रामीणों और पुलिस कर्मियों ने निरोग रहने की कामना को लेकर आहुति डाली।

डोभ गांव की आबादी औसतन 3 हजार, जांच ही नहीं करा रहे

केस 1: डोभ गांव की आबादी औसतन तीन हजार हैं। यहां अब तक 10 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। ग्रामीण कुलदीप ने बताया कि गांव में करीब हर तीसरे घर में एक सदस्य बुखार, जुकाम और खांसी से पीड़ित है। मरीज कोरोना टेस्ट नहीं करा रहे हैं। यदि समय पर गांव में टेस्टिंग हो जाए तो काफी मरीजों की पहचान हो सकती है। लॉक डाउन होने की वजह से गांव में लाेग अधिकतर घरों में रह रहे हैं।

बलंभा गांव में मिल चुके 30 मरीज, टेस्ट को नहीं आ रहे आगे

केस 2: महम के बलंभा पीएचसी के अंतर्गत खेड़ी महम, बलंभा और खरकड़ा गांव आते हैं। इन तीनों गांव की आबादी औसतन 28 हजार के करीब है। यहां एक सप्ताह के अंतराल में 30 से ज्यादा कोरोना केस मिल चुके हैं। पीएचसी के अधिकारी डॉ. नितिन बताते हैं कि तीनों गांव में बुखार, खांसी और जुकाम के मरीज हैं। लेकिन वो कोरोना सैंपल टेस्ट करने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। टीम को भेजकर घर-घर से लोगों को स्वस्थ व्यक्ति को टीका लगवाने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

होम आइसोलेशन के रोगियों को होगी ऑक्सीजन की आपूर्ति

सीएम मनोहर लाल ने कहा कि सभी उपायुक्तों को अब इस महामारी की रोकथाम में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी और कोविड-19 प्रबंधन की तैयारियों जैसे टेस्टिंग सुविधा बढ़ाने, क्लिनिकल मैनेजमेंट पर अधिक ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ जन-जागरुकता गतिविधियां विशेष तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ानी होंगी।

सीएम ने गुरुवार को वीसी के जरिए कोविड-19 की तैयारियों की निगरानी के लिए जिला इंचार्ज के रूप में तैनात प्रशासनिक सचिवों और जिला उपायुक्तों के साथ कोरोना की स्थिति की समीक्षा बैठक की। सीएम ने बताया कि ग्रामीण इलाकों में वायरस फैल रहा है, इसलिए प्रत्येक गांव में स्वास्थ्य जांच कैंप लगाए जाएंगे ताकि यदि किसी को भी कोविड-19 के लक्षण हो तो जल्दी से जल्दी पकड़ में आ सकें।

इन कैंपों के माध्यम से डीसी यह सुनिश्चित करें कि हरियाणा के लगभग 60 लाख परिवारों के प्रत्येक सदस्य को ट्रैक किया जा सके। सीएम ने कहा कि उपायुक्त यह सुनिश्चित करें कि ऑक्सीजन टैंकर की अनलोडिंग जल्द से जल्द हो ताकि अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति बरकरार रहे। होम आइसोलेशन के रोगियों को के घर पर ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए विभिन्न सामाजिक संगठनों को भी पोर्टल पर पंजीकृत किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...