समस्या / 4 दिन में भी शेड्यूल जारी नहीं, केवल पंचकुला जा रहीं बसें

X

  • 25 यात्री हाेने पर ही दूसरे जिलाें में भेजी जाएंगी बसें, टाइम शेड्यूल जारी नहीं हाेने से एक समय पर नहीं आ रहे यात्री
  • अधिकारियाें का तर्क- उच्चाधिकारियाें काे बसाें का शेड्यृूल बना भेज दिया, मंजूरी पर करेंगे जारी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

रोहतक. केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन 4.0 में ढील दिए जाने के बाद बसें चलाने के अादेश ताे जारी कर दिए, लेकिन उन पर अभी तक ठीक ढंग से अमल नहीं हुअा है। राेहतक से केवल पंचकुला के लिए ही बसें चल रही हैं। राेडवेज अधिकारियाें का कहना है कि दूसरे जिले के लिए 25 यात्री अाएंगे ताे उन्हें बस से भेज दिया जाएगा। बड़ा सवाल यह खड़ा हाे रहा है कि बिना टाइम शेड्यूल एक जिले के लिए एक समय पर 25 यात्री कैसे आएंगे। इस वजह से आदेश जारी हाेने के 4 दिन बाद भी दूसरे जिलाें के लिए बसें नहीं चल सकी हैं। बस स्टैंड पर आने वाले यात्रियों काे बस परिवहन सुविधा न मिलने पर निराश होकर लौटना पड़ रहा है।

जीएम बृजेंद्र हुड्‌डा और ट्रैफिक मैनेजर का कहना है कि मुख्यालय स्तर से बसों के शेड्यूल का प्रस्ताव मांगा गया था, वो उन्होंने उच्चाधिकारियों को भेज दिया है। अब मुख्यालय स्तर से ही शेड्यूल जारी होने का इंतजार है। जीएम बृजेंद्र हुड्‌डा ने दावा किया है कि स्थानीय स्तर पर प्लानिंग बनाई है कि जिस भी जिले के सीधे 25 यात्री मिलेंगे, वहां के लिए फौरन बस रवाना कर दी जाएगी। लेकिन बस किस समय संचालित होगी, इसके बाबत उन्होंने कोई आदेश न होने का जवाब दिया। हालांकि यदि पड़ाेसी जिले झज्जर की बात करें ताे वहां पर बेरी, बहादुरगढ़ अादि कस्बाें के लिए टाइम शेड्यूल बनाकर बसें भी चालू कर दी गई हैं। हमारे यहां अभी प्लानिंग नहीं बनी है।

पड़ाेसी झज्जर व हिसार में कस्बाें व अन्य जिलों के लिए टाइम शेड्यूल बना शुरू हो रही हैं बसें 
क्वाॅरेंटाइन में 50 चालक-परिचालक : रोडवेज के ड्यूटी सेक्शन के स्टाफ मेंबर्स ने बताया कि जिला प्रशासन की ओर से दूसरे राज्यों में भेजी जा रही बसें और रोडवेज की ओर से पंचकुला के लिए चलाई जा रही बसों में ड्यूटी देने वाले चालकों और परिचालकों को रूट से वापस आने के बाद 14 दिन के लिए क्वाॅरेंटाइन में भेजा जा रहा है। 50 कर्मचारी अभी क्वाॅरेंटाइन हैं। ऐसे में डिमांड के अनुसार चालक और परिचालक की कमी होने लगी है क्योंकि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए विभाग की ओर से व्यवस्था बनाई गई है कि जैसे ही कोई भी चालक व परिचालक रूट से आएगा, उसे फौरन सिविल अस्पताल में चेकअप कराने के साथ 14 दिन क्वाॅरेंटाइन करना होगा। 

लाेगाें की मांग- बसाें का शेड्यूल जारी करें,

तभी मिलेंगे यात्री: सेक्टर निवासी समाजसेवी ताऊ उमेद सिंह व दैनिक यात्री समिति के प्रवक्ता सतपाल हाडा ने मांग की है कि यदि अफसर बस संचालन का समय घोषित करते हुए ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा शुरू कर दें तो निश्चित तौर पर पंचकुला की तरह दूसरे जिलाें के लिए भी यात्री मिलेंगे। रोडवेज अफसर जब तक बस संचालन का समय निर्धारित नहीं करेंगे तब तक एक साथ एक जिले तक बस संचालित करने के लिए 25 यात्री नहीं मिलेंगे। इससे रोडवेज की आय को नुकसान होने के साथ जनता को भी परेशानी झेलनी पड़ेगी।

मुख्यालय भेज दिया है प्रस्तावित शेड्यूल

^रोडवेज बसों के संचालन के लिए प्रस्तावित शेड्यूल मुख्यालय से डिमांड आने पर भेज दिया है। उच्चाधिकारी जैसे ही शेड्यूल को मंजूरी दे देंगे तो फौरन बस स्टैंड पर मैसेज जारी कराकर बसों का समयानुसार संचालन शुरू करा देंगे। फिलहाल एक जिले से दूसरे जिले में आने के लिए 25 यात्री आकर बस की मांग की करेंगे तो फौरन एक बस में सोशल डिस्टेंसिंग को अमल में लाते हुए यात्रियों को बिठाकर रवाना कर दिया जाएगा।
- बृजेंद्र हुड्‌डा, जीएम, रोहतक।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना