पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Sending Patients To Home Isolation Without Giving Medicines, Will Give Them When They Are Admitted, Take Them From Outside

सरकार व प्रशासन के दावे खोखले:मरीजों को दवा दिए बिना होम आइसोलेशन में भेज रहे, जवाब-भर्ती होने पर देंगे, बाहर से लो

रोहतक15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीजीआई ट्रामा सेंटर के अंदर कोविड पॉजिटिव मरीज चिकित्सक से सलाह लेते हुए।
  • पीजीआई में कोरोना मरीजों को दवा तक नसीब नहीं

प्रदेश सरकार और पीजीआई की ओर से कोरोना मरीजों को तमाम सुविधाएं देने के दावे तो खूब किए जा रहे हैं, लेकिन असलियत कुछ और है। पीजीआई के ट्रामा सेंटर से होम आइसोलेशन में जिन कोरोना मरीजों को भेजा जा रहा है, उन्हें दवा तक नसीब नहीं है। डॉक्टर और स्टाफ का साफ कहना है कि होम आइसोलेशन में जो मरीज जाएंगे, उन्हें निजी मेडिकल स्टोर से दवा खरीदनी होगी। पीजीआई से कोई दवा नहीं मिलेगी। मल्टी विटामिन, विटामिन सी और पैरासिटामोल जैसी दवाएं भी उपलब्ध नहीं करवाई जा रही। ऐसे में अकेले आए कोरोना मरीज यदि खुद मेडिकल स्टोर पर जाएंगे तो यहां संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा।

इस बाबत पीजीआई की मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. पुष्पा दहिया ने कहा कि ट्रामा में दाखिल कोरोना मरीजों को ही दवाएं उपलब्ध कराने का प्रावधान है। जबकि सिविल सर्जन डॉ. अनिल बिरला ने दावा किया है कि ट्रामा सेंटर में स्वास्थ्य परीक्षण के लिए बुलाए जाने वाले कोविड पॉजिटिव मरीजों को वहीं पर दवा उपलब्ध कराई जानी चाहिए।

संक्रमित मरीजों को मेडिकल स्टोर्स पर सीधे जाने की सलाह देना गलत है। इस बाबत पीजीआई प्रशासन से बात की जाएगी। अब ऐसे में सवाल यह है कि जब हेल्थ सिस्टम बनाए रखने के जिम्मेदार ही गाइडलाइंस का पालन नहीं करेंगे तो आम जनता से कैसे नियमों का पालन करने की उम्मीद की जा सकेगी।

60 कोरोना संक्रमित मरीज मिले, सीरो सर्वे 19 से

जिले में शुक्रवार को एमडीयू कैंपस से तीन, पुलिस लाइन, पीजीआई कैंपस, जगदीश काॅलोनी सहित शहरी व ग्रामीण एरिया से 60 कोरोना पॉजिटिव केस पाए गए हैं। जिले में वर्तमान में 683 एक्टिव केस हैं, जबकि कोरोना से अब तक 72 लोगों की मौत हो चुकी है। सिविल सर्जन डॉ. अनिल बिरला ने बताया कि 669 लोगाें को होम आइसोलेशन में और 14 मरीजों को पीजीआई में भर्ती है। जिले में कितने लोगों में अब तक संक्रमण होकर जा चुका है, इसका पता लगाने के लिए 19 अक्टूबर से सीरो सर्वे की शुरुआत कर दी जाएगी।

काउंटर पर कर्मी बोला- यहां दवा नहीं मिलती

डॉक्टर द्वारा दवाएं देने से मना करने पर मरीज ट्रामा सेंटर में बने काउंटर पर पहुंचा। यहां पर बैठे कर्मचारी से दवा देने को कहा। कर्मचारी ने मरीज को जवाब दिया कि यहां पर दवाएं नहीं मिलती, बाहर से जाकर खरीद लो, सभी मरीज बाहर से दवाएं खरीद रहे हैं। मरीज ने बताया कि उन्होंने परिचित को कार्ड की फोटो सोशल मीडिया के जरिए भेजकर अमृत स्टोर से 10 दिन की दवा 400 रुपए में खरीदवाई। वहीं, सुभाष नगर निवासी मरीज ने बताया कि वह कोरोना पॉजिटिव आने के बाद उन्हें ट्रामा सेंटर में डॉक्टर ने बाहर से दवा लेने को बोला।

मरीज को लाने व छोड़ने का भी पुख्ता इंतजाम नहीं, गाइडलाइन बाद में चलती है पता

टेस्ट करवाने के बाद अगले दिन यदि किसी मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आ जाती है तो उसे ट्रामा सेंटर लाने या घर छोड़ने का भी पुख्ता इंतजाम नहीं है। मरीज अपने साधन से खुद आ और जा रहे हैं। ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा है। वहीं, ट्रामा सेंटर में मरीज को इलाज संबंधी गाइडलाइन भी सही तरीके से नहीं बताई जा रही। फोन पर बताने की कहकर मरीज को टरका दिया जाता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी अनुभवी तथा धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति से मुलाकात आपकी विचारधारा में भी सकारात्मक परिवर्तन लाएगी। तथा जीवन से जुड़े प्रत्येक कार्य को करने का बेहतरीन नजरिया प्राप्त होगा। आर्थिक स्थिति म...

और पढ़ें