पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बेड के लिए भटक रहे परिजन:ट्रामा सेंटर से काेविड निगेटिव रिपोर्ट आने पर स्टाफ मरीजों को मेडिसिन वार्ड में नहीं कर रहे भर्ती

रोहतक11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीजीआई के ट्रामा सेंटर में बेड फुल होने के बाद स्ट्रेचर पर लेटे कोविड मरीज। - Dainik Bhaskar
पीजीआई के ट्रामा सेंटर में बेड फुल होने के बाद स्ट्रेचर पर लेटे कोविड मरीज।
  • परिजनों का आरोप : वार्ड में भर्ती मरीजों को नहीं मिल रहा इलाज
  • दावा : मरीजों को हरसंभव उचित इलाज दिलाने में जुटा है स्टाफ

पीजीआई में कोरोना मरीजों के साथ अब नॉन कोविड मरीज को इलाज कराने के लिए बेड पाने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही है। ट्रामा सेंटर में कोविड का इलाज करा मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने पर स्टाफ मेडिसिन वार्ड के लिए शिफ्ट कर रहा है, लेकिन आलम यह है कि मरीजों को मेडिसिन विभाग के वार्ड 3 पर स्टाफ भर्ती करने से साफ मना कर रहा है।

वार्ड में भर्ती मरीजों के परिजनों का आरोप है कि चिकित्सक व नर्सिंग स्टाफ मरीजों के इलाज में लापरवाही बरत रहे हैं। इधर, पीजीआई की मेडिकल सुपरिंटेंडेंट ने पीजीआई में भर्ती कोविड व नॉन कोविड मरीजों को हरसंभव इलाज उपलब्ध कराने का दावा किया है, लेकिन जमीनी हकीकत इसके विपरीत है। कोरोना पीड़ित मरीज से लेकर नॉन कोविड मरीज तक इलाज के साथ बेड पाने के लिए भटक रहे हैं। हालांकि, प्रशासन लगातार मीटिंग कर व्यवस्थाओं को पटरी पर लाने के लिए लगातार प्रयासरत है।

डेढ़ माह से हाॅस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन के सीनियर प्रोफेसर को नहीं दी जिम्मेदारी : पीजीआई में हेल्थ केयर वर्कर कोरोना संक्रमित हो रहे हैं। जिम्मेदारों से अस्पताल प्रबंधन नहीं संभल रहा है। ऐसे में हास्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में अनुभव रखने वाले सीनियर प्रोफेसर एंड हेड डॉ. बिजेंद्र ढिल्लों को 15 मार्च से ज्वाइन कराने के बाद से डेढ़ माह बीतने पर भी उच्चाधिकारियों ने कोई जिम्मेदारी नहीं दी है।

महामारी की चपेट में आकर जब हेल्थ केयर वर्कर्स की कमी हो रही हैं। ऐसे में उच्चाधिकारियों की ओर से हाॅस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन संभालने के लिए सीनियर प्रोफेसर डॉ. बिजेंद्र को जिम्मेदारी न दिया जाना चर्चा का विषय बना है।

मेडिसिन विभाग के वार्ड 3 में कोविड मरीजों के बीच इलाज कराने को मजबूर नॉन कोविड मरीज

केस - 1 निगेटिव रिपोर्ट फिर भी मरीज को भर्ती करने से मना किया, जद्दोजहद के बाद मिला बेड

पटवापुर गांव निवासी सुनील कोरोना संक्रमित होने के बाद से पीजीआई के ट्रामा सेंटर में उपचार करा रहे थे। बुधवार को उनकी रिपोर्ट निगेटिव आने पर ट्रामा सेंटर स्टाफ ने परिजनों से मरीज को मेडिसिन विभाग के वार्ड 3 में ले जाने के लिए कह दिया।

ट्रांसफर कार्ड बनवाने के बाद परिजन मरीज सुनील को लेकर किसी तरह वार्ड 3 में पहुंचे। आधा घंटे इंतजार करने के बाद नर्सिंग स्टाफ ने वार्ड फुल होने का हवाला देकर एडमिट करने से मना कर दिया। सीनियर चिकित्सक के हस्तक्षेप के बाद मरीज सुनील को बेड मिल सका।

केस- 2 रिपोर्ट निगेटिव के बाद मुश्किल से मिला बेड, अब इलाज में आ रही दिक्कत

बोंद गांव निवासी रानी स्वास्थ्य विभाग में एएनएम है। करीब 10 दिन पहले कोरोना संक्रमित होने के बाद ट्रामा सेंटर में भर्ती हुईं। इनके पति का कहना है कि ट्रामा सेंटर के स्टाफ की ओर से उचित इलाज किए जाने के बाद रानी की कोविड रिपोर्ट निगेटिव आई।

ट्रामा सेंटर के स्टाफ ने मरीज को मेडिसिन विभाग के वार्ड 3 में ले जाने के लिए कहा। काफी प्रयासों के बाद पत्नी को भर्ती कर लिया। अब ड्यूटी स्टाफ वार्ड में मरीज को देखने तक नहीं आ रहे। पति का आरोप है कि वार्ड में सफाई नहीं है। कोरोना के डर से स्टाफ मरीजों को समय पर दवाएं भी नहीं उपलब्ध करा रहा।

159 मरीज हाई फ्लो ऑक्सीजन, 49 मरीज वेंटीलेटर पर भर्ती

पीजीआई में मंगलवार शाम तक 373 बेड पर 363 कोरोना मरीजों का चलता रहा। इनमें से 159 मरीजों को हाई फ्लो ऑक्सीजन सिस्टम और 49 मरीजों को वेंटीलेटर सिस्टम पर रखकर इलाज किया जाता रहा।

ट्रामा आईसीयू में 27 बेड पर 25 मरीज, डे केयर आईसीयू में 10 बेड पर 10 मरीज, एमआईसीयू ब्लॉक में 66 बेड पर 61 मरीज, ट्रामा सेंटर कोविड ब्लॉक में 117 बेड पर 165 मरीज, साइकेट्री ब्लॉक में 74 बेड पर 47 मरीज, आईसाेलेशन वार्ड नंबर 24 में 21 और वीआईपी वार्ड के 10 बेड पर कुल 21 मरीज, आईसोलेशन वार्ड नंबर 25 में 26 बेड पर 26 मरीज, आइसोलेशन वार्ड नंबर 26 में 30 बेड पर 16 मरीज, निक्कू में सात बेड पर 11 मरीज, सी ब्लॉक में 20 बेड पर 28 मरीजों का इलाज किया जाता रहा।

महम अस्पताल में 110 लोगों ने लगवाया टीका

महम, सिविल अस्पताल में मंगलवार को 18 प्लस आयु वर्ग के 36 युवाओं को वैक्सीन लगाई गई। इसके अलावा, 45 प्लस आयु वर्ग के 74 लोगों को वैक्सीन लगी। हेल्थ इंस्पेक्टर सुनील अहलावत ने बताया कि कुल 110 लोगों को वैक्सीन लगाई है। बुधवार को भी वैक्सीनेशन का काम जारी रहेगा।

अस्पताल में टीका लगवाने आए सुनील, मदन, अंकित ने बताया कि उन्हें सुबह 8 से दोपहर 3 बजे तक वैक्सीन लगाए जाने की जानकारी मिली थी। मगर अस्पताल में साढ़े 9 से दाेपहर 1 बजे तक ही वैक्सीनेशन का कार्य हो रहा है जो गलत है। रिंकू व विवेक ने अस्पताल की व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं।

उनका कहना है कि सोमवार दाेपहर एक बजे वैक्सीन लगवाने आए थे, लेकिन उन्हें वैक्सीनेशन का कार्य बंद करने की बात कहते हुए स्वास्थ्य कर्मचारी ने अगले दिन आने के लिए कह दिया। वैक्सीन किस समय से कब तक लगेगी इस बारे पहले कोई जानकारी नहीं दी जा रही। इनका आरोप है कि दो गज की दूरी के नियमों की भी यहां अस्पताल में अवहेलना हाे रही है।

बेड मिलने होने पर मरीज काे भर्ती करने से मना नहीं कर सकते : एमएस

कोविड वार्ड हो या नॉन कोविड वार्ड, यदि वार्ड में बेड उपलब्ध हैं तो ड्यूटी पर मौजूद स्टाफ सदस्य मरीज को भर्ती करने से मना नहीं कर सकता है। प्रशासन का पूरा प्रयास है कि संस्थान में आने वाले हर मरीज को बेड के साथ उचित इलाज उपलब्ध कराया जाए। वर्तमान समय में मरीजों की संख्या बढ़ने से हेल्थ केयर वर्कर्स पर लोड बढ़ा हुआ है। वो हरसंभव मरीजों को इलाज उपलब्ध कराने में जुटे हैं। फिर भी यदि कहीं दिक्कत बन रही है तो उस पर संज्ञान लेकर समाधान कराया जाएगा। - डॉ. पुष्पा दहिया, मेडिकल सुपरिंटेंडेंट, पीजीआईएमएस, रोहतक।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें