गंदा पानी गलियाें में जमा:अम्रु़त याेजना से कटे सुनारिया कलां-खुर्द, अब इस प्राेजेक्ट से यहां नहीं बिछेंगे सीवर

रोहतक3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीवर लाइन न होने से कीचड़ से बदहाल सुनारिया की एक गली। - Dainik Bhaskar
सीवर लाइन न होने से कीचड़ से बदहाल सुनारिया की एक गली।
  • जाेहड़ में जलभराव के बाद गंदा पानी गलियाें में जमा हाेता है

वार्ड-22 के सुनारिया कलां व सुनारिया खुर्द में अब सीवर की पाइप लाइनें नहीं बिछेंगी। जबकि लगभग 20 हजार आबादी वाले इन दोनों गांवों का सीवरेज सिस्टम दुरुस्त करने के लिए ही इसे अम्रुत योजना में शामिल किया गया था। वर्तमान में यहां गंदे और बरसाती पानी निकासी का कोई प्रबंध नहीं है।

जाेहड़ में जलभराव के बाद गंदा पानी गलियाें में जमा हाेता है। इससे यहां के निवासियों का अपने घर से बाहर निकलना भी मुश्किल हो जाता है। फिर भी नगर निगम की ओर से इस मामले की फाइल चंडीगढ़ मुख्यालय भेजी गई। तब जाकर शीर्ष अधिकारियों ने अम्रुत याेजना के स्कोप से इन दोनों गांवों को बाहर कर दिया। इसकी वजह पार्षद प्रतिनिधि और ठेकेदार के बीच विवाद बताया जा रहा है। मेयर मनमोहन गोयल और नगर निगम कमिश्नर भी अवगत होने के बावजूद इसका समाधान नहीं करा सके। वर्ष 2010 में सुनारिया खुर्द और सुनारिया कलां गांव नगर निगम में शामिल हुए थे।

अम्रुत योजना में ये होने थे कार्य

अम्रुत योजना के तहत सुनारिया खुर्द और सुनारिया कलां गांव में करीब 20 किलाेमीटर सीवर लाइन बिछाई जानी थी। साथ ही इंडिपेंडेंट पंप स्टेशन (आईपीएस) का निर्माण किया जाना था। दोनों गांवों में सीवर के जमा गंदा पानी को लिफ्ट कर पुरानी शुगर मिल एरिया में बनाए गए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट पहुंचाया जाना था।

जल जीवन मिशन से जोड़ने का प्रयास

चंडीगढ़ मुख्यालय से जहां भी अम्रुत योजना प्रोजेक्ट का कार्य शुरू नहीं था, उसे कैंसिल कर दिया है। सुनारिया कलां व सुनारिया खुर्द गांव भी इसमें शामिल है। हालांकि जल जीवन मिशन के तहत यहां दोबारा से सीवर कार्य कराने का प्रयास जारी है।
-मंजीत दहिया, एक्सईएन हेडक्वार्टर नगर निगम।

पार्षद-ठेकेदार की खींचतान का नतीजा

पार्षद व ठेकेदार की आपसी खींचतान हो गई। सुनारिया कलां व सुनारिया खुर्द गांव को चंडीगढ़ से अम्रुत योजना से काट दिया गया है। फिर भी उच्चाधिकारियों से बातचीत कर दोबारा इसे प्रोजेक्ट में शामिल कराने का प्रयास है।
-मनमोहन गोयल, मेयर नगर निगम।

खबरें और भी हैं...