• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • The City's Deepawali Will Remain In The Dark This Time Too, 19 Thousand Old Street Lights Of The Municipal Corporation Will Be Changed, 1200 Street Lights Will Be Installed In The City As Per The Requirement In Ward 1, 9, 10, 20, 21 And Ward 22

निगम की धीमी कार्यशैली:शहर की दीपावली इस बार भी रहेगी अंधेरे में, नगर निगम की 19 हजार पुरानी स्ट्रीट लाइट होंगी चेंज, शहर में 1200 स्ट्रीट लाइट जरूरत अनुसार वार्ड 1, 9, 10, 20, 21 व वार्ड 22 में लगेंगी

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हर वार्ड में 400 नई स्ट्रीट लाइट लगाने का प्रस्ताव

रोशीनी के त्योहार दीपावली पर भी नगर निगम के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र की गलियां व चौराहे रोशन नहीं हो सकेंगे। इस दीपावली भी जनता को अपने दीयों व मोमबत्ती से काम चलाना पड़ेगा। इसके पीछे का कारण, नगर निगम की धीमी कार्यशैली है। खैर, नए साल में उम्मीद है कि शहर के 22 वार्ड में आबाद मोहल्ले, कॉलोनियों और चौक-चौराहों की 19 हजार पुरानी स्ट्रीट लाइटों की एलईडी में बदली जाएंगी। जबकि 10 हजार नई एलईडी लगाए जाने से शहर रोशन हाेगा। जगमग योजना के तहत 20 वॉट लेकर 200 वॉट तक क्षमता वाली एलईडी लाइटें लगाई जाएंगी।

नगर निगम की इलेक्ट्रिकल ब्रांच की ओर से इससे संबंधित प्रस्ताव चंडीगढ़ मुख्यालय भेजने के बाद एजेंसी की ओर से वार्ड वाइज सर्वे किया जा रहा है। यह एक महीने में पूरा हो जाएगा।

निगम में शामिल सभी 8 गांवों बोहर, बलियाणा, खेड़ीसाध, पहरावर, कन्हेली, सुनारियां खुर्द, सुनारिया कलां ओर कुताना बस्ती पर सबसे ज्यादा फोकस है। हर वार्ड में औसतन 400 नई स्ट्रीट लाइट एलईडी वाली लगाई जाएंगी। बाकी बची 1200 नई स्ट्रीट लाइट गांव वाले वार्ड में अतिरिक्त लगेंगी। जैसे वार्ड-9 के बोहर, गढ़ी बोहर, वार्ड-10 के बलियाणा, खेड़ीसाध, पहरावर, कन्हेली गांव, वार्ड-20, 21 के आउटर कॉलोनियों और वार्ड-22 में शामिल सुनारिया खुर्द, सुनारिया कलां गांव में जरूरत के हिसाब से लगाई जाएंगी।

एजेंसी काे 10 वर्ष तक करना हाेगा मेंटेनेंस

जगमग योजना का टेंडर लेने वाली एजेंसी को स्ट्रीट लाइट लगाने के अलावा इसी बजट में 10 वर्ष तक स्ट्रीट लाइट का मेंटेनेंस वर्क देखना होगा। हालांकि भविष्य में अप्रूव्ड होने वाली नई कॉलोनियों में स्ट्रीट लाइटें लगाने का खर्च एजेंसी अलग से वसूल करेगी। दावा है कि स्ट्रीट लाइटों को प्रोजेक्ट देख रही एजेंसी की ओर से जोन वार टोल फ्री फोन नंबर जारी किए जाएंगे। कर्मचारी शहर से स्ट्रीट लाइट की आने वाली कंप्लेंट रजिस्टर कर उसका तत्काल मेंटीनेंस कराएंगे।

जगमग योजना से ऐसे होगा रोशन प्रदेश

जगमग योजना में साढ़े 1100 करोड़ रुपए खर्च करके प्रदेश के 83 शहरों के चौक-चौराहे रोशन किए जाएंगे। इसके लिए लगभग 4 लाख 60 हजार 600 छोटी-बड़ी स्ट्रीट लाइट लगाई जाएंगी। इसके लिए नगर निगम ने एजेंसी को काम सौंपा गया है। अब नगर निगम, परिषद अथवा पालिका परिषद अपने स्तर से स्ट्रीट लाइट की खरीद नहीं कर सकेंगी। नए प्रोजेक्ट में सुविधा और मेंटेनेंस कार्य को देखते हुए प्रदेश के सभी जिलों को चार अलग अलग जोन में बांटा गया है। संबधित एजेंसी की ओर से निकाय प्रशासन की मदद से स्ट्रीट लाइट का सर्वे कार्य चल रहा है। यह सर्वे कार्य जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है। उसके बाद आगे का कार्य शुरू होगा।

खबरें और भी हैं...