• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • The Voice Raised For Opening Classes And Hostels In Offline Mode, Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad Submitted A Memorandum To The Registrar Of MDU

कुलसचिव के समक्ष मांग रखी:ऑफलाइन मोड में कक्षाएं व हॉस्टल खोलने के लिए उठी आवाज, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने एमडीयू के कुलसचिव को ज्ञापन सौंपा

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हॉस्टल की मांग को लेकर प्रदर्शन करते एबीवीपी के पदाधिकारी। - Dainik Bhaskar
हॉस्टल की मांग को लेकर प्रदर्शन करते एबीवीपी के पदाधिकारी।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के कुलसचिव को ज्ञापन सौंपा। प्रदेश सहमंत्री एवं एमडीयू इकाई अध्यक्ष सन्‍नी नारा ने बताया कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने 18 वर्ष से कम आयु के छात्रों के लिए जिनको वैक्सीन की डोज नहीं लगी है। उन्हें ऑफलाइन मोड में कक्षाएं व हॉस्टल उपलब्ध नहीं होंगे।

इस प्रकार के तुगलकी फरमान जारी करके विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों को शिक्षा से वंचित करने का काम कर रहा है। यह नियम यूजी प्रथम वर्ष के छात्र जो 18 वर्ष से कम आयु के हैं। उनके लिए यह नियम लागू किया गया है, लेकिन यूजी प्रथम वर्ष में बहुत सारे छात्र 18 वर्ष से ऊपर के हैं और उन्हें वैक्सीन डोज लग चुकी है, उन्हें भी इस नियम में लाया गया है। बहुत छात्र जो यूजी द्वितीय वर्ष में है। उनमें से भी कई छात्र 18 वर्ष से कम आयु के हैं। उनको भी हॉस्टल उपलब्ध नहीं कराए जा रहे।

छात्र नेता सन्‍नी नारा ने कुलसचिव के सामने यह मांग उठाई जिन छात्रों को वैक्सीन की डोज नहीं लगी है। या 18 वर्ष से कम आयु के हैं। उनको आरटी-पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट के माध्यम से उनको कक्षाएं भी लगाई जा सकती है। उनको हॉस्टल भी उपलब्ध कराए जा सकते हैं।

स्टूडेंट्स बाेले- फैसला नहीं बदला तो संघर्ष करेंगे : विश्वविद्यालय कुलसचिव ने आश्वासन दिया कि 28 नवंबर तक मांगों पर उचित फैसला लिया जाएगा। छात्रों के साथ किसी भी प्रकार का अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। स्टूडेंट्स ने कहा कि अगर विश्वविद्यालय प्रशासन अपना फैसला नहीं बदलता विद्यार्थी परिषद छात्रों के लिए संघर्ष करेगा। इस मौके पर इकाई मंत्री सुधीर घनघस, विनय मलिक गांधी, निखिल, विनय धनखड़, निखिल गिझी, अमन व अर्जुन आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...