पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मकड़ौली खुर्द गांव में प्लांट तैयार:ऑक्सीजन का इंतजार, संचालक बोले-नहीं चला प्लांट तो पलायन कर जाएगी लेबर

राेहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मकड़ौली गांव में लगाया गया ऑक्सीजन का प्लांट। - Dainik Bhaskar
मकड़ौली गांव में लगाया गया ऑक्सीजन का प्लांट।
  • प्लांट काे पीजीआई को सौंपा, तत्काल प्लांट से करवा दी जाएगी रिफिलिंग

कोरोना काल में ऑक्सीजन के लिए मारामारी को लेकर मकड़ाैली खुर्द में प्लांट तो बना दिया, लेकिन इसमें ऑक्सीजन नहीं पहुंची। ऐसे में यहां पर प्लांट संचालक की ओर से लाई गई 8 लेबर खाली बैठी है।

संचालक का कहना है कि अब लेबर लगातार काम ना होने के चलते लॉकडाउन में वापस बिहार जाने की बात कह रही है। प्लांट में काम शुरू हो जाए तो लेबर को भी रोका जा सकेगा और आमजन को ऑक्सीजन की सप्लाई भी की जा सकेगी। वहीं डीसी का कहना है कि जिले का ऑक्सीजन का काेटा बढ़ाया जा रहा है और प्लांट भी तैयार है। इस प्लांट काे पीजीआईएमएस को सौंपा गया है। जैसे ही अतिरिक्त ऑक्सीजन की सप्लाई सुचारू होगी, तत्काल प्लांट से रिफिलिंग करवा दी जाएगी।

महीनेभर से खाली बैठी है लेबर : दीपक एयर गैस के संचालक शिवकुमार सिंगला ने बताया कि महीनेभर से उसकी लेबर खाली बैठी है। उसके पास प्लांट में दो टैंक है। एक की क्षमता 20 किलोलीटर और दूसरे की क्षमता 13 किलोलीटर है। यदि यहां पर लिक्विड गैस की सप्लाई आने लग जाए तो वे एक ही दिन में एक हजार तक सिलेंडर भरकर पीजीआईएमएस और जनता को दे सकेंगे और लोगों का भी भला हाे जाएगा।

फिलहाल हर महीने का एक लाख 60 हजार रुपए का खर्च लेबर का जेब से ही देना पड़ रहा है और वहीं पिछले साल लॉकडाउन के समय से इस प्लांट काे लगाना शुरू किया था और अब पूरा भी हो चुका है, लेकिन ऑक्सीजन न आने की वजह से काम अटका पड़ा है।

खबरें और भी हैं...