• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • When The Tender Of The Agency Handling The Responsibility For 4 Years Ended, The Other Took Charge, Then 8 Cows Were Found Dead.

नगर निगम की गोशाला में भी दम तोड़ रहे गोवंश:4 साल जिम्मा संभालने वाली एजेंसी का टेंडर खत्म होने पर दूसरी ने चार्ज लिया तो 8 गोवंश मृत मिले

रोहतक10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राेहतक में गोवंश की गाेशाला में ही बेकद्री का बड़ा मामला सामने आया है। इस गोशाला का संचालन नगर निगम करता है। गुरुवार की सुबह गोशाला में 8 गोवंश की मौत होने की पुष्टि हुई है। दरअसल 4 साल से इस गोशाला का जिम्मा संभाल रही एक एजेंसी का टेंडर बुधवार को ही खत्म हुआ है।

सुबह दूसरी एजेंसी ने जैसे ही कार्यभार संभाला वहां मरे हुए गोवंश मिले। नगर निगम की 4 हजार गोवंश रखने की क्षमता वाली इस गोशाला में फिलहाल 2700 गोवंश हैं। नगर निगम की टीमों द्वारा शहर से रेस्क्यू किए व पंचायतों की ओर से भेजे गोवंश को यहां रखा जाता है।

गोवंश की मौत की सूचना मिलने के बाद पशु चिकित्सा विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डाॅ. सूर्य खटकड़ भी गोशाला पहुंचे। सूत्रों के अनुसार एक रिपोर्ट तैयार की है। इसमें बताया गया है कई पशु पॉलीथिन खाने से बीमार चल रहे थे। इसी वजह से उनकी मौत हुई होगी। वहीं डॉ. सूर्य खटकड़ का कहना है कि जो गोवंश मृत मिले हैं उनकी डेथ रिपोर्ट का ऑडिट होगा।

पहले एजेंसी का तर्क: गोवंश को चारा नहीं डाला गया
4 साल तक रोहतक नगर निगम की गोशाला का जिम्मा संभालने वाले रोहतक शहर के राजेश लूंबा ने बताया कि बुधवार रात को ही उन्होंने नई एजेंसी को चार्ज दे दिया था। लेकिन नए ठेकेदार के पास लेबर पूरी नहीं थी। सभी गोवंश को रात में चारा नहीं मिला। गोशाला में बीमार गोवंश लाया जाता है। ऐसे में उनकी मौत हो गई। मैंने अपनी लेबर नए ठेकेदार को गोवंश के लिए दे दी है।

जब चार्ज मिला तब 8 गोवंश मृत मिले: नया ठेकेदार
नूणा माजरा के मनोज को नगर निगम ने गोशाला की संभाल का जिम्मा दिया है। मनोज का कहना है कि उन्हें गुरुवार सुबह 7 बजे गोशाला का चार्ज मिला था। तब उन्हें 8 गोवंश मृत मिले थे। अब गोशाला की जिम्मेदारी बेहतर ढंग से निभाएंगे।

खबरें और भी हैं...