• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Woman Sweeper Accuses Four Including SMO Of Harassing Her, Not Paying Salary For Three Months And Threatening To Be Fired

रोहतक सिविल अस्पताल की स्वीपर ने निगला जहर:SMO समेत 4 पर लगाए परेशान करने, 3 माह से सैलरी न देने और नौकरी से निकाले जाने की धमकी देने के आरोप

रोहतक10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोहतक पीजीआई में उपचाराधीन सिविल अस्पताल की महिला स्वीपर सुनीता। - Dainik Bhaskar
रोहतक पीजीआई में उपचाराधीन सिविल अस्पताल की महिला स्वीपर सुनीता।

हरियाणा के रोहतक जिले के सिविल अस्पताल की महिला स्वीपर ने अस्पताल परिसर में ही शुक्रवार सुबह चूहे मारने की दवा निगल ली। जिसके बाद उसकी हालत बिगड़ी तो अस्पताल के स्टाफ ने उन्हें रोहतक पीजीआई में भर्ती करवाया। महिला ने एसएमओ, सुपरवाइजर, ठेकेदार व एक अन्य महिला पर आत्महत्या करने को मजबूर करने के लिए विवश करने की शिकायत दी है। महिला स्वीपर ने यह शिकायत रोहतक पुलिस सहित मुख्यमंत्री को लिखी है।

तीन माह से नहीं दिया वेतन, चारों कर रहे परेशान

पुलिस को दी शिकायत में पाड़ा मोहल्ला निवासी महिला स्वीपर सुनीता ने बताया कि वह सिविल अस्पताल में ठेकेदार के मार्फत स्वीपर लगी हुई है। उसे तीन साल से एसएमओ किसी न किसी बात से परेशान करता आ रहा है। अब तीन माह से उसे वेतन भी नहीं दिया है। इतना ही नहीं, उसे किसी भी तरह की गलती का हवाला देकर काम से निकाले जाने की भी तैयारी कर रहे हैं। उसकी दो बेटियां स्कूल जाती हैं। वह उनकी फीस नहीं दे पा रही है। उसके लिए घर चलाना मुश्किल हो रहा है। परेशानी में आकर उसने शुक्रवार को चूहे मारने की दवा निगल ली।

सिविल अस्पताल रोहतक।
सिविल अस्पताल रोहतक।

22 लोगों का रोका है वेतन, आंदोलन की चेतावनी

महिला स्वीपर के जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या करने का प्रयास करने के बाद से ठेकेदार के तहत लगे कर्मचारियों में रोष है। कर्मचारियों का कहना है कि 22 लोगों का वेतन तीन माह से रोका हुआ है। कर्मचारियों के अनुसार, आरोपी अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करके जल्द कार्रवाई नहीं हुई तो वे आंदोलन करेंगे और यह आंदोलन बड़े स्तर पर होगा।

आरोप बेबुनियाद, समस्याओं के निदान का करते हैं हरसंभव प्रयास

मुझ पर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं। ठेकेदारी के तहत लगे कर्मचारियों को उन्होंने बोल दिया है कि अगर किसी का वेतन ज्यादा समय से नहीं आया है तो वे उन्हें सूचित करें। वे ठेकेदार के खिलाफ सीएमओ को पत्र लिखकर सूचित करेंगे। कर्मचारियों की समस्याओं का निदान करने के लिए वे हरसंभव प्रयास करते हैं।

- डॉ. रमेश, एसएमओ, सामान्य अस्पताल रोहतक

खबरें और भी हैं...