पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पुलिस की सख्त कार्रवाई:अब तक 17898 चालान, 89.59 लाख रुपए जुर्माना; 10 रुपए का भी मास्क लगा लेंगे तो कोरोना व जुर्माना दोनों से बचे रहेंगे

रेवाड़ी5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना ने फिर से खतरनाक रूप दिखाना शुरू कर दिया है। इस सप्ताह में एक जिंदगी छीन चुका है तथा पॉजिटिव केसों की संख्या भी बढ़ रही है। गुरुवार को एक दिन में 29 नए संक्रमित मिले। 14 दिसंबर (करीब 4 माह) के बाद एक ही दिन में इतने मामले सामने आए हैं। तीन ही दिन में 2 बार एक दिन में मिलने वाले संक्रमितों का आंकड़ा 20 की संख्या से पार रहा है।

इसके बावजूद भी अब बाजार में आधे से ज्यादा लोगों के चेहरे से मास्क गायब नजर आ रहा है। जबकि मास्क नहीं लगाने की लापरवाही की बड़ी कीमत भी रेवाड़ी चुका चुका है। अधिकारियों के अनुसार 2020-21 में अब तक जिला में मास्क नहीं लगाने पर 17898 चालान किए गए हैं।

500 रुपए के हिसाब से इन पर लगी जुर्माना राशि 89 लाख 49 हजार रुपए हो गई। भारी भरकम जुर्माना भरने के बाद भी लोग लापरवाह बने हुए हैं। चालान और जुर्माना इसलिए किया जा रहा है ताकि लोग सबक सीख सकें कि मास्क लगाएंगे तो कोरोना और जुर्माना दोनेां से बचे रहेंगे।

दूसरी लहर; दिसंबर की तरह 20-30 केस, रोज 50-100 केस वाले हालात न बन जाएं

कोरोना की जिला में ये दूसरी लहर है। इससे पहले 2021 की शुरूआत से ही कोरोना थमना शुरू हो गया था। दो बार ऐसा भी हुआ, जब जिला में एक भी सक्रिय केस नहीं था। यानी जिला कोरोना मुक्त हुआ, मगर फिर से केस बढ़ने शुरू हो गए हैं।

लौट रहे कोरोना के चलते दिसंबर 2020 वाली स्थिति तो बन चुकी है। उस समय 20-30 केस आ रहे थे। अब अप्रैल में 3 दिन के अंदर ही पहले 27 और अब 29 केस आ चुके हैं। अब भी नहीं संभले तो हालात सितंबर- अक्टूबर 2020 वाले होंगे, जब 50-100 केस आ रहे थे। कई लोगो की जानें भी गई थी।

टेस्टिंग घटी... रोज 346 सैंपल पहले संख्या 800 से ज्यादा थी

जिले में सैंपलिंग भी अब पहले जितनी नहीं हो रही। अप्रैल माह के शुरुआती 8 दिनों में ही देखें तो औसत 346 सैंपल लिए जा रहे हैं। एक से 6 अप्रैल तक क्रमश: 217, 283, 303, 307, 150 व 370 सैंपल लिए गए। 7 व 8 अप्रैल को सैंपलिंग बढ़ी तथा 678 व 749 सैंपल लिए गए। यही वजह भी है कि केस कम आ रहे हैं। यदि सैंपलिंग बढ़नी शुरू हुई तो कोरोना का ग्राफ भी बढ़ना तय है।

कोरोना बढ़ रहा है... 29 नए केस; 14 दिसंबर के बाद मिले हैं इतने संक्रमित

जिले को 21 हजार डोज मिली गुरुवार को कोरोना वैक्सीन की भी बड़ी खेप मिल गई है। जिले को 21 हजार कोविशील्ड मिली हैं तथा 5 हजार कोवैक्सीन शुक्रवार को आने की उम्मीद है। दवा मिलने के बाद गुरुवार सुबह ही सीएचसी-पीएचसी में वितरित कर दी गई। सामान्य अस्पताल में दो दिन से कोरोना वैक्सीन खत्म थी।

टीकाकरण फिर शुरू हो गया। दिनभर में जिले में करीब 3 हजार डोज लगाई गई। कोविड-19 महामारी से बचने के लिए मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी नियम है। हम अस्पताल में संक्रमितों के ईर्द-गीर्द ही रहे हैं, मगर फिर भी कोरोना से सुरक्षित रह पा रहे हैं। इसकी वजह ये है कि मास्क जरूर पहनते हैं तथा सोशल डिस्टेंसिंग पर भी ध्यान देते हैं। अस्पताल में टेस्टिंग भी बढ़ाई जाएगी।
-डॉ. अशोक कुमार, डिप्टी सिविल सर्जन।

टेस्टिंग और केस कम होने की 3 मुख्य वजह...

1. कंपनियों-स्कूलों में जांच नहीं : पहले औद्योगिक इकाइयों में बड़े स्तर पर जांच शुरू की गई थी। हर कंपनी में विशेष कैंप लगे तथा टेस्टिंग अनिवार्य की गई थी। इसके बाद कंपनियों में एंट्री तक नहीं थी। स्कूलों में भी कुछ दिन सैंपलिंग हुई थी। अब दोनों जगह सैंपलिंग नहीं हो रही।

2. टीकाकरण भी शुरू हुआ : स्वास्थ्य विभाग की टीम पर अब टीकाकरण का भी बड़ा भार है। ऐसे में टेस्टिंग और टीकाकरण दाेनाें तरफ विभाग को बराबर काम करना पड़ रहा है। ये वजह भी है कि टेस्टिंग कम हो पा रही है। पहले पूरा विभाग सिर्फ टेस्टिंग पर ही फोकस किए हुए था।

3. अस्पताल में पहले जैसी कतार नहीं : पहले लोग खुद अस्पतालों में टेस्टिंग के लिए पहुंच रहे थे तथा उनका नंबर काफी देर बाद आ पाता था। अब अस्पतालों में सैंपल देने के लिए उस तरह की लाइन नजर नहीं आती। अनलॉक में भी कोरोना रिपोर्ट जरूरी की थी, इसलिए ज्यादा टेस्टिंग थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें