लौटने वाले लापता:विदेश से 74 व्यक्ति और आए, कइयों के गलत पते व नंबर बंद होने से नहीं किए जा सके हैं ट्रेस

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इनसे संक्रमण फैलने का सबसे अधिक खतरा, जानकारी जुटाने में सीएचसी, पीएचसी और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की ड्यूटी लगाई। - Dainik Bhaskar
इनसे संक्रमण फैलने का सबसे अधिक खतरा, जानकारी जुटाने में सीएचसी, पीएचसी और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की ड्यूटी लगाई।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के देश में कई मामले मिल चुके हैं। पड़ोसी जिले राजस्थान में भी यह दस्तक दे चुका है। ऐसे में हर जगह विदेश से आने वालों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। जिले में भी अब 74 व्यक्ति और विदेश से आए हैं, जिनकी ट्रेसिंग जारी है। हालांकि इनका पता लगाना इस समय चुनौती है। विभागीय टीम के सामने विदेशों से आने वाले कुछ लोगों के द्वारा गलत पते और नंबर दिए जाने से उनको ढूंढना मुश्किल हो रहा है।

विदेश के ही नंबर दिए जाने से वे यहां बंद हो जाते हैं, जिससे उनकी जानकारी जुटाने में टीम को मशक्कत करनी पड़ रही है। जिले में इससे पहले 54 व्यक्ति विदेश से आए थे, जिनको ट्रेस कर होम क्वारेंटाइन किया हुआ है। इधर, जिले में अब नए वैरिएंट की चिंता के कारण दूसरी डोज लगवाने वालों का आंकड़ा बढ़ रहा है। मंगलवार को जिले में 7322 लोगों को डोज लगाई गई, जिनमें 796 को पहला और 6526 को दूसरा टीका लगाया गया। जबकि अब तक जिले में 409094 को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है।

7 दिन होम क्वारेंटाइन के बाद होगा सैंपल

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार जो भी विदेश से आ रहे हैं, उनको 7 दिन के लिए होम क्वारेंटाइन किया जा रहा है। क्वारेंटाइन पूरा होने के बाद उनका सैंपल होगा। सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव मिलने पर ही वे बाहर आ-जा सकेंगे। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार विदेश से देश में आते ही एयरपोर्ट पर इनके सैंपल लिए जाते हैं।

इसके बाद ही उन्हें संबंधित जिलो में जाने की अनुमति दी जाती है। इसलिए यहां एक सप्ताह बाद इनकी सैंपलिंग की जाती है, ताकि लक्षण हों तो समय रहते पता लगाया जा सके। फिलहाल 74 लोगों को ट्रेस करने पर फोकस है। इनके मिलने के बाद अनिवार्य रूप से क्वारेंटाइन किया जाएगा।

टीकाकरण तेज हुआ

आज यहां लगेंगे टीके- विभागीय शेड्यूल अनुसार जिले में बुधवार को जीएच रेवाड़ी, एसडीएच कोसली, गांव टींट, सीएचसी गुरावड़ा, सीएचसी नाहड़, सीएचसी बावल, गांव शेखपुर, गांव सुठाना, गांव जाटी, गांव बुडानी, गांव ढोहकी, सेक्टर-4 हुडा डिस्पेंसरी, यूपीएचसी कुतुबपुर, यूपीएचसी राजीव नगर, यूपीएचसी आकेड़ा, पीएचसी डहीना, पीएचसी जाटूसाना, पीएचसी फतेहपुरी, पीएचसी गंगायचा अहीर, गांव गोकलगढ़, गांव गिंदोखर, पीएचसी धारूहेड़ा, पीएचसी मसानी, पीएचसी भाडावास, पीएचसी संगवाड़ी, सब सेंटर राजगढ़, सब सेंटर बेरवाल, सब सेंटर मोहनपुर, सब सेंटर भड़ंगी, सब सेंटर खंडोड़ा, सब सेंटर टांकड़ी, पीएचसी बासदूदा, पीएचसी सीहा, पीएचसी बोहतवास अहीर, पीएचसी गुडियानी और पीएचसी बव्वा में पहली और दूसरी डोज बिना अग्रिम बुकिंग के लगवा सकते हैं। इन केंद्रों पर कोई भी मौके पर पहुंचकर रजिस्ट्रेशन कराकर वैक्सीन लगवा सकता है। इसके अलावा और भी कई जगह केंद्र बनाए गए हैं।

कोसली अस्पताल में 70 लोगों को लगी वैक्सीन

कोसली सामान्य अस्पताल में 70 लोगों को कोरोना से बचाव के लिए टीके लगाए गए। एसएमओ डॉ. चितरंजन ने कहा कि कोविड-19 का संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है, इस वैश्विक महामारी से बचाव के लिए जागरूकता बेहद जरूरी है। मंगलवार को नोडल अधिकारी डॉ. जयपाल, सुमिता, कांता रानी, चंचल, मोनू तथा सरला की टीम ने टीकाकरण प्रभार संभाला।

खबरें और भी हैं...