पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निर्देश:85 दिन बाद कल से लगेंगी 9 से 12वीं की कक्षाएं स्कूलों में जगह के अनुसार बुलाए जाएंगे विद्यार्थी

रेवाड़ी18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सोशल डिस्टेंस की पालना के लिए सभी शिक्षा अधिकारियों व स्कूल हेड को दिए निर्देश

कोरोनाकाल में विद्यार्थियों की शिक्षा पर सबसे ज्यादा असर पड़ा है। गत एक जून से शिक्षकों के लिए तो स्कूल खुल गए थे, लेकिन विद्यार्थियों के लिए बंद थे। आखिर अब 85 दिन बाद 16 जुलाई से कक्षा 9 से 12वीं के लिए स्कूल खुल जाएंगे। इन कक्षाओं के विद्यार्थी अपनी कक्षा में शिक्षक के सामने बैठकर पढ़ाई कर सकेंगे।

इस बार बच्चों को माता-पिता की लिखित अनुमति ही लेकर आनी होगी। सबसे जरूरी है कि इस बार बच्चों की हाजिरी से लेकर उनका पूरा रिकॉर्ड तापमान सहित अवसर एप पर ही मेंटेन करना होगा। किसी बच्चे में कोविड के लक्षण दिखते हैं तो वह भी एप पर ही रिपोर्ट देनी होगी। स्कूलों में सुबह 9 से 12 बजे तक कक्षाएं लगेंगी। बता दें कि कक्षा 6 से 8वीं तक के स्कूल भी 23 जुलाई से खुल जाएंगे।

स्कूलों में तैयारी

जिले के स्कूलों में फिलहाल तैयारियां चल रही हैं। स्कूलों में बच्चों के बैठने के कमरों से लेकर बरामदे व हॉल की साफ-सफाई कराई जा रही है। कमरों को सेनिटाइज भी कराया जा रहा है। बच्चों की क्षमता अनुसार सीटिंग प्लान भी तैयार किया जा रहा है।

जिले में कुछ सीनियर सेकेंडरी स्कूल ऐसे भी हैं, जिनमें बच्चों की संख्या ज्यादा है। वहां रोस्टर से ही बच्चों को बैठाने की व्यवस्था के लिए चुनौति रहेगी। इधर, कुछ स्कूलों के मुखियाओं ने भी स्टाफ के साथ बैठक कर पूरी प्लानिंग भी बनानी शुरू कर दी है।

निर्देश जिनकी पालना जरूरी

  • सभी बच्चे लिखित में माता-पिता की अनुमति लेकर आएंगे। बच्चे की सीट भी फिक्स होगी।
  • बच्चों का स्कूल के गेट पर ही तापमान जांचा जाएगा।
  • बच्चों की अटेंडेंस भी अवसर एप पर लगेगी। इसमें तापमान कम या ज्यादा है तो वह भी रिपोर्ट देनी होगी।
  • स्कूल में क्षमता अनुसार ही विद्यार्थी बुलाए जाएंगे, यानि जिन स्कूलों में बैठने की व्यवस्था कम है, वहां बच्चे ज्यादा है तो उसी अनुसार रोस्टर से बुलाएं। ताकि सोशल डिस्टेंस की पालना हो सके। बरामदे, हॉल में भी बैठाए जा सकते हैं।
  • बच्चे एक-दूसरे से कोई वस्तु या खाने-पीने की चीज शेयर नहीं करेंगे। पानी की बोतल भी लेकर आएंगे।
  • मास्क भी पूरी तरह अनिवार्य है।
  • एसएमसी के सदस्य गेट पर व्यवस्था बनवाने में सहायता व निरीक्षण भी करेंगे।
  • अध्यापकों का वैक्सीनेशन भी जरूरी है।
  • हर दिन सेनिटाइजेशन कार्य होगा।
  • ई-लर्निंग लगातार चलती रहेगी, कोई विद्यार्थी स्कूल न आकर ऑनलाइन पढ़ाई करता है तो वह घर से पढ़ाई कर सकता है।

अभिभावक अभी बच्चों को भेजने में हां और ना की असमंजस में

जिले में बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अभी अभिभावक हां और ना की असमंजस में फंसे हैं। कुछ अभिभावकों का कहना है कि तीसरी लहर जो आनी बाकी है, उसे देख लेते हैं, तब ही बच्चों को स्कूल भेजेंगे। जबकि बहुतों का कहना है कि लंबे समय से ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है। ऐसे में बच्चों की आंखों पर भी असर पड़ा है। इसलिए अब पूरी सावधानी से ऑफलाइन ही पढ़ाई होनी चाहिए।

कक्षाओं को लेकर स्कूल मुखियाओं को दिए दिशा-निर्देश : डिप्टी डीईओ

जिस स्कूल में बैठने की जितनी क्षमता है, उसी अनुसार ही स्कूल हैड बच्चे बुलाएंगे। ताकि सोशल डिस्टेंस मेंटेन रहे। बच्चे एक-दूसरे से कुछ भी चीज शेयर नहीं करेंगे। अन्य व्यवस्था को लेकर भी दिशा-निर्देश दे दिए गए हैं। अभी 9 से 12 के ही बच्चे आएंगे और 23 जुलाई से 6 से 8वीं के स्कूल भी खुल जाएंगे। -डॉ. खुशीराम, डिप्टी डीईओ, रेवाड़ी

खबरें और भी हैं...