• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rewari
  • After Passing 12th From UP, The Office Boy Engaged In The Coaching Institute For Wages, Got Ready To Study, Asked For Selection In Hamirpur IIT

जज्बे से हासिल की जीत:यूपी से 12वीं पास करके मजदूरी के लिए आया कोचिंग संस्थान में लगा ऑफिस ब्वॉय, पढ़ने की ललक देख कराई तैयारी, हमीरपुर आईआईटी में हुआ चयन

रेवाड़ीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी निवासी छात्र की यह कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है। यूपी से मजदूरी के लिए शहर में आए पवन कुमार ने कभी सोचा भी नहीं था वह आईआईटी तक भी पहुंचेगा। परिवार की माली हालत और परिस्थितियां ऐसी हैं कि इसके बारे में कभी ख्याल भी नहीं आया। जीवन में आए एक मोड़ ने आज पवन कुमार को आईआईटी हमीरपुर में मैकेनिकल इंजीनियरिंग का छात्र बना दिया।
हिंदी माध्यम का छात्र होने से भी आई परेशानी

पवन कुमार हिंदी माध्यम का छात्र था लेकिन अंग्रेजी में ज्यादा अच्छी पकड़ नहीं थी। इसकी वजह से आईआईटी की क्लास में शुरुआत में दिक्कत भी आई। एक बार तो पवन ने बीच में ही क्लास छोड़ने का फैसला कर लिया था लेकिन शिक्षक सचिन शर्मा ने हौसला बढ़ाया और अंग्रेजी की भी तैयारी कराई। हौसला मिलने से सपनों के पंख लगाए पवन ने भी ठान लिया कि अब सफलता हासिल करनी है।

मन में जज्बा था लेकिन मजबूरियों ने रोके थे कदम : कोचिंग संस्थान के संचालक सचिन शर्मा ने बताया कि पवन कुमार ने बारहवीं में 74 प्रतिशत अंक हासिल किए हुए थे। इस प्रतिभा के पास मार्गदर्शन नहीं था और जब बातचीत की तो मन में जज्बा था। मजबूरी इतनी थी कि नौकरी भी जरूरी थी इसलिए इसके लिए तमाम व्यवस्था की गई। ऐसे विद्यार्थियों के लिए हम हमेशा तैयार है।

बारहवीं में 74 प्रतिशत नंबर, बहन की शादी के लिए थी पैसे की जरूरत
यूपी के जिला महोबा के गांव नैनहरा निवासी पवन ने वर्ष 2019 में यूपी बोर्ड से बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण कर 74 प्रतिशत अंक हासिल किए थे। छह सदस्यों के परिवार में तीन भाई एवं तीन बहन है और उससे बड़े भाई विरेंद्र व बलराम रेवाड़ी में नौकरी करते हैं। विरेंद्र का शहर में कैटरिंग का काम है जबकि बलराम एक फैक्ट्री में नौकरी करता था।

परीक्षा पास करने के 5 माह बाद बहन की शादी थी इसलिए परिवार ने कहा कि वह भी रेवाड़ी चलकर किसी फैक्ट्री में नौकरी कर ले। तत्पश्चात भाई विरेंद्र के पास आ गया था एक सप्ताह तक कई फैक्ट्रियां में संपर्क किया लेकिन कहीं पर काम नहीं मिला। इसके बाद शहर के कोनसीवास रोड पर कोचिंग संस्थान चलाने वाले सचिन शर्मा को ऑफिस ब्वाय की जरूरत थी तो उन्होंने पवन को रख लिया।

दो माह तक नौकरी करने के बाद पवन की अंकतालिका देखने के बाद सचिन शर्मा ने उनसे कुछ सवाल पूछे और क्लास में सवाल हल कराए तो मिनटों में हल कर दिए। पवन ने परिवार की स्थिति व बहन की शादी का हवाला देते हुए नौकरी जरूरी बताई तो उन्होंने बहन की शादी में भी सहायता के साथ ऑफिस ब्वाय का काम छुड़वा दिया और आईआईटी की तैयारी कराने के लिए क्लास ज्वाइन करा दी।

जेईई एडवांस में 4916वीं रैंक आईआईटी हमीरपुर में प्रवेश
जेईई एडवांस के घोषित परिणाम में पवन कुमार आल इंडिया स्तर पर एससी श्रेणी में 4916 वी रैंक हासिल की। सफल रहने के बाद पवन की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। तत्पश्चात अब काउंसिलिंग हुई तो मैकेनिकल इंजीनियर में हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर स्थित आईआईटी संस्थान में प्रवेश मिला है।

पवन ने बताया कि परिवार की हालत ऐसी भी नहीं थी कि काउंसिलिंग के लिए भी पैसों की भी व्यवस्था कर सके लेकिन सचिन शर्मा ने इसके लिए पूरी जिम्मेदारी निभाई। हरियाणा दिवस के उपलक्ष्य में रविवार को ऑल हरियाणा शेड्यूल कॉस्ट एम्प्लॉइज फेडरेशन की जिला इकाई नीट-2020 में सफलता हासिल करने वाले अनुसूचित जाति वर्ग के विद्यार्थियों को उनके घर जाकर सम्मानित किया।

फेडरेशन के वरिष्ठ उपप्रधान भगतसिंह सांभरिया की अगुवाई में गठित कमेटी में शामिल सदस्यों ने गांव बुडाना निवासी सुनील पुत्री डीगराम एवं सनसिटी निवासी साक्षी चहल पुत्री नरेश कुमार को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर सदस्यों ने अभिभावकों की मौजूदगी में सम्मान-पत्र , स्मृति चिह्न एवं पंचशील का पटका देकर सम्मानित किया गया। इस शुभ अवसर पर हजरस के पूर्व प्रधान आरपी सिंह दहिया, अमरजीत, नरेंद्र मेहरा, रणबीर सिंह, गजराज सिंह, कर्णसिंह नाहरवाल, ओमप्रकाश ढालियावास, राजेश सुलखा, हरिकृष्ण व प्रेमप्रकाश बुडाना मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...