जाम नहीं होंगी बाजार की सड़कें!:बाजार में बेरिकेडिंग, चारपहिया वाहन बैन; गाड़ियां जाम की वजह बनीं तो पुलिस उठा ले जाएगी

रेवाड़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोड पर खड़ी गाड़ी को ले जाती क्रेन। - Dainik Bhaskar
रोड पर खड़ी गाड़ी को ले जाती क्रेन।
  • प्लान बनाकर फील्ड में उतरी टीमें
  • अतिक्रमण के चालान किए, रॉन्ग पार्किंग की गाड़ियां भी क्रेन से उठवाई
  • व्यापारियों की मांग पर कार्रवाई - मनमर्जी तरीके से रेहडियां भी नहीं लगेंगी

शहर को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए आखिर पुलिस प्रशासन की टीमें फील्ड में उतर आई हैं। त्योहारी सीजन के मद्देनजर व्यापारियों के सुझाव मानते हुए पुलिस ने तुरंत बाजार में चारपहिया वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। इसके लिए मार्केट के प्रवेश द्वारों पर पुलिस ने बेरिकेडिंग की है। 3 दिन से नगर परिषद व पुलिस की टीमें हरकत में है।

सोमवार को चेयरपर्सन पूनम यादव की अगुआई में पार्षदों व अधिकारियों ने बाजारों का दौरा कर अतिक्रमण नहीं करने की अपील की तथा कार्रवाई की भी हिदायत दी थी। मंगलवार को बाजार खुलने से पहले ही नप की टीम पहुंची तथा कुछ रेहडियों को जब्त किया गया।

बुधवार को बारी पुलिस की रही। एसएचओ संजय कुमार व उनकी टीम बाजार में पहुंची। बाजार के मुख्य प्रवेश द्वारा भाड़ावास गेट व गोकलगेट पर बेरिकेड्स लगा दिए। इसके अलावा पुलिसकर्मियों की तैनाती के लिए भी निर्देश दिए।

दो मिनट की दूरी तय करने में लग जाते हैं 15-20 मिनट

शहर के मुख्य बाजार में जाम बड़ी समस्या है। इससे खुद दुकानदार भी परेशान हैं। कई बार तो हालात ये रहते हैं कि खरीददारी के लिए आने वाले ग्राहक बाइक लेकर बाजार में आसानी से घुस नहीं सकते। उन्हें 2-3 मिनट दूर दुकान पर पहुंचने में 15-20 मिनट या इससे भी ज्यादा का समय लग जाता है। इस जाम की वजह अतिक्रमण है।

कुछ दुकानदारों से शुरू होने वाला अतिक्रमण धीरे-धीरे कई दुकानों के बाहर नजर आता है। वाहनों के आगे से कुछ देर के लिए रास्ते ब्लॉक हो जाते हैं। संयुक्त व्यापार संगठन अतिक्रमण और रेहडियों को दुकानों से आगे से हटाने की मांग कर चुका है। आखिर तीन दिन से चल रही गतिविधि बुधवार को तेज नजर आई।

पुलिस की व्हीकल लिफ्टर गाड़ी (क्रेन) बाजार में पहुंची। यहां रॉन्ग पार्किंग में खड़ी गाड़ी को उठाकर ले भी गए। एक तरह से यह पुलिस का सर्वेक्षण था, जो अब आगे जारी रहेगा। यदि कोई गाड़ी जाम की वजह बनी तो पुलिस की गाड़ी उसे उठाकर थाने ले जाएगी तथा चालान किया जाएगा।

बाजार के लिए व्यवस्थाएं की गईं

10 घंटे प्रतिबंध : यूं तो पुलिस ने बाजार में गाड़ियों व लोडिंग वाहनों का समय तय नहीं किया है, मगर बाजार खुलने से पहले और बंद होने के बाद लोडिंग वाहनों को अनुमति होगी। यानी सुबह 9 से 7 बजे तक बैन समझिए।

पार्किंग : शहर में नगर परिषद कोई सार्वजनिक जगह नहीं बना पाई है। बाजार में चारपहिया वाहनों की एंट्री रोक दी गई है। इसलिए अग्रसेन चौक, झज्जर चौक, कानोड गेट की ओर ही गाडियां खड़ी कर बाजार में आएं।

पुलिस अलर्ट : मोती चौक व घंटेश्वर मंदिर के आसपास पुलिस व होमगार्ड की तैनाती की जाएगी। इससे आपराधिक गतिविधियों पर तो नजर रखी ही जा सकेगी, साथ ही अतिक्रमण पर भी नियंत्रण रहेगा।

पीली पट्‌टी खींचने का विचार

नगर परिषद चेयरपर्सन पूनम यादव का कहना है कि बाजार का दौरा कर व्यवस्था देखी तो बुरा हाल मिला था। अतिक्रमण फैलाया गया था। इस पर व्यापारियों से अपील की थी कि अतिक्रमण ना फैलाएं, इससे सभी को परेशानी होती है। अब सख्ती की जा रही है। दुकानों के आगे पीली पट्टी खींचकर दायरा तय करने पर भी विचार है। पट्‌टी से बाहर सामान रखने पर चालान किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...