बहादुरगढ़ में 5 लाख का डोडा पोस्त पकड़ा:2 ट्रकों में लदे थे 101 किलो 370 ग्राम नशे के कट्‌टे; दिल्ली पहुंचनी थी खेप, राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से लाए थे

बहादुरगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बहादुरगढ़ पुलिस की गिरफ्त में तीनों तस्कर और बरामद हुए डोडा पोस्त के कट्‌टे। - Dainik Bhaskar
बहादुरगढ़ पुलिस की गिरफ्त में तीनों तस्कर और बरामद हुए डोडा पोस्त के कट्‌टे।

दिल्ली से सटे बहादुरगढ़ में CIA टीम ने डोडापोस्त की बड़ी खेप पकड़ी है। अंतरराज्यीय गिरोह से जुड़े तीन तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया है। यह खेप ट्रकों के जरिए राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से लाई गई थी और दिल्ली में पहुंचनी थी, लेकिन इससे पहले ही पुलिस ने उन्हें काबू कर लिया। पुलिस ने दोनों ट्रक ड्राइवरों के अलावा खलासी को भी काबू किया है। आरोपियों के खिलाफ बहादुरगढ़ सदर थाना में एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।

झज्जर एएसपी अमित यशवर्धन ने बताया कि पकड़े गए दो आरोपी उत्तर प्रदेश और एक पंजाब का रहने वाला है। तीनों के कब्जे से 101 किलो 370 ग्राम डोडा पोस्त और दो ट्रक बरामद किए गए हैं। आरोपी नशे का सामान राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से लाते थे और दिल्ली के पंजाबी बाग क्षेत्र में सप्लाई करते थे। एएसपी ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों की पहचान पंजाब अमृतसर निवासी गुरमीत और यूपी बिजनौर के अफजलगढ़ निवासी हरजीत व वारणसी निवासी नसरुद्दीन के रूप में हुई है।

बहादुरगढ़ पुलिस द्वारा पकड़े गए ट्रक।
बहादुरगढ़ पुलिस द्वारा पकड़े गए ट्रक।

रास्ते में झज्जर में रुककर की थी नशे की सप्लाई

आरोपी पिछले लंबे समय से नशा तस्करी में संलिप्त थे। ये मुंबई से राशन का सामान ट्रकों में भरकर दिल्ली लाते थे और इसी दौरान रूट बदल कर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से नशीले पदार्थ लेकर दिल्ली में सप्लाई करते थे। एएसपी अमित यशवर्धन का कहना है कि आरोपी झज्जर जिले से गुजरते वक्त भी थोड़ी बहुत मात्रा में नशीले पदार्थों की सप्लाई कर चुके हैं और आगे जाने पर सीआईए टीम ने इन्हें रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। तलाशी के दोरान ट्रकों से डोडा पोस्त के कट्‌टे बरामद हुए।

5 लाख रुपए है डोडा पोस्त की कीमत

पकड़े गए डोडा पोस्त की कीमत करीब 5 लाख रुपए बताई जा रही है। इतना ही नहीं पुलिस को तस्करी में इस्तेमाल दो ट्रक मिले हैं। फिलहाल पुलिस ने पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है। तीनों तस्करों को रिमांड पर लेने के प्रयास किए जाएंगे, ताकि पुलिस नशे की तस्करी में शामिल अंतरराज्यीय गिरोह के अन्य सदस्यों तक पहुंच सके। पुलिस को तस्करों से प्रारंभिक पूछताछ में उन्हें नशीला पदार्थ सप्लाई करने वाले और खरीदने वाले लोगों के नाम भी पता चले हैं।

खबरें और भी हैं...