पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विजयदशमी पर रावण दहन:रावण दहन न होने से पहली बार मैदान क्रिकेट के लिए रहा खाली, गली-मोहल्लों में निभाई परंपरा

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले 50-100 फीट के पुतले दहन होते थे, इस बार गलियों में 3 से 15 फीट के ही बने पुतले
  • 2010 से पहले मार्केट कमेटी के सामने रामलीला ग्राउंड में व 2013-14 से हुडा ग्राउंड में होता आ रहा है दहन

इतिहास में पहली बार दशहरा (विजयदशमी) पर जिला स्तर के बड़े समारोह के साथ होने वाले रावण दहन के कार्यक्रम नहीं हुए। हर वर्ष की तरह हजारों लोग रावण के पुतले के रूप में बुराई को जलते देखने के साक्षी नहीं बन पाए। जहां दशहरा पर पैर रखने की जगह नहीं होती थी, वो पूरा मैदान बच्चों के क्रिकेट खेलने के लिए खाली रहा।

कोरोना वायरस ने जनजीवन के साथ तीज- त्योहारों को भी प्रभावित किया है। रामलीलाओं का भी मंचन नहीं हो पाया था। अब दहन के साथ ही दशहरा मेले भी नहीं लग पाए। हालांकि बेशक सचिवालय के पीछे का मैदान इस बार रावण दहन का गवाह न बना हो, मगर बच्चों ने इस परंपरा को फिर भी टूटने नहीं दिया। शहर से लेकर गांव तक बच्चों और युवाओं ने रावण के पुतले बनाए और दहन किया।

मेलों में खरीदादारी नहीं हो पाई, मगर पर्व का उत्साह छोटे-छोटे रूप में जिले भर में नजर आया। इधर, बाजार में अन्य दिनों की तुलना में ग्राहकों की संख्या कुछ बढ़ी नजर आई। रविवार के बावजूद बाजार खुले रहे और खूब बिक्री रही। दीपोत्सव तक ग्राहकों की संख्या बढ़ती है तो अर्थव्यवस्था में सुधार की उम्मीदें हैं।

2013-14 से इसी मैदान पर हो रहा दहन

वर्ष 2010 के पहले तक शहर के अग्रसेन चौक (भाड़ावास चौक) के निकट स्थित राजकीय बाल स्कूल के मैदान में रावण दहन होता था। जिसे रामलीला मैदान के नाम से जाना जाता रहा है।

शहरी आबादी बढ़ने पर रावण दहन के लिए पायलट चौक के पास खाली जगह उपलब्ध कराई गई। 2013-14 में सचिवालय के पीछे स्थित हुडा ग्राउंड में रावण दहन होता आ रहा है। रविवार को भी कुछ लोग बच्चों की जिद पर इस आस में मैदान को देखने आते रहे कि शायद छोटा-मोटा पुतला दहन कार्यक्रम किया जा रहा है, मगर मायूसी ही रही। यहां केवल कुछ बच्चे ही क्रिकेट खेलते नजर आए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें