पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रंगों की होली आज:कोरोना के चलते कम बिके रंग-गुलाल मेलों पर नजर रखेंगी प्रशासनिक टीमें, घर पर मनाएं त्योहार

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य सरकार ने बड़े आयोजनों पर लगाया हुआ है प्रतिबंध, दोपहर 2 बजे तक बंद रहेगा रोडवेज संचालन, इसके बाद चलेंगी बसें

रविवार को होलिका दहन के कार्यक्रम हुए। लोगों ने जगह-जगह होलिका का दहन कर भक्त प्रह्लाद को बचाने की परंपरा निभाई। महिलाओं ने दिन के समय होली पूजन किया तथा रात के समय दहन किया गया। होलिका की आंच में जौं की बालियों को भूनने की परंपरा भी पूरी की गई।

वहीं रंगों का त्योहार होली (दुल्हेंडी) आज (29 मार्च को) मनाया जाएगा। पहली बार यह त्योहार बड़ी पाबंदियों के बीच मनेगा। पिछली बार से ही कोरोना का असर शुरू हो गया था, मगर उस समय वायरस के डर से रंग-गुलाल के साथ ही खिलौनों की बिक्री 30 से 40 फीसदी तक कम रही थी। इस बार संक्रमण फैलने के चलते राज्य सरकार ने ही सार्वजनिक आयोजनों पर रोक लगा दी है। इस बार मेलों और आयोजनों पर पुलिस और प्रशासन की टीमें नजर रखेंगी।

इसके लिए डीसी यशेंद्र सिंह ने पत्र जारी कर अधिकारियों की ड्यूटी तय कर दी है। सोमवार को पर्व के चलते तकरीबन सेवाएं भी बंद रहेंगी। इसलिए यदि आप कहीं सफर के लिए योजना बना रहे हैं तो बसों की स्थिति पता करके ही घर से निकलें। इसके अलावा होली पर हुड़दंग से निपटने के लिए भी पुलिस प्रशासन ने निर्देश जारी किए हैं।

रोडवेज; दोपहर 2 बजे तक ड्यूटी के निर्देश
रोडवेज प्रबंधन की ओर से धुलेंडी पर डिपो में दोपहर 1 बजे तक तो बसों का संचालन बंद ही रहेगा। इसके बाद ही करीब 2 बजे तक बसों का संचालन हो पाएगा। ध्यान देने वाली बात ये है कि दोपहर बाद भी आम दिनों तरह बसें चलने की संभावना कम है। लोकल के साथ ही लंबे रूटों पर भी बसों की कमी रहेगी।

सब्जी मंडी बंद; दोपहर बाद कुछ दुकानें खुलेंगी
नई सब्जी मंडी व्यापारियों के अनुसार मंडी आम दिनों की तरह खुली नहीं रहेगी। पूरे दिन ही बंद रखा जाएगा। हालांकि दोपहर 1 बजे बाद कुछ दुकानदार दुकानें खोल भी सकते हैं। शॉपिंग मॉल भी दोपहर बाद खुले रहेंगे।

गैस-पेट्रोल; एजेंसियां बंद, पंप खुले रहेंगे
गैस एजेंसी संचालकों की ओर से हर होली पर ही सभी एजेंसियां बंद रखी जाती हैं। इनमें इंडेन और भारत दोनों ही एजेंसियां द्वारा छुट्टी की जाती है। वहीं ज्यादातर पेट्रोल पंप खुले रहेंगे। इनकी छुट्टी को लेकर किसी तरह की घोषणा नहीं है।

भाड़ावास के मेले में उमड़ते थे सर्वाधिक श्रद्धालु
जिला में धुलेंडी के अवसर पर सबसे बड़ा मेला गांव भाड़ावास में बाबा मोहनराम का आयोजित होता है। इस मेले में न केवल जिला अपितु पंजाब-राजस्थान के साथ दिल्ली और यूपी से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते थे। इसके अतिरिक्त जिला से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। इस बार यहां पर भी स्थिति यह है कि पाबंदियों के चलते श्रद्धालु नहीं आए। इतना अवश्य है कि आसपास के गांवों से श्रद्धालु आते हैं और कुछ समय बाद ही लौट जाते हैं। इसके बाद दूसरा बड़ा मेला गांव सीहा स्थित बाबा रामस्वरूदास का आयोजित होता है।

जिला के गांव भाड़ावास, बलवाड़ी और सीहा में आयोजित होते थे मेले लेकिन इस बार बाहरी राज्यों के श्रद्धालु नहीं आए
कोरोना आस्था पर भी भारी पड़ रहा है। संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन की तरफ से सार्वजनिक आयोजनों पर भी पाबंदी लगा दी है। इसका असर धार्मिक स्थलों पर भी पड़ा है, जिससे रंगों के इस त्योहार के उपलक्ष्य में होने वाले मेले भी पाबंदियों में आ गए हैं। मेलों पर पाबंदी लग गई जिसकी वजह से जहां इन मंदिरों में होली के दिन से ही श्रद्धालुओं का आना शुरू हो जाता था वह अब सूने पड़े हुए हैं। त्योहारों के उपलक्ष्य में आयोजित होने वाले इन मेलों की परंपरा सदियों से चली आ रही थी और यह पहली बार हो रहा है जब इन मेलों पर पाबंदियां लगाई है।

पिछले वर्ष भी लॉकडाउन से पहले ही होली होने के कारण इन यह मेले आयोजित हुए थे लेकिन अब मार्च माह में कोरोनो की तीसरी लहर के साथ ही इन धार्मिक स्थलों पर पाबंदियां लगा दी गई है। धुलेंडी के अवसर पर होने वाले इन मेलों में एक लाख तक श्रद्धालु पहुंचकर मनौती मांगते थे जिसके चलते राजस्थान, पंजाब, यूपी सहित अन्य राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं का यह दो दिनों से पहले आना प्रारंभ हो जाता था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें