समीक्षा / ई-लर्निंग मॉनीटरिंग फीडबैक : गांवों में ठीक से नहीं चल रहे एजुसेट प्रोग्राम, लंबे प्रश्नों को ऑनलाइन समझने में दिक्कत

X

  • डाइट प्राचार्य ने प्राध्यापकों से की गूगल मीटिंग, ई-लर्निंग कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान निकलकर सामने आई ये बातें
  • बहुत से अभिभावकों के पास एक ही फोन, बच्चों को समय पर नहीं मिल पा रहा होमवर्क

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:49 AM IST

रेवाड़ी. लॉकडाउन के कारण सभी अध्यापक छात्रों को घर से पढ़ाओ अभियान के अंतर्गत ई-लर्निंग के माध्यम से पढ़ा रहे हैं। इसी पढ़ाई की समीक्षा करने के लिए शनिवार को डाइट प्राचार्या संगीता यादव ने डाइट के अध्यापकों से गूगल मीटिंग एप के माध्यम से चर्चा की। साथ ही जिले में चल रहे शिक्षण अधिगम कार्यक्रम में आ रही कठिनाइयों और अन्य के बारे में जाना। डाइट के प्राध्यापक अनिल कुमार ने बताया कि मीटिंग के एजेंडे में डाइट प्राध्यापकों के द्वारा की जा रही मॉनिटरिंग के दौरान जो अनुभव प्राप्त हुए उनको साझा करने, छात्रों, अभिभावकों व अध्यापकों को पढ़ाने में आ रही कठिनाई के बारे में जानना तथा अब तक करवाए गए कार्य का आकलन कैसे किया जाए। इस पर मंथन करने, अध्यापकों के द्वारा अपनाई गई बेस्ट प्रैक्टिसेज, नई पहल के अनुभव साझा करने व अध्यापकों की अन्य समस्याओं के बारे में विचार साझा करना था।

इतिहास प्राध्यापक अनिल कुमार ने कहा प्राध्यापकों ने अपने अनुभव के आधार पर व छात्रों, अभिभावकों व अध्यापकों से रोजाना बातचीत कर विभिन्न बिंदुओं पर उनकी समस्याओं को जानने का प्रयास किया, जिसमें कई मुख्य बातें निकलकर सामने आई।  

ये हैं मुख्य समस्याएं
पहली यह कि ग्रामीण क्षेत्र में एजुसेट के प्रोग्राम ठीक प्रकार से नहीं चल रहे।
दूसरी है जिन स्कूलों में जिस विषय के अध्यापक नहीं है उन विषयों की पढ़ाई बाधित हो रही है।
तीसरी में छात्रों को बहुत लंबे प्रश्नों को ऑनलाइन शिक्षण में समझने में दिक्कत आ रही है।
चौथी में बहुत से अभिभावकों के पास घर में एक ही फोन होने के कारण बच्चों तक दिया गया कार्य समय पर नहीं पहुंच रहा, क्योंकि अभिभावक जब अपने दैनिक कार्य पर चले जाते हैं तो फोन उन्हीं के पास रहता है।
पांचवीं बहुत से अध्यापक अपने छात्रों के कांटेक्ट नंबर की लिस्ट उपलब्ध नहीं करवा रहे।
{छठी है छात्रों के मोबाइल नंबर अपडेट नहीं है। ऐसे में कइयों के पास कांटेक्ट ही नहीं हो पा रहा है।

प्राचार्य का प्राध्यापकों को निर्देश-छात्रों के आकलन के लिए गूगल प्रश्न पत्र करें तैयार

डाइट प्राचार्या ने सभी प्राध्यापकों को निर्देश दिए कि इस माह के अंतिम सप्ताह में छात्रों के आकलन के लिए गूगल प्रश्न पत्र तैयार करें। दूसरा जो अध्यापक अच्छा कार्य कर रहे हैं उनकी बेस्ट प्रैक्टिसेज, नई पहल को नोट करें व अन्य अध्यापकों के साथ साझा भी करें। तीसरा जिन अध्यापकों को किसी विषय में दिक्कत आ रही है तो आगे बढ़ते हुए उनकी सहायता करें। चौथा दीक्षा पोर्टल के लिए ई- कंटेंट तैयार करने के लिए ब्लॉक वाइज बीआरसी व एबीआरसी की एक टीम तैयार करें। इस मीटिंग में वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. वीर सिंह, डॉ. विश्वेश्वर, सुरेंद्र कुमार, राकेश कुमार प्राध्यापक, दीपक कुमार, रचना यादव, मधु चौहान, नरेश गुप्ता, रामफल शास्त्री व संगीता यादव ने भाग लिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना