कंवाली की हवेली में तीर के बाद निकले सिक्के:100 साल पुरानी हवेली से निकले सिक्के 70 से 80 साल पुराने, रेवाड़ी के गांव में 4 दिन से चल रही हवेली में खुदाई, पुरातत्व विभाग की टीम आएगी देखने

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के रेवाड़ी जिले के कंवाली गांव में 100 साल पुरानी हवेली में चल रही खुदाई के दौरान पुराने तीरों के बाद अब सिक्के निकले हैं। काफी मात्रा में निकले यह सिक्के 70 से 80 साल पुराने लग रहे है। देखने में यह सिक्के तांबे और दूसरी धातु से बने हुए लग रहे हैं। आसपास के गांवों के लोग इन सिक्कों को देखने कंवाली पहुंच रहे हैं। इसी हवेली से 4 दिन पहले खुदाई में 5 पुराने तीर निकले थे। इस बीच हवेली से पुरानी चीजें निकलने की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन ने तहसीलदार और गिरदावर को मौके पर भेजकर सिक्के और तीर अपने कब्जे में ले लिए। पता चला है कि शुक्रवार को पुरातत्व विभाग की टीम भी इस हवेली का दौरा कर सकती है।

कंवाली गांव में तकरीबन 100 साल पुरानी खंडहर हो चुकी हवेली का मालिक इसकी जगह नई हवेली बनाना चाहता है। इसलिए उसने जर्जर बिल्डिंग को तोड़ने का काम शुरू कराया। हवेली को तोड़ने का ठेका लेने वाले कंवाली गांव के ही सुभाष मिस्त्री ने बताया कि वीरवार को जब उसके मजदूर हवेली की खुदाई कर रहे थे तो यहां पुराने जमाने के कई सिक्के निकले। मजदूरों ने इसकी जानकारी दी तो उसने ये सारे सिक्के अपनी कस्टडी में ले लिए। हवेली से पुराने सिक्के और तीर मिलने की जानकारी पुरातत्व विभाग को भी दे दी गई। ऐसे में शुक्रवार को पुरातत्व विभाग की टीम कंवाली गांव पहुंच सकती है।

हवेली से मिले 5 तीर, नोक लोहे की

सुभाष ने बताया कि इससे पहले रविवार को खुदाई के दौरान हवेली में कई फीट नीचे दबे हुए 5 तीर मिले थे। मजदूरों के सूचना देने पर उसने तीरों को पूरी सावधानी से साफ करवाया। बांस की लकड़ी से बने इन तीरों की नोक लोहे की है। यह लोहा जंग लगने के बावजूद काफी अच्छी स्थिति में है।

गांव कंवाली की 100 साल पुरानी हवेली।
गांव कंवाली की 100 साल पुरानी हवेली।

गेट-खिड़कियां राजा-महाराजाओं के महलों जैसे

इस हवेली में पुराने जमाने की ईंटें, छत्त में लकड़ी के मोटे गॉर्डरनुमा स्लीपर और कातला-पट्टी लगे थे। हवेली की दीवारों पर गेट और खिड़कियां भी राजा-महाराजाओं के महलों की तरह बने थे। माना जा रहा है कि इस हवेली की खुदाई में आगे भी पुराने जमाने की कई और चीजें मिल सकती हैं। इस बीच ग्रामीणों का तो यहां तक दावा है कि हवेली से खुदाई में निकले तीर महाभारतकाल के हो सकते हैं। हालांकि जिला प्रशासन और पुरातत्व विभाग की ओर से इसकी कोई पुष्टि नहीं की गई।

खबरें और भी हैं...