3 दिन और बढ़ा वन वे ट्रायल:10 दिसंबर तक सर्कुलर रोड पर वन-वे ही रहेगा ट्रैफिक; DC, SP ने बैठक के बाद लिया निर्णय

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दोपहर बाद अधिकारी बैठक में आम लोगों के सुझाव पर चर्चा करेंगे। - Dainik Bhaskar
दोपहर बाद अधिकारी बैठक में आम लोगों के सुझाव पर चर्चा करेंगे।

रेवाड़ी शहरी में यातायात व्यवस्था को सुचारू रखने व जाम से मुक्ति दिलाने के लिए सर्कुलर रोड़ पर वन-वे पायलेट प्रोजेक्ट शुक्रवार, 10 दिसंबर तक जारी रहेगा। इसकी जानकारी मंगलवार को हुई समीक्षा बैठक में डीसी यशेंद्र सिंह ने दी। डीसी ने बताया कि शहर के राव अभय सिंह चौक पर अक्सर सड़क दुर्घटनाएं हो रही थी, ऐसे में सडक़ सुरक्षा के मध्य नजर उक्त चौक पर बेरिकेंटिंग सर्कल तैयार किया गया है।

डीसी ने बताया कि रेवाड़ी शहर के सरकूलर रोड के वन वे करने के पायलेट प्रोजेक्ट के तहत लोगों द्वारा विभिन्न प्रतिक्रियाएं भी सामने आई हैं और इन बातों को मद्देनजर रखते हुए व यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने के लिए आगामी 10 दिसंबर तक सरकुलर रोड़ पर वन वे ट्रेफिक को पायलेट प्रोजेक्ट के तहत जारी रखा जाएगा। साथ ही शुक्रवार, 10 दिसंबर को यातायात प्रबंधन के मद्देनजर एसपी राजेश कुमार व अन्य संबंधित विभागाध्यक्षों, व्यापारीगण, सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर यातायात प्रबंधन को ओर दुरूस्त करने की रूपरेखा सुनिश्चित की जाएगी।

डीसी ने कहा कि सरकूलर रोड पर जाम की स्थिति से निपटने के लिए प्रात: 7 बजे से लेकर रात 9 बजे तक भारी वाहनों का प्रवेश पूर्ण रूप से वर्जित रहेगा। उन्होंने निर्देश दिए कि कोई भी अपने वाहन को नो पार्किंग जोन में खड़ा न करें।

बता दें कि 1 दिसंबर से रेवाड़ी के सबसे व्यस्त सर्कुलर रोड को वन-वे किया था। एक सप्ताह तक ट्रायल बेस पर यहां वन-वे ट्रैफिक के कारण लोगों को बहुत हद तक जाम से निजात भी मिली। बड़ी समस्या यह खड़ी हो गई कि शहर के मेन बाजार में ट्रैफिक बढ़ गया। लंबा चक्कर लगाने की बजाय दोपहिया और छोटी कारें बाजार से निकल रही हैं, इसकी वजह से बाजार में जाम की समस्या खड़ी हो गई है।

लोगों के सुझाव पर होगी चर्चा

प्रशासन ने वन-वे का एक सप्ताह का ट्रायल रखा था। ट्रायल के दौरान सर्कुलर रोड पर एक बार भी जाम की स्थिति नहीं बनी। स्थानीय लोगों को कुछ परेशानियों का सामना अवश्य करना पड़ा। लोगों ने प्रशासन को वन-वे में संशोधन करने के कुछ सुझाव भी दिए गए हैं। वन-वे होने के कारण स्थानीय लोगों को अतिरिक्त सफर तय करना पड़ रहा है। जाम न लगने के कारण लोगों को वन-वे सिस्टम को सराहा भी है, लेकिन स्थानीय लोगों की समस्याओं विचार कर उन्हें दूर करने, सड़क से अतिक्रमण हटाने और पार्किंग की व्यवस्था जैसी मांग भी की जा रही है। मंगलवार को अधिकारियों की बैठक के बाद इसके आगे लागू करने के बारे में निर्णय लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...