पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंजाब के हड़ताली कर्मचारियों का हरियाणा में समर्थन:प्रदेश में रोडवेज कर्मचारियों ने दो घंटे किया प्रदर्शन, पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर सिंह के नाम GM के जरिए भेजा ज्ञापन

रेवाड़ी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हरियाणा के रेवाड़ी में बस स्टैंड पर प्रदर्शन करते रोडवेज कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
हरियाणा के रेवाड़ी में बस स्टैंड पर प्रदर्शन करते रोडवेज कर्मचारी।

पंजाब में कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मांग को लेकर चल रही PRTC व पनबस कर्मचारियों की हड़ताल को हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों का समर्थन मिला है। मंगलवार को प्रदेश में हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के आह्वान पर प्रदेश के विभिन्न शहरों में बस स्टैंड पर 2 घंटे विरोध प्रदर्शन किया गया। इसके साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अरमिन्द्र सिंह के नाम जीएम को ज्ञापन भी सौंपा गया, जिसमें कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मांग की गई हैं।

हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के पदाधिकारियों ने बताया कि हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन संबंधित सर्व हरियाणा कर्मचारी संघ, हरियाणा रोडवेज संयुक्त कर्मचारी संघ, इंटक द्वारा गठित तालमेल कमेटी की 9 सितंबर को कैथल में बैठक हुई थी, जिसमें पंजाब में 6 सितंबर से चल रही पंजाब रोडवेज के पनबस व PRTC के कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने व रोडवेज के बेड़े में 10 हजार बसें शामिल करने की मांग का समर्थन करते हुए विरोध प्रदर्शन का निर्णय लिया गया था।

प्रदर्शन करते हुए रोडवेज कर्मचारी।
प्रदर्शन करते हुए रोडवेज कर्मचारी।

मंगलवार को प्रदेशभर में रोडवेज कर्मचारियों ने सुबह 10 से 12 बजे तक बस स्टैंड पर प्रदर्शन किया। इस दौरान पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की गई। हरियाणा रोडवेज यूनियन के पदाधिकारियों ने कहा कि पंजाब सरकार को जल्द से जल्द पनबस व PRTC के कर्मचारियों के संयुक्त मोर्चा के साथ बातचीत करके उनकी मांगों को मानना चाहिए।

हरियाणा सरकार से भी 14 हजार बसें शामिल करने की मांग

रेवाड़ी में प्रदर्शन के दौरान तालमेल कमेटी ने हरियाणा सरकार से भी रोडवेज के बेड़े में 14 हजार नई बसें शामिल करने की मांग की है। इसके साथ ही कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मांग भी की। इस मौके पर प्रधान कैलाश गुर्जर, राजपाल यादव, रवि कुमार, शशि कुमार, राजबीर फोगाट, उधम सिंह, प्रवीन यादव आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...