पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यूनिवर्सिटी को हाईवे से जोड़िए:आईजीयू की हाईवे से सीधी कनेक्टिविटी नहीं, मुश्किल से पहुंचते हैं विद्यार्थी, 240 से ज्यादा को हॉस्टल भी नहीं मिलता

रेवाड़ी19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीएम के सामने सहकारिता मंत्री ने उठाया मुद्दा

इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय (आईजीयू) मीरपुर की किसी भी हाईवे से कनेक्टिविटी का मुद्दा आखिर सीएम के पास पहुंच चुका है। सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने रविवार को ही यूनिवर्सिटी में आयोजित समारोह के दौरान इस विश्वविद्यालय की सबसे बड़ी पीड़ा उठाई। संभवत: यह प्रदेश की इकलौती सरकारी यूनिवर्सिटी है, जो कि किसी भी स्टेट या नेशनल हाईवे के नजदीक भी नहीं है। यहां पहुंचने के लिए विद्यार्थियों को अच्छी खासी मशक्कत करनी पड़ती है।

परेशानी इसलिए भी ज्यादा है, क्योंकि यूनिवर्सिटी कैंपस में करीब 3500 विद्यार्थी पढ़ते हैं, जिनमें 80% छात्राएं हैं। जब कक्षाएं लगती हैं तो रेवाड़ी बस अड्डे से रोडवेज बसें संचालित होती हैं, मगर इतनी संख्या में नहीं होती कि सफर को पूरी तरह सुगम बना दे। हर बस में अच्छी खासी भीड़ जाती है। बहुत सी बसों में तो विद्यार्थी खिड़की पर भी लटके मिलते हैं। परेशानी सिर्फ ये नहीं है कि दूसरे जिलों और राज्यों के विद्यार्थियों के लिए यूनिवर्सिटी तक पहुंचने में समस्या रहती है, बल्कि जिले के ही अलग-अलग हिस्सों से यहां पहुंचना चुनौतीपूर्ण रहता है। परेशानी 15-20 किलोमीटर दूरी पर ही शुरू हो जाती है।

खबरें और भी हैं...