अनदेखी:गढ़ी बोलनी रोड पर 5 करोड़ से लगाई लाइटें 2 माह भी नहीं जली, काफी हुईं खराब, पहले की तरह छाया अंधेरा

रेवाड़ी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नप को हैंडओवर किए जाने से पहले कमेटी की देखरेख में की गई थी चालू, शहबाजपुर खालसा बस स्टॉप तक ही जलती हैं लाइटें

शहर के गढ़ी बोलनी रोड सहित अन्य मार्गों पर पीडब्ल्यूडी की तरफ से लगाई करोड़ों रुपए की लागत से लाइटों की गुणवत्ता सवालों में है। राजेश पायलट चौक से कसौला चौक तक की लाइटों को 2 माह पहले चालू किया गया था लेकिन अब आधी ही लाइटें अब चालू हालत में है। आधी लाइट बंद होने के कारण सड़क पर पहले की तरह ही अंधेरा छाया रहता है।

लोक निर्माण विभाग की तरफ से वर्ष 2019 में 5 करोड़ रुपए की लागत से शहर के राजेश पायलट चौक से कसौला चौक तक इन लाइटों को लगाया गया था। हालांकि अभी तक यह लाइटें नगर परिषद को हंस्तांतरित नहीं हुई हैं क्योंकि यह एरिया नप क्षेत्र की सीमा से बाहर है। इसकी वजह से नप इन्हें टेक ओवर करने से इंकार कर चुकी है।

इसी वजह से यह लाइटें 3 साल से बंद पड़ी हुई थी। दिसंबर 2021 में हुई मैराथन के दौरान इस मार्ग की लाइटों को चालू किया गया था। इसके लगभग एक माह तक कसौला चौक तक की यह लाइटें नियमित रूप से जल रही थी। अब इनमें लगभग आधे से भी अधिक लाइटें जल नहीं रही है और शेष आधे हिस्से तक की लाइटें जल रही है। हालांकि इसकी वजह अधिकारियों द्वारा तकनीकी खराबी बताया जा रहा है और इन पर किसी ध्यान भी नहीं दिया जा रहा है।

दो साल से सरकार के पास एस्टीमेट मंजूर ही नहीं : शहर में पिछले माह में लाइटों के मुद्दे को लेकर काफी गहमा-गहमी हुई थी जिसके पश्चात उपायुक्त को इस मामले में दखल देना पड़ा था। इसके बाद लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को शामिल करते हुए एक कमेटी का गठन किया गया था जिसके द्वारा इन लाइटों को चेक कराया गया था।

साथ ही पीडब्ल्यूडी ने इससे पहले सभी लाइटों को ठीक भी करा दिया था। इसमें गढ़ी बोलनी रोड की भी लाइटें ठीक हो गई थी। नगर परिषद राजेश पायलट चौक से आगे के हिस्से को टेकओवर करने से इंकार करने के बाद फिर इन लाइटों के दिन गर्दिश में आ गए हैं। ऐसे में अब केवल शहबाजपुर खालसा बस स्टैंड तक की लाइट जल रही है। वहीं पीडब्ल्यूडी की तरफ से कनेक्शन और बिल की अदायगी को लेकर दो साल पहले मुख्यालय को 27 करोड़ का एस्टीमेट भेजा हुआ है जो कि आज तक मंजूर ही नहीं हुआ है।

फाल्ट की वजह से ऐसा हो सकता है, फिलहाल बजट नहीं: जेई

गढ़ी बोलनी रोड की लाइटें विभाग के पास ही क्योंकि यह एरिया नगर परिषद के अधीन नहीं आता है। फिलहाल इन्हें अस्थायी तौर पर जलाया गया था। हालांकि लाइटें सभी जलाई गई थी और हो सकता है अब बारिश की वजह से फाल्ट या किसी अन्य कारण से नहीं जल रही है। फिलहाल बजट मंजूर नहीं हुआ है और मंजूर होने के बाद इन्हें पूरी तरह से जलाया जाएगा।-दिनेश सांगवान, जेई पीडब्ल्यूडी इलेक्ट्रिक विंग।

खबरें और भी हैं...