फसरों को सबक और हिदायत...:समीक्षा बैठक से गैरहाजिर 11 अधिकारियों को नोटिस, देरी से आने वालों की एंट्री रोकी

रेवाड़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एडीसी के सख्त तेवर, सीएम विंडो, सरल पोर्टल व ई-ऑफिस को लेकर बुलाई थी मीटिंग

मंगलवार को सीएम विंडो, सरल पोर्टल व ई-ऑफिस को लेकर जिला सचिवालय में बुलाई गई समीक्षा बैठक के दौरान एडीसी आशिमा सांगवान के तेवर सख्त नजर आए। बैठक में नहीं पहुंचने वाले विभिन्न विभागों के 11 अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिए गए।

इनमें ज्यादातर अधिकारियों ने एडीसी की महत्वपूर्ण बैठक में खुद मीटिंग में आने की बजाय जूनियर अधिकारी या कर्मचारियों को भेज दिया। इसी से नाराज एडीसी ने नोटिस के निर्देश दिए। वहीं बैठक में देरी से पहुंचने वाले अधिकारियों को भी मीटिंग हॉल में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई तथा दरवाजे बंद कर दिए गए।

सांगवान ने सभी विभागाध्यक्षों को सख्त निर्देश दिए कि वे बैठक में निर्धारित समय पर स्वयं उपस्थित होना सुनिश्चित करें न कि अपने प्रतिनिधि को बैठक में भेजें। उन्होंने बैठक में देरी से आने वाले अधिकारियों को बाहर का रास्ता दिखाते हुए मीटिंग से बाहर जाने के निर्देश दिए और कहा कि अधिकारी ठीक समय पर ही मीटिंग में आएं। बैठक में एसडीएम बावल संजीव कुमार, एसडीएम कोसली होशियार सिंह, सीटीएम रोहित कुमार, डीडीपीओ एचपी बंसल, सीएमजीजीए अमन वालिया सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

अधिकारियों को नोटिस का 3 दिन में देना है जवाब

एडीसी द्वारा ली जा रही मीटिंग में नहीं पहुंचने पर डीसी ने 11 अधिकारियों को नोटिस जारी किए हैं। इनमें दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के रेवाड़ी, कोसली, धारूहेड़ा के कार्यकारी अभियंता, पब्लिक हेल्थ रेवाड़ी, बावल व कोसली के एक्सईएन, रोडवेज महाप्रबंधक, डीआईसी महाप्रबंधक, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी व औद्योगिक सुरक्षा एंव स्वास्थ्य विभाग रेवाड़ी के सहायक निदेशक को नोटिए दिए हैं। इसका जवाब 3 दिन में देना होगा।

अच्छे काम को सराहा, सुधार के लिए प्रयास करें

सरल पोर्टल

एडीसी आशिमा सांगवान ने सरल पोर्टल की समीक्षा करते हुए कहा कि आम जनता को सेवा का अधिकार अधिनियम के दायरे में आने वाली सेवाओं को समय पर उपलब्ध कराने पर रेवाड़ी जिला लगातार प्रदेशभर में पहले स्थान पर है। सरल पोर्टल पर एक लाख 5 हजार 236 आवेदन हुए जिनमें से एक लाख 3 हजार 36 आवेदनों पर राइट टू सर्विस एक्ट के तहत सेवाएं प्रदान की जा चुकी हैं। उन्होंने बताया कि रेवाड़ी का स्कोर पूरे प्रदेश में 9.7 है।

सीएम विंडो

अतिरिक्त उपायुक्त ने सीएम विंडो की विभागवाईज समीक्षा करते हुए कहा कि सीएम विंडो पर पहले से अच्छा कार्य हुआ लेकिन अभी हमें इसमें और सुधार करने की आवश्यकता है। सीएम विंडो पर कुल 15 हजार 284 शिकायतें प्राप्त हुई है जिनमें से 14 हजार 820 शिकायतों का निपटान कर दिया गया है बाकि लम्बित शिकायतों का शीघ्र निपटान किया जाएं।

ई-ऑफिस

सभी विभागाध्यक्ष ई-ऑफिस प्रणाली के माध्यम से ही फाईलों का आदान-प्रदान करना सुनिश्चित करें। विभागाध्यक्ष ई-ऑफिस पर जिन कर्मचारियों की आईडी का प्रयोग नहीं होता उन्हें डि-एक्टिवेट करवाएं। ई-ऑफिस से कार्यालयों में सभी कार्य पेपरलैस व समयसीमा में होंगे तथा अधिकारियों की जवाबदेही तय होगी।

खबरें और भी हैं...