पेट्रोल ओवरस्पीड:पेट्रोल पहली बार 100 रुपए पार, 18 माह में 30 प्रतिशत हुई वृद्धि

रेवाड़ी19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पहले लॉकडाउन से अब तक पेट्रोल-डीजल 30 रुपए से ज्यादा महंगे हुए। - Dainik Bhaskar
पहले लॉकडाउन से अब तक पेट्रोल-डीजल 30 रुपए से ज्यादा महंगे हुए।
  • 9 माह में 18.94 रुपए बढ़कर 100.34 रुपए प्रति लीटर हुई पेट्रोल की कीमत

जिले में पहली बार प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत 100 रुपए के पार चली गई है। डीजल भी तेजी से बढ़ते हुए 90 के आंकड़े से आगे निकल गया है। कोरोना की दस्तक के साथ ही देश में लगे पहले लॉकडाउन के बाद से ही तेल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। तब से अब तक पेट्रोल और डीजल दोनों के ही दामों में 30 रुपए से ज्यादा वृद्धि हो चुकी।

25 मार्च 2020 को पेट्रोल 69.89 रुपए व डीजल 61.76 रुपए था, जबकि गुरुवार को पेट्रोल 100.34 रुपए और डीजल 91.94 रुपए प्रति लीटर रहा। हालांकि प्रीमियम पेट्रोल और नॉर्मल पेट्रोल में ऑक्टेन (एक तरह का कैमिकल) का अंतर होता है। प्रीमियम में ऑक्टेन की मात्रा नॉर्मल पेट्रोल से से कुछ प्रतिशत अधिक होती है। इससे पेट्रोल की शुद्धता बढ़ती है। इसकी कीमत जुलाई में ही 100 रुपए 99 पैसे हो चुकी थी।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों का प्रभाव लोगों पर किस तरह पड़ रहा है, इसका अंदाजा टैक्सी बुकिंग से ही लगा सकते हैं। पहले छोटी टैक्सी (कार) का किराया एसी और नॉन-एसी के हिसाब से 8-10 रुपए प्रति किलोमीटर के बीच लिया जा रहा था। जबकि जुलाई में ही 11-12 रुपए मांगा जाने लगा।

यदि दिल्ली-रोहतक जैसे शहरों के लिए टैक्सी करते हैं आने-जाने में 200 किलोमीटर भी टैक्सी चली तो 12 रुपए के हिसाब से 2400 रुपए देने पड़ रहे थे। जबकि पहले 9 रुपए के हिसाब से 1800 लगते थे। अब इसमें और बढ़ोतरी होने की चिंता है। यानी कि जेब पर 500 से 600 से ज्यादा है।

जुलाई में वृद्धि थमी, अब अचानक बढ़े

2020 में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ते आ रहे थे। वर्ष 2021 तो और भी तेजी लेकर आया। इस जनवरी में 9, फरवरी, मई और जून में 16-16 बार कीमतें बढ़ी। जबकि मार्च व अप्रैल में दाम नहीं बढ़े। जुलाई में कीमतों में वृद्धि रुक गई थी। उस सयम विपक्ष ने भी महंगाई को जमकर मुद्दा बनाया था। अब सप्ताहभर से अचानक ही बढ़ोतरी शुरू हो गई तथा पेट्रोल 100 पार पहुंच गया। इस साल अब तक 70 बार से ज्यादा दाम बढ़े हैं।

18 महीने में 30.34% वृद्धि

मार्च 2020 से अब तक के 18 माह में पेट्रोल 30.34% महंगा हो चुका है। जिस तेजी से जून तक बढ़ोतरी हो रही थी उससे अगस्त में ही पेट्रोल के रेट 100 रुपए प्रति लीटर पार हो जाने के आसार थे, मगर करीब ढाई माह राहत रही। चालू वर्ष 2021 के शुरूआती 9 माह में ही पेट्रोल की कीमतों में 18.94 रुपए का उछाल आ चुका है। तेल की कीमतें बढ़ने का असर माल-भाड़ा और अन्य चीजों के दामों पर भी पड़ता है। यह पूरा बोझ आम आदमी पर ही आता है।

खबरें और भी हैं...