एडवाइजरी:सावधान! बूस्टर डोज के नाम पर हो रही साइबर ठगी; किसी से साझा ना करें सीवीवी और ओटीपी

रेवाड़ी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डोज लगाने के रजिस्ट्रेशन कराने पर फ्री रिचार्ज का भी दे रहे झांसा

कोविड-19 की तीसरी लहर से बचाने के लिए सरकार द्वारा बुजुर्गों व फ्रंट लाइन वर्करों को बूस्टर डोज दी जा रही है। साइबर ठग इस फायदा उठा कर लोगों को ठग सकते हैं। इसी केा लेकर एसपी राजेश कुमार ने लोगों से सावधान रहने की अपील करते हुए एडवाइजरी जारी की है। साइबर ठग बूस्टर डोज लगाने के नाम पर ठगी कर सकते हैं। कई राज्यों में बूस्टर डोज के नाम पर ठगी करने के मामले सामने आए हैं।

एसपी ने कहा कि ठग कोरोना वैक्सीन व बूस्टर डोज के फर्जी मैसेज व लिंक भेजकर बैंक डिटेल, ओटीपी नंबर लेकर खातों से रुपए निकाल लेते हैं। ऐसे में लोग अपना ओटीपी नंबर, खाता नंबर या अन्य जानकारी किसी से शेयर न करें। अनजान नंबरों से आने वाले मैसेज का प्रति उत्तर न दें। किसी से भी सीवीवी, ओटीपी और क्रेडिट कार्ड का नंबर साझा न करें। अपनी पर्सनल जानकारी और आधार संख्या किसी के साथ शेयर न करें।आम लोगों को ठगी से बचने के कुछ बातों का ध्यान भी रखने की जरूरत है।

रजिस्ट्रेशन के लिए ना करें कोई एप डाउनलोड

अपने बूस्टर डोज के रजिस्ट्रेशन के लिए किसी भी तरह का मोबाइल एप डाउनलोड न करें। जिस तरह वैक्सीन लगवाने के लिए आरोग्य सेतु एवं कोविन एप पर रजिस्ट्रेशन होता था या आप सीधे टीकाकरण केंद्र पर जाकर वैक्सीन लेते हैं, उसी तरह की प्रक्रिया बूस्टर डोज के लिए भी होगी।

सरकार कभी भी आपसे ऐसी गतिविधियों के लिए कोई भी थर्ड पार्टी ऐप डाउनलोड करने के लिए नहीं कहती है। साइबर ठग बूस्टर डोज लगाने के रजिस्ट्रेशन कराने पर कुछ मोबाइल कंपनियों के फ्री रिचार्ज का झांसा भी दे रहे हैं। इस तरह के किसी भी एसएमएस या फोन काल से सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि इससे साइबर ठग धोखाधडी कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...