अंतरराष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव 2021:बीन, जोगी-जंगम व डेरू वाद्य यंत्रों के साथ होंगी गीता की प्रस्तुतियां

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाल भवन परिसर में 12 से 14 दिसंबर तक गूंजेगा गीता का संदेश। - Dainik Bhaskar
बाल भवन परिसर में 12 से 14 दिसंबर तक गूंजेगा गीता का संदेश।

कुरुक्षेत्र की रणभूमि पर भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को दिया गया गीता का संदेश जिला स्तर पर पीतल नगरी में गुंजायमान होगा। गीता के कर्मयोग संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के लिए प्रदेश सरकार ने आजादी का अमृत महोत्सव की श्रृंखला में 12 से 14 दिसंबर तक मॉडल टाउन स्थित बाल भवन में जिलास्तरीय गीता जयंती महोत्सव मनाने का निर्णय लिया है।

महोत्सव के दौरान प्रदेश के पारंपरिक जोगी-जंगम, डेरू, बीन इत्यादि वाद्य यंत्रों व विधाओं का भी प्रदर्शन किया जाएगा ताकि नई पीढ़ी भी हमारी इन प्राचीन विधाओं से रूबरू हो सके। वहीं नगर शोभा यात्रा में व्यापार मंडल व अन्य सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं की भागीदारी भी प्रभावी रूप से रहेगी। बैठक के बाद एडीसी आशिमा सांगवान ने गीता जयंती महोत्सव स्थल का दौरा कर निरीक्षण किया।

इस अवसर पर एसडीएम बावल संजीव कुमार, सीटीएम रोहित कुमार, डीएसपी हंसराज, डीडीपीओ एचपी बंसल, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश कुमार, कपिल पुनिया, जिला कार्यक्रम अधिकारी संगीता, एक्सईएन सचिन भाटी, तहसीलदार प्रदीप देशवाल, एआईपीआरओ सुरेश कुमार गुप्ता, डीआईओ सुनील कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

जिलास्तरीय महोत्सव को लेकर एडीसी ने ली अधिकारियों की बैठक

आयोजन को लेकर सोमवार को लघु सचिवालय स्थित सभागार में एडीसी आशिमा सांगवान की अध्यक्षता में जिला के सभी विभागाध्यक्षों की बैठक हुई। बैठक में एडीसी ने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए महोत्सव की तैयारियों को अंतिम रूप देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनभागीदारी से गीता जयंती महोत्सव को भव्य एवं गरिमामयी ढंग से आयोजन करवाया जाए।

उन्होंने कहा कि गीता जयंती महोत्सव 2021 में हवन यज्ञ, गीता पूजन, सेमिनार, सांस्कृतिक कार्यक्रम, विभागीय प्रदर्शनी, नगर शोभा यात्रा को मनोहारी बनाया जाए। बाल भवन परिसर को गीतापुरम का रूप दिया जाएगा। इसमें महोत्सव के पहले दिन 12 दिसंबर को हवन यज्ञ, प्रदर्शनी व सांस्कृतिक कार्यक्रम, दूसरे दिन 13 दिसंबर को प्रदर्शनी, सांस्कृतिक कार्यक्रम व सेमिनार तथा तीसरे दिन 14 दिसंबर को नगर शोभा यात्रा व सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ विधिवत रूप से गीता जयंती महोत्सव का समापन सम्मान समारोह के साथ होगा। उन्होंने निर्देश दिए कि गीता जयंती महोत्सव में आमजन, विद्यार्थियों और प्रबुद्धजनों की भागीदारी सुनिश्चित की जाए।

खबरें और भी हैं...