पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rewari
  • Purchases From 6368 Farmers In 20 Days, Average 303 Farmers Called Daily; That Means It Will Take 5 Months To Purchase The Registered 47000

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाजरा खरीद की धीमी गति:20 दिन में 6368 किसानों से खरीद, रोज औसत 303 किसान बुलाए; यानी पंजीकृत 47000 की खरीद में 5 महीने लगेंगी

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला में इस बार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर बाजरे की बिक्री करने के लिए लगभग 47 हजार किसानों ने पंजीकरण कराया हुआ है। एमएसपी पर बाजरा खरीदने के लिए जिले में रेवाड़ी, कोसली व बावल मंडी में एक अक्टूबर से खरीद प्रक्रिया शुरू है। अब पिछले दिनों ही जाटूसाना में भी अस्थाई केंद्र शुरू हुआ है। लेकिन अब तक खरीद पर नजर दौड़ाए तो शेड्यूल धीमी गति से ही चल रहा है।

अब तक 21 दिनों में मात्र 6368 किसानों का ही बाजरा खरीदा गया है, जबकि जिले में पंजीकरण 8 गुना है। अभी तक की खरीद के अनुसार रोज 303 किसान बुलाए जा रहे हैं। इस हिसाब से 47 हजार किसानों की उपज खरीदने में 5 माह लग जाएंगे। अंतिम निर्धारित तिथि 15 नवंबर तक के 25 दिनों में 15 हजार किसानों का भी बाजरा नहीं बिक्री नहीं हो सकेगा। हालांकि खरीद अधिकारियों का कहना है कि शेड्यूल में हर दिन किसानों की संख्या बढ़ाई जा रही है। इस समय रेवाड़ी व बावल में सवा तीन सौ और कोसली में लगभग 500 किसानों का रोस्टर बना दिया है। इधर, इस बार ऑनलाइन टोकन प्रणाली भी किसानों के लिए परेशानी का कारण बनी हुई है।

रोस्टर बढ़वाने को किसान संगठन उठा रहे मांग
बाजरे की खरीद व्यवस्था में तेजी लाने और प्रत्येक मंडी में किसानों के बाजरे की बिक्री के लिए रोस्टर बढ़वाने की मांग को लेकर विभिन्न किसान यूनियनों की ओर से धरना-प्रदर्शन भी किया जा रहा है। बावल मंडी में कई दिनों से धरना जारी है। वहां मंडी में खरीद में तेजी लाने के लिए ही 23 को महापंचायत भी है। इसके अलावा जय किसान आंदोलन की ओर से रेवाड़ी नई अनाज मंडी में धरना दिया जा रहा है। उनकी भी मांग रोस्टर बढ़ाने की है।

किसान के पास चरखी दादरी में बाजरे की बिक्री करने का पहुंचा मैसेज, पोर्टल पर नहीं मिला नाम

बाजरे की सरकारी समर्थन मूल्य पर बिक्री में ऑनलाइन पोर्टल के कारण शुरूआत से ही किसानों के लिए परेशानी रही है। किसी का बाजरे का टोकन कम निकला तो किसी का मैसेज ही दूसरे जिले का भेज दिया गया। बासदूदा निवासी किसान सुनील को भी चरखी दादरी में बाजरे की बिक्री करने का मैसेज भेज दिया गया। जब वह निर्धारित दिन 19 अक्टूबर को रेवाड़ी मंडी में बाजरे की बिक्री करने पहुंचा तो पोर्टल पर कहीं भी नाम नहीं मिला। सुनील ने बताया कि बाजरे की सरकारी समर्थन मूल्य पर बिक्री करने के लिए खुद के नाम व पिता रंगराव के नाम से पोर्टल पर पंजीकरण करवाया था।

उनके पास 19 व 21 अक्टूबर को चरखी दादरी मंडी में बाजरे की बिक्री करने का मैसेज पहुंचा था। सुनील ने अब अपने बाजरे की बिक्री जल्द करवाने के लिए मार्केट कमेटी के माध्यम से जल्द समाधान की मांग भी रखी है। इसके लिए चंडीगढ़ पत्र भी लिखा है। इधर, मार्केट कमेटी के सचिव सत्यप्रकाश का कहना है कि इस संबंध में किसान के बाजरे की बिक्री के लिए चंडीगढ़ अवगत करा दिया गया है। पत्र भी भेजा गया है और उम्मीद है जल्द ही समाधान हो जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें