पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाईपास प्रोजेक्ट:3.88 किमी लंबे कोसली बाईपास को लेकर रेवाड़ी-झज्जर के अधिकारियों ने की बैठक

रेवाड़ी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोसली बाईपास की जमीन को लेकर विचार विमर्श करते अधिकारी। - Dainik Bhaskar
कोसली बाईपास की जमीन को लेकर विचार विमर्श करते अधिकारी।
  • डीसी बोले- जमीन के सही रेट तय करें भू-मालिक

कोसली बाईपास के विस्तारीकरण को लेकर बुधवार को कोसली स्थित मिनी सचिवालय में डीसी यशेंद्र सिंह और झज्जर के उपायुक्त श्याम लाल पूनिया की अध्यक्षता में दोनों जिला के अधिकारियों और भू-मालिकेां की संयुक्त बैठक हुई। बैठक में भू स्वामियों से जमीन के रेट को लेकर सुझाव मांगे।

बैठक में मुख्य रूप से बाईपास के लिए भूमि के रेट को लेकर विचार विमर्श हुआ और अब तक दोनों जिलों में इस परियोजना पर चल रहे कार्य की समीक्षा की गई। डीसी यशेंद्र सिंह ने कहा कि बाईपास इस क्षेत्र में विकास के नए द्वार खोलेगा, इसलिए भू मालिक सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़े।

डीसी ने गांव सादतनगर और गांव धनिया के उन ग्रामीणों से बात की। जिनकी जमीन की बाईपास के विस्तार को लेकर सरकार द्वारा खरीद की जानी है। जमीन को लेकर झज्जर और जिला रेवाड़ी के उपायुक्तों ने दोनों गांवों के भू स्वामियों से जमीन के रेट को लेकर आपसी सहमति बनाने पर सुझाव मांगे।

उन्होंने कहा कि जमीन खरीद को लेकर भू स्वामियों के हितों का पूरा ख्याल रखा जाएगा। ऐसे में जमीन मालिक भी अपने जमीन का सही भाव तय करना सुनिश्चित करें,ताकि योजना को सिरे चढ़ाया जा सके।

विस्तारीकरण का होना है काम

कोसली बाईपास के विस्तारीकरण के चलते कोसली-साल्हावास रोड पर धनिया मोड से लेकर कोसली, नाहड, कनीना मार्ग तक निर्माण किया जाना है। इसकी कुल लंबाई लगभग 3.88 किलोमीटर है। बाईपास में धनिया गांव की भी भूमि का हिस्सा आता है।

इस मौके पर एसडीएम झज्जर शिखा, पीडब्ल्यूडी रेवाड़ी के अधीक्षक अभियंता वीएस मलिक, कार्यकारी अभियंता सचिन भाटी, जिला राजस्व अधिकारी राजेश ख्यालिया, तहसीलदार कोसली जितेंद्र कुमार, नायब तहसीलदार अरूणा कुमारी, एसडीओ अजीत सिंह, कनिष्ठ अभियंता युद्धवीर सिंह सहित दोनों गांवों के मौजिज लोगों सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...